f

100% Constipation Treatment – 21 Home Remedies Hindi

Ad Blocker Detected

Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by disabling your ad blocker.

Today we are going to share something useful about normal and chronic constipation treatment with home remedies in Hindi language. There’s is no way to treat constipation for permanently (relief). Yes fast ayurvedic remedies & medical medicines can cure every type of constipation but here we are trying to tell you that if you continue’s living a unnatural and unhealthy lifestyle than there nobody can help you.

To cure permanently constipation kabj you should have to start living in natural way. (chronic constipation will be automatically and naturally treated). Now here we are posting some most effective fast constipation home remedies in Hindi they are 100% ayurvedic and natural. Now lets talks about kabz ayurvedic remedies in hindi language.

कॉन्स्टिपेशन जिसे हम हिंदी भाषा में कब्ज, क़ब्ज़, कब्जियत कहते हैं, यह एक महारोग हैं या यूँ कहें की यही सभी रोगों व बिमारियों की जड़ होती हैं. यह हम नहीं कह रहे बल्कि आयुर्वेदा और कई अन्य सेहत से सम्बंधित शास्त्र कब्ज के बारे में ऐसा ही कहते हैं. इसीलिए डॉक्टर्स भी किसी भी रोग का इलाज करने से पहले कब्ज कॉन्स्टिपेशन का इलाज करते हैं.

kabj

यह रोग आंतों की गबड़बी के कारण होता हैं. कॉन्स्टिपेशन हो जाने पर मल सरलता, आसानी से नहीं निकलता. जमा हुआ मल आंतों में सड़ा करता हैं. इस रोग के ख़ास कारण यह होते हैं – रात को देर से सोना, किसी चीज का डर बना हुआ रहना, दुखी रहना, किसी भी चीज का शोक रहना, बुखार के कारण, पीलिया के कारण, भोजन कम करने के कारण, गरिष्ठ गाढ़ा भोजन करने के कारण, ज्यादा चाय, कॉफ़ी, शराब पिने के कारण, शारीरिक श्रम न करने के कारण, खाना खाने के बाद सो जाने के कारण, भोजन करने के देर बाद भी पानी नहीं पिने के कारण, समय पर शौच न करने के कारण आदि.

Best Constipation Treatment in Hindi At Home With Ayurveda & Remedies

कॉन्स्टिपेशन से होने वाली बीमारियां और इसके लक्षण

कॉन्स्टिपेशन रोग हो जाने पर बुखार, सर में दर्द, भोजन में अरुचि, भूख कम लगना, बेचैनी महसूस होना, जी मिचलना, पेट में दर्द होना, पेट में वायु भरना, शरीर में थकावट आना आदि. अगर constipation ज्यादा समय तक बना रहे और इसका जरा भी treatment/इलाज न करवाया जाए तो यह कई तरह की बिमारियों को पैदा कर सकता हैं. जिससे रोगी की मौत भी हो सकती हैं. कई बार constipation का treatment नहीं करवाने पर (कॉन्स्टिपेशन से होने वाले गंभीर रोग) बवासीर रोग, पीलिया रोग आदि हो सकते हैं.

हम यहां आपको natural and ayurvedic treatment of constipation के बारे में बता रहे हैं. यह home remedies बहुत ही effective असरकारी हैं. इनके जरिये आप कुछ ही दिनों में constipation से relief पा सकते हैं. कब्ज के लिए सिर्फ यही आयुर्वेदिक रेमेडीज ही एक मात्रा सरल व आसान तरीका है जिससे कोई भी व्यक्ति घर पर ही इस रोग से छुटकारा पा सकता है. Get relief from constipation instantly at home.

