constipation treatment in hindi, constipation treatment in hindi at home

कॉन्स्टिपेशन का इलाज : 100% Constipation Solution in Hindi

कॉन्स्टिपेशन जिसे हम हिंदी भाषा मेंकब्जियत कहते हैं, यह एक महारोग हैं या यूँ कहें की यही सभी रोगों व बिमारियों की जड़ होती हैं. यह हम नहीं कह रहे बल्कि आयुर्वेदा और कई अन्य सेहत से सम्बंधित शास्त्र कब्ज के बारे में ऐसा ही कहते हैं. इसीलिए डॉक्टर्स भी किसी भी रोग का इलाज करने से पहले कब्ज कॉन्स्टिपेशन का इलाज करते हैं.

kabj

यह रोग आंतों की गबड़बी के कारण होता हैं. कॉन्स्टिपेशन हो जाने पर मल सरलता, आसानी से नहीं निकलता. जमा हुआ मल आंतों में सड़ा करता हैं. इस रोग के ख़ास कारण यह होते हैं – रात को देर से सोना, किसी चीज का डर बना हुआ रहना, दुखी रहना, किसी भी चीज का शोक रहना, बुखार के कारण, पीलिया के कारण, भोजन कम करने के कारण, गरिष्ठ गाढ़ा भोजन करने के कारण, ज्यादा चाय, कॉफ़ी, शराब पिने के कारण, शारीरिक श्रम न करने के कारण, खाना खाने के बाद सो जाने के कारण, भोजन करने के देर बाद भी पानी नहीं पिने के कारण, समय पर शौच न करने के कारण आदि constipation treatment solution in Hindi at home.

  • यहाँ हर तरह से कॉन्स्टिपेशन का ट्रीटमेंट बताया गया है, इसलिए इस पोस्ट को पूरा निचे तक यानी आखिरी तक ध्यान से पड़ें और इस पोस्ट का अगला पेज भी पड़ें जो निचे बताया गया है.

कॉन्स्टिपेशन से होने वाली बीमारियां 

  • कॉन्स्टिपेशन रोग हो जाने पर बुखार, सर में दर्द, भोजन में अरुचि, भूख कम लगना, बेचैनी महसूस होना, जी मिचलना, पेट में दर्द होना, पेट में वायु भरना, शरीर में थकावट आना आदि. अगर constipation ज्यादा समय तक बना रहे और इसका जरा भी treatment/इलाज न करवाया जाए तो यह कई तरह की बिमारियों को पैदा कर सकता हैं. जिससे रोगी की मौत भी हो सकती हैं. कई बार treatment नहीं करवाने पर (कॉन्स्टिपेशन से होने वाले गंभीर रोग) बवासीर रोग, पीलिया रोग आदि हो सकते हैं.

constipation treatment in hindi, constipation treatment in hindi at home

  • कॉन्स्टिपेशन के रोगी इन बातों पर विशेष ध्यान दें
  • रोजाना सुबह खाली पेट 3 गिलास से अधिक पानी पिए. उष्ण पान करे.
  • भोजन करने के बाद 1 किलोमीटर पैदल चले.
  • भोजन के साथ दही का सेवन करे
  • पानी भरपूर मात्रा में पिए, शरीर में पानी की कमी न आने दे
  • खाना खाने वक्त हर एक कौर को चबा-चबा कर खाये
  • भोजन करते वक्त बार बार पानी न पिए, व भोजन करने के 45 मिनट बाद पानी पिए. इस बिच तेज प्यास लगे तो ही पानी पिए.
  • ठन्डे पानी से नाहये
  • शारीरिक श्रम करे. GYM join करे या किसी खेलकूद में हिस्सा लें. रोजाना कसरत के जरिये पसीना बहाये.