constipation treatment in hindi, constipation treatment in hindi at home

  • कॉन्स्टिपेशन के रोगी इन बातों पर विशेष ध्यान दें. How to remove constipation for permanently.
  • रोजाना सुबह खाली पेट 3 गिलास से अधिक पानी पिए. उष्ण पान करे.
  • भोजन करने के बाद 1 किलोमीटर पैदल चले.
  • भोजन के साथ दही का सेवन करे
  • पानी भरपूर मात्रा में पिए, शरीर में पानी की कमी न आने दे
  • खाना खाने वक्त हर एक कौर को चबा-चबा कर खाये
  • भोजन करते वक्त बार बार पानी न पिए, व भोजन करने के 45 मिनट बाद पानी पिए. इस बिच तेज प्यास लगे तो ही पानी पिए.
  • ठन्डे पानी से नाहये
  • शारीरिक श्रम करे. GYM join करे या किसी खेलकूद में हिस्सा लें. रोजाना कसरत के जरिये पसीना बहाये.

Constipation Home Remedies Hindi Me & All Type Treatment

ऐलोपैथिक चिकित्सा Allopathic treatment for constipation

लॅक्सिंडों (Laxindon tablet) – इसे सिर्फ बड़ी उम्र के व्यक्ति को ही दें. रात को सोते समय अपनी जरुरत के मुताबिक कॉन्स्टिपेशन के पेशेंट को 2-3 टेबलेट का सेवन करवाए.

आई सो जेल (I-So-Gel) – best for pregnant women and children’s constipation treatment. यह दवा बच्चों और महिला की गर्भावस्था (pregnancy) के दौरान दी जा सकती यह इनके लिए खासकर लाभदायक होती हैं.

क्रिमोफोने लिक्विड (Cremofin liquid) – रोजाना रात को सोते समय पर 2 से 4 चम्मच तक गर्म पानी के साथ लें. कुछ ही दिनों के प्रयोग से constipation का treatment हो जायेगा और relief मिल जाएगी.

मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया (Milk of magnesia) – इसे रात को सोते समय 2 बड़े चम्मच भर की मात्रा में लेकर के सेवन करे.

सिनेड टेबलेट (Sinad) – रात को सोते समय अपनी जरुरत के हिसाब से जिस तरह की कब्ज (chronic constipation) हो उसके मुताबिक व वयस्कों को 2 टेबलेट सेवन करवाए.

अगरोल (Agarol) – इसे भी आप रोजाना रात को सोते समय 2 से 4 चम्मच तक गर्म पानी के साथ ले सकते हैं. कॉन्स्टिपेशन में बहुत लाभ होगा.

बच्चों को 2-3 ग्राम (1 चाय का चम्मच के जितना, एक बार में) वयस्कों ज्यादा उम्र के व्यक्ति के लिए 4-6 ग्राम (2 चाय के चम्मच जितना) दिन में एक बार या chronic constipation होने पर दिन में दो बार सुबह व शाम ली जा सकती हैं. प्रेगनेंसी के दौरान किसी चिकित्सक की सलाह लेकर ही यह दवा लें.

जुलस टेबलेट (Julax) इसे भी भी सिर्फ बड़ी उम्र के व्यक्तियों को ही सेवन करवाए. रात को सोते समय एक या दौ टेबलेट का सेवन करे. यह allopathic treatment for constipation की दवाई हैं, इनके प्रयोग से कब्जियत से छुटकारा बड़ी आसानी से मिल जाता हैं.

Ayurvedic Treatment of Constipation With Remedies & Tablets

constipation home remedies in hindi, home remedies for constipation in hindi

हर्बोलेक्स टेबलेट – सिर्फ ज्यादा उम्र के व्यक्तियों को ही दें. रोजाना रात को सोने से पहल 1 से 3 टेबलेट का सेवन किया जा सकता हैं.

रेगुलकस टेबलेट – कॉन्स्टिपेशन के वजह से मल निष्काषित करने में बड़ी तकलीफ आती हैं, अगर आपको भी इस तकलीफ का सामना करना पढ़ रहा हो तो इस constipation ayurvedic treatment tablet “Regulax tabletes” का सहारा लें.

अग्नि संदीपन कैप्सूल – बड़ी उम्र के व्यक्तियों को रात को सोने से पहले 1 या 2 जरुरत के मुताबिक सेवन करवाए.

पेडिलेक्स – एक दो चम्मच भर के दुगने पानी में वयस्कों को सेवन कराये.

विरचनी – एक से दौ टेबलेट रात को सोते समय गर्म पानी या गर्म दूध के साथ कब्ज के रोगी को सेवन करवाए.

कोष्ठ वाद्दादी वती – दौ टेबलेट रात को सोते समय सेवन करे. यह सभी तरह के ने पुराने कब्ज से छुटकारा दिलाएगी. Best ayurvedic treatment for constipation new and old in Hindi.

हेपिलेक्स टेबलेट – दौ टेबलेट रात को सोते समय गर्म पानी के साथ लें.

अजवाइन इंजेक्शन – एक या दौ मिलीलीटर का अपनी जरुरत के मुताबिक इंजेक्शन को मांस या शिरा में लगाए या किसी डॉक्टर से लगवाए. इसके लिए डॉक्टर का परामर्श जरूर लें.

लेवोमिन सिरप (constipation syrup for adults and babies)- बड़ी उम्र के लोगों को एक दौ चम्मच दिन में दौ तीन बार या जरुरत के मुताबिक बच्चो को चौथाई या आधा चम्मच दवा का सेवन करवाए.

पंचसकार चूर्ण तीन ग्राम की मात्रा में रात्रि को सोते समय गर्म पानी के साथ दें.

त्रिफला चूर्ण दो से तीन ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय गर्म पानी के साथ constipation patient को दें. यह ayurvedic home remedy constipation में instant relief के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं.

Top 17 Home Remedies For Constipation

Constipation के patient को रोजाना सुबह के समय खाली पेट 2-3 ग्लास पानी पिने की आदत बना लेना चाहिए, व इस पानी के पिने के बाद 40 मिनट तक कुछ भी खाना व पीना नहीं चाहिए. इसके साथ ही रोगी को ठन्डे पानी से नाहना चाहिए.

(1). इच्छा भेदी रस 125 मि.ग्रा की मात्रा में रात को शहद के साथ सेवन करने से कॉन्स्टिपेशन में बहुत रिलीफ मिलता हैं.

(2). सौंफ, सनाय, मुलहठी और मिसरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लें और कूटपीसकर व छानकर इनका चूर्ण बना लें. अब इस चूर्ण को रोजाना 3 ग्राम की मात्रा में सुबह के समय सेवन करने से constipation का treatment हो जाता हैं.

(3). मंजिष्ठादि चूर्ण 5 ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय दूध के साथ लेने से constipation का solution हो जाता हैं. यह कॉन्स्टिपेशन चूर्ण पेट के और भी रोगों में लाभ देता हैं.

(4). गुलाब की पत्तियां 10 ग्राम, सनाय 8 ग्राम और छोटी हरड़ 6 ग्राम, तीनो औषधियों को बताई गई मात्रा में लेकर इनका चूर्ण बना लें. फिर एक चम्मच की मात्रा में गुन-गुने पानी के साथ सेवन करे. यह ayurvedic treatment for constipation के लिए बहुत उपयोगी हैं.

(5). सौंफ, सनाय, बनफ्शा और बादाम की गिरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर 1 चम्मच भर रोजाना रात को गुन-गुने पानी के साथ खाये. जल्द ही कब्ज में राहत मिल जायेगी.

(6). दालचीनी, तेजपात, इलाइची इन तीनो को 20-20 ग्राम की मात्रा में लें पंचसकार चूर्ण तीन ग्राम की मात्रा में रात्रि को सोते समय गर्म पानी के साथ दें.

(7). त्रिफला चूर्ण दो से तीन ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय गर्म पानी के साथ constipation patient को दें. यह ayurvedic home remedy constipation में instant relief के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं.

How To Remove Constipation Naturally ?

(8). मंजिष्ठादि चूर्ण 5 ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय दूध के साथ लेने से constipation का solution हो जाता हैं. यह कॉन्स्टिपेशन चूर्ण पेट के और भी रोगों में लाभ देता हैं.