ऐलोपैथिक चिकित्सा 

Constipation Treatment Solution in Hindi

  • लॅक्सिंडों (Laxindon tablet) – इसे सिर्फ बड़ी उम्र के व्यक्ति को ही दें. रात को सोते समय अपनी जरुरत के मुताबिक कॉन्स्टिपेशन के पेशेंट को 2-3 टेबलेट का सेवन करवाए.
  • आई सो जेल (I-So-Gel) – best for pregnant women and children’s constipation treatment. यह दवा बच्चों और महिला की गर्भावस्था (pregnancy) के दौरान दी जा सकती यह इनके लिए खासकर लाभदायक होती हैं.
  • क्रिमोफोने लिक्विड (Cremofin liquid) – रोजाना रात को सोते समय पर 2 से 4 चम्मच तक गर्म पानी के साथ लें. कुछ ही दिनों के प्रयोग से constipation का treatment हो जायेगा और relief मिल जाएगी.
  • मिल्क ऑफ़ मैग्नीशिया (Milk of magnesia) – इसे रात को सोते समय 2 बड़े चम्मच भर की मात्रा में लेकर के सेवन करे.
  • सिनेड टेबलेट (Sinad) – रात को सोते समय अपनी जरुरत के हिसाब से जिस तरह की कब्ज (chronic constipation) हो उसके मुताबिक व वयस्कों को 2 टेबलेट सेवन करवाए.
  • अगरोल (Agarol) – इसे भी आप रोजाना रात को सोते समय 2 से 4 चम्मच तक गर्म पानी के साथ ले सकते हैं. कॉन्स्टिपेशन में बहुत लाभ होगा.
  • बच्चों को 2-3 ग्राम (1 चाय का चम्मच के जितना, एक बार में) वयस्कों ज्यादा उम्र के व्यक्ति के लिए 4-6 ग्राम (2 चाय के चम्मच जितना) दिन में एक बार या chronic constipation होने पर दिन में दो बार सुबह व शाम ली जा सकती हैं. प्रेगनेंसी के दौरान किसी चिकित्सक की सलाह लेकर ही यह दवा लें.
  • जुलस टेबलेट (Julax) इसे भी भी सिर्फ बड़ी उम्र के व्यक्तियों को ही सेवन करवाए. रात को सोते समय एक या दौ टेबलेट का सेवन करे. यह allopathic treatment for constipation की दवाई हैं, इनके प्रयोग से कब्जियत से छुटकारा बड़ी आसानी से मिल जाता हैं.

constipation home remedies in hindi, home remedies for constipation in hindi

Ayurvedic Remedies For Constipation

  • हर्बोलेक्स टेबलेट – सिर्फ ज्यादा उम्र के व्यक्तियों को ही दें. रोजाना रात को सोने से पहल 1 से 3 टेबलेट का सेवन किया जा सकता हैं.
  • रेगुलकस टेबलेट – कॉन्स्टिपेशन के वजह से मल निष्काषित करने में बड़ी तकलीफ आती हैं, अगर आपको भी इस तकलीफ का सामना करना पढ़ रहा हो तो इस tablet “Regulax tabletes” का सहारा लें.
  • अग्नि संदीपन कैप्सूल – बड़ी उम्र के व्यक्तियों को रात को सोने से पहले 1 या 2 जरुरत के मुताबिक सेवन करवाए.
  • पेडिलेक्स – एक दो चम्मच भर के दुगने पानी में वयस्कों को सेवन कराये.
  • विरचनी – एक से दौ टेबलेट रात को सोते समय गर्म पानी या गर्म दूध के साथ कब्ज के रोगी को सेवन करवाए.
  • कोष्ठ वाद्दादी वती – दौ टेबलेट रात को सोते समय सेवन करे. यह सभी तरह के ने पुराने कब्ज से छुटकारा दिलाएगी.
  • हेपिलेक्स टेबलेट – दौ टेबलेट रात को सोते समय गर्म पानी के साथ लें.
  • अजवाइन इंजेक्शन – एक या दौ मिलीलीटर का अपनी जरुरत के मुताबिक इंजेक्शन को मांस या शिरा में लगाए या किसी डॉक्टर से लगवाए. इसके लिए डॉक्टर का परामर्श जरूर लें.
  • लेवोमिन सिरप (constipation syrup for adults and babies)- बड़ी उम्र के लोगों को एक दौ चम्मच दिन में दौ तीन बार या जरुरत के मुताबिक बच्चो को चौथाई या आधा चम्मच दवा का सेवन करवाए.
  • पंचसकार चूर्ण तीन ग्राम की मात्रा में रात्रि को सोते समय गर्म पानी के साथ दें.
  • त्रिफला चूर्ण दो से तीन ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय गर्म पानी के साथ constipation patient को दें. यह ayurvedic home remedy constipation में instant relief के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं.
  • Constipation के patient को रोजाना सुबह के समय खाली पेट 2-3 ग्लास पानी पिने की आदत बना लेना चाहिए, व इस पानी के पिने के बाद 40 मिनट तक कुछ भी खाना व पीना नहीं चाहिए. इसके साथ ही रोगी को ठन्डे पानी से नाहना चाहिए.

घर पर ही करे इस तरह ट्रीटमेंट

  • इच्छा भेदी रस 125 मि.ग्रा की मात्रा में रात को शहद के साथ सेवन करने से कॉन्स्टिपेशन में बहुत रिलीफ मिलता हैं.
  • सौंफ, सनाय, मुलहठी और मिसरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लें