(9). इच्छा भेदी रस 125 मि.ग्रा की मात्रा में रात को शहद के साथ सेवन करने से कॉन्स्टिपेशन में बहुत रिलीफ मिलता हैं.

(10). सौंफ, सनाय, मुलहठी और मिसरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लें और कूटपीसकर व छानकर इनका चूर्ण बना लें. अब इस चूर्ण को रोजाना 3 ग्राम की मात्रा में सुबह के समय सेवन करने से constipation का treatment हो जाता हैं.

(11). गुलाब की पत्तियां 10 ग्राम, सनाय 8 ग्राम और छोटी हरड़ 6 ग्राम, तीनो औषधियों को बताई गई मात्रा में लेकर इनका चूर्ण बना लें. फिर एक चम्मच की मात्रा में गुन-गुने पानी के साथ सेवन करे. यह ayurvedic treatment for constipation के लिए बहुत उपयोगी हैं.

(12). सौंफ, सनाय, बनफ्शा और बादाम की गिरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर 1 चम्मच भर रोजाना रात को गुन-गुने पानी के साथ खाये. जल्द ही कब्ज में राहत मिल जायेगी.

(13). दालचीनी, तेजपात, इलाइची इन तीनो को 20-20 ग्राम की मात्रा में लें, कालीमिर्च, पीपल के पत्ते, सोंठ इन तीनो को 30-30 ग्राम की मात्रा में लें और अनारदान 100 ग्राम की मात्रा में ले. इन सभी को बताई गई मात्रा में लेकर अच्छे से कूट पीसलें. इसका चूर्ण बनाये.

इसके बाद 250 ग्राम पुराने गूढ़ में अच्छी प्रकार मिलाकर (गूंधकर) बैर के आकर की गोलियां बनाकर किसी सुरक्षित स्थान पर रख लें. अब रोजाना रात को सोने से पहले इस एक गोली का सेवन करे. कुछ ही दिनों में इससे कब्ज लाभ नजर आजायेगा.

Fast Relief Kabj Remedies 14 to 17

(14). अरंड का तेल (castor oil for constipation) यह तेल कब्ज में बहुत लाभ देता हैं. 1-2 चम्मच एरंड का तेल लें और इसे 1 ग्लास गर्म दूध या गुन-गुने पानी में मिलकर पिए.

(15). रोजाना सुबह और शाम को दिन में दो बार लहसुन की 1-1 कली सेवन करना भी बहुत लाभदायक होता हैं.

(16). रात को सोते समय फूलगोभी का आधा किलो की मात्रा में रस पिए और सुबह शाम 2-2 नाग छुहारे दूध में उबालकर पहले छुहारे खाये, फिर दूध पि जाए या रात को सोने से पहले 3-4 नाग मुनक्के दूध में उबालें. पहले मुनक्के खाये फिर दूध पीकर सो जाए.

(17). रात को सोते समय 1 गिलास ताज़ा पानी में नीबू का रस निचोड़कर पिए और रोजाना रात को सोते समय 1 गिलास गर्म चाय की तरह चुस्कियां लेकर पिए और रोजाना सुबह सोकर उठने के बाद शौच आदि क्रिया से पहले यानी हाथ मुंह व ब्रश करने के बाद ताम्बे के एक बर्तन में रात को खुले आकाश में सुरक्षपूर्ण ढंग से रखा गया पानी पिए. इससे पेट के और भी कई रोग दूर होंगे.

कॉन्स्टिपेशन में गन्ने के रस में नीबू डालकर पिने से भी कई फायदे होते हैं.

यह कुछ कॉन्स्टिपेशन के लिए आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे हैं जो की अभी हमने आपको बताये हैं. अगर आप इनके अलावा और भी घरेलु नुस्खों के बारे में जानना चाहते हैं तो यहां Click करे >> Top 51 Constipation Remedies Gharelu Nuskhe 100% Relief.

This ayurvedic home remedies for constipation (in hindi) are very effective for constipation treatment. You should have to try them. Ayurveda is the best solution for all health problems.

Treat with Biochemic Medicine for constipation (Optional)

कालीम्यूर 200x और नेस्ट्रमम्युर 200x : constipation treatment with biochemic – यह दोनों दवा कब्ज दूर करने के लिए बहुत ही असरकारी मानी जाती हैं. कुछ दिनों के प्रयोग से ही भारी लाभ दिखाई देने लगते हैं.

नेस्ट्रमम्युर 200x : अगर किसी रोगी को कॉन्स्टिपेशन के साथ साथ बवासीर रोग, पुराण अजीर्ण, आंतों की कमजोरी और अगर रोगी के मुंह में से पानी न आता हो यानी मुंह सूखा-सूखा रहता हो तो यह औषधि ऐसे रोगी के लिए अतिउत्तम मानी जाती हैं.

नेस्ट्रमसल्फ 6x or 12x – अगर किसी constipation patient के मल में बहुत बदबू आती हो, मल द्वार में खुजली चलती हो, कभी मल ज्यादा आना तो कभी न के बराबर आना, मल का गट्ठे रूप में निकलना व मल में खून निकलना आदि लक्षणों में इस औषधि का उपयोग सर्वोत्तम माना जाता हैं. Constipation treatment in hindi language को करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता हैं.

साइलीशिया 12x or 30x – अगर मल कड़ा व कठोर आरहा है, मल त्यागने में परेशानी हो रही हो, मल कभी कम और कभी ज्यादा आ रहा हो, गुदा द्वार में घाव हो गया हो और मलद्वार में सुई चुबने जैसे दर्द हो रहा हो तो यह दवा ऐसे लक्ष्यों को ख़त्म करने में बहुत असरकारी होगी.

कैल्केरिया फ्लोर 3x or 12x – कई बार या यूं कहे की अधिकतर कॉन्स्टिपेशन इसी वजह से होता है की आपकी आंतों में मल को बाहर निकालने की ताकत नहीं बचती, ऐसे में मल पेट में ही रह जाता हैं और कब्ज कॉन्स्टिपेशन की प्रॉब्लम हो जाती हैं. इससे बचने के लिए व अपने कमजोर आंतों को शक्ति देने के लिए इस दवा का उपयोग बहुत फायदेमंद रहेगा.

सभी तरह के कब्ज के लिए

कालीम्यूर 6x – अगर किसी रोगी को खाद्य से बानी चीजों व घी तेल का ज्यादा सेवन करने से कब्ज हुई हो और रोगी की जीभ का रंग भी सफ़ेद हो गया हो तो ऐसी स्थिति में यह औषधि बहुत ही असरकारी होती हैं.

फेरमफॉस 6x – कब्ज के दौरान मल निकालने में जोर लगाना पढ़ रहा हो, कब्ज के कारन ठण्ड सी लग रही हो, कब्ज के वजह से चेहरा पीला पड़ रहा हो, गैस की शिकायत हो गई हो तो इन सभी लक्षणों में इस दवा का उपयोग अति लाभकारी सिद्ध होता हैं.

पुरसेनिड-इन टेबलेट (Pursennid In) – रात को सोते समय जब तक कब्ज ख़त्म न हो जाए दौ टेबलेट रोजाना सेवन करवाए. और अगर constipation patient की आंतों में से खून बह रहा हो, आंत्रशोथ, कष्टयुक्त, बवासीर आदि रोग भी हो तो उसे इस टेबलेट का सेवन न कराये.

इन दवाओं को कहां से खरीदूं ????

Homeopathic, Allopathic, Ayurvedic और Biochemic इन दवाओं को खरीदने के लिए आप किसी भी Ayurvedic stores, allopathic stores, homeopathic stores आदि पर जाकर इनको खरीद सकते हैं व साथ ही Shopkeeper को अपनी कॉन्स्टिपेशन के बारे में भी बताये और उनसे सलाह लें की इस दवा को किस विधि अनुसार ली जाए. इन दवाओं को आप Online Stores से भी खरीद सकते हैं.

Tips For Constipation Relief – ध्यान देने वाली बाते

आयुर्वेदा के अनुसार कब्ज के रोगी को क्या ध्यान रखना व क्या करना चाहिए. What to take for constipation pain ?? best tips for constipation treatment according to ayurveda.

(1). रोजाना हल्का और समय पर भोजन करने की आदत बना लेना चाहिए. ऐसे भोजन करना चाहिए जो की आसानी से पच जाए.

(2). What to eat in case of Constipation best diet- हरी सब्जियां, अंगूर, आम, पपीता, सेव, संतरा, केला, बेल, कच्चा गूलर, अंजीर, खजूर, नाशपाती, अमरुद, कागजी नीबू, सुरन, दूध, मक्खन, शहद आदि का जितना हो सके सेवन करना चाहिए.

(3) रोजाना एक निश्चित समय पर भोजन करे, ऐसी आदत भूले  की जैसे आज आपने सुबह 11 बजे भोजन किया तो कल आप दुपहर में 1-2 बजे भोजन कर रहे हैं. ऐसी आदत बनाये की रोजाना सुबह एक Fix time पर भोजन किया जा सके. इससे पाचन तंत्र मजबूत होगा जिससे आपको पेट के सभी रोगों से छुटकारा मिलेगा.

(4). Constipation diet plan – दलीय जो की हल्का भोजन होता हैं, मूंग की दाल जो की बहुत पौष्टिक और हलकी होती है व इसके साथ ही जौ और चने के आटे से बनी रोटियां को खूब चबा-चबाकर खाना चाहिए.

(5). What not to eat in Constipation – तेज मसालेदार सब्जियां, ज्यादा तेल से बने पदार्थ, चावल, ज्यादा मिर्च और मसाले से बने पदार्थ, खाद्य पदार्थ, घी-तेल से बने हुए पदार्थ, खटाई की चीजे, ज्यादा मीठी चीजों का सेवन आदि और किसी भी तरह के भोजन को जल्दी जल्दी बिना ठीक से चबाये नहीं खाना चाहिए. हमेशा मल त्याग करने के बाद ही भोजन करना चाहिए.

Lifestyle Tips for kabz

समय पर शौच करे. जब भी आपको लगे की “मुझे बाथरूम जाना चाहिए” तो जरा भी न हिचकिचाए, बल्कि उसी समय शौच के लिए बाथरूम चले जाए. कई व्यक्ति लेटरिंग व टॉयलेट को रोके रखते हैं इससे शरीर क्षीण होता हैं. ऐसा कटाई भूलकर भी नहीं करना चाहिए. इससे कई घातक नुकसान होते हैं. इसीलिए अपने पुरे जीवन में यह बात ध्यान में रखे की “कभी भी लेटरिंग टॉयलेट नहीं रोकना है”.

शारीरिक श्रम करे. भोजन को ठीक तरह से पचने के लिए व भोजन से बानी ऊर्जा का सदुपयोग करने के लिए जरुरी है की थोड़ा बहुत शारीरिक श्रम किया जाए. अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो कब्ज के साथ साथ मोटापे के शिकार हो जाएंगे. कई लोग ऐसा करते हैं और उनका परिणाम भी आपके ही सामने हैं. ऐसे लोग जरुरत से ज्यादा मोठे हो जाते है व कई रोग के शिकार बन जाते हैं.

इसलिए एक आदत बनाये रोजाना सुबह व शाम को थोड़ा टहलने जाए. रात को भोजन करने के बाद धीमी गति से करीबन एक या दो किलोमीटर की पैदल सैर करे. इसके कई लाभ होंगे.

उष्ण पान करे. सुबह के समय उठने के तुरंत बाद पानी पिने से कई ढेरों लाभ होते हैं. हम जो दिन में पानी पिटे है वह सिर्फ शारीरिक की बाहरी सेहत व वातावरण पर काम करता हैं, लेकिन जो पानी हम सुबह के समय पीते है वह दिन में पिए गई पानी से कई गुना ज्यादा आंतरिक, मानसिक और शारीरिक लाभ देता है. ऐसा करने से constipation permanent solution हो जाएगा.

बाबा रामदेव का 100% Guaranteed Treatment

अब तक आपने सिर्फ यही सुना होगा की कब्ज से हमेशा के लिए छुटकारा नहीं पाया जा सकता हैं, लेकिन आज हम यहां आपको सबसे आसान और कॉन्स्टिपेशन का परमानेंट सलूशन बताने जा रहे हैं जो की बाबा रामदेव द्वारा बताया गया हैं.

और वह हैं गाय का मूत्र यानी गौ-मूत्र . जी हां यह गौ मूत्र कब्ज को जड़ से मिटने की क्षमता रखता हैं. इसके साथ ही यह पेट के कई गंभीर रोगों को दूर करने में सक्षम होता हैं. इसका उपयोग भी बहुत ही आसान हैं. आप चाहे तो हमने आपको जितने भी यहां उपाय रेमेडीज बताई हैं उनके बदले सबसे पहले इसे baba ramdev remedies को Try करे.

इस आसान और 100% असरकारी रेमेडी को किस तरह से लेना हैं, व कब और कैसे लेना इसकी पूरी विधि जानने के लिए यहां click करे >> 1. Gau Mutra For Constipation  Or Permanent Solution 2 By Baba Ramdev. दोनों को पूरी तरह ध्यान से पड़ें 

पानी की कमी को दूर करे. कॉन्स्टिपेशन होने का यह एक ख़ास कारण हैं. जैसा की हम सभी को पता हैं की हमारा शरीर 75% पानी से बना हुआ हैं, इसे पानी की भरपूर मात्रा में आवश्यकता पढ़ती हैं. इसीलिए एक आदत यह भी बनाये की सुबह उठने के तुरंत बाद ही बिना मुंह धोये जितना आपसे हो सके उतना पेट भरकर पानी पिए.

त्रिफला चूर्ण को कब्ज में लेने का सही तरीका

kabj ke liye churn, कब्ज राजीव दीक्षित

जिस तरह हमने ऊपर गौ मूत्र के बारे में बताया ठीक वैसे ही त्रिफला भी उतना ही फायदेमंद होता हैं. यह पेट के समस्त रोगों को मिटाने व दूर करने में कई हद तक लाभ देता हैं. ऐसा देखने में आया हैं की कई लोगों को त्रिफला कब्ज़ में कैसे लेना चाहिए इस बारे में ठीक से मालुम नहीं हैं. आप रोजाना त्रिफला चूर्ण के सेवन से कब्ज को हमेशा के लिए मिटा सकते हैं. इसके लिए कॉन्स्टिपेशन में त्रिफला चूर्ण कैसे लें इसकी विधि जानने के लिए यह लेख जरूर पड़ें. Proper way to take Triphala Churna in Constipation By Rajiv Dixit.

उम्मीद करते हैं आपको कब्ज constipation treatment के बारे में जानकर अच्छा लगा हो. अगर आप और भी Constipation home remedies ayurvedic in Hindi के बारे में जानना चाहते हैं तो निचे दिए गए Related Posts पर जाकर कॉन्स्टिपेशन से सम्बंधित सभी लेख पड़ें. यहां आपको कॉन्स्टिपेशन से जुड़ी पूरी जानकारी मिल जाएगी. All of this home remedies for constipation are very effective, you can easily cure constipation relief instantly home treatment.

अगर आपको इस लेख में कुछ बाते समझ न आई हो या आपको कोई संदेह doubt हो तो निचे Comment Box में अपना संदेह या सवाल लिख कर हमे सूचित करे.

loading...

One Response

  1. Shbhi Gupta

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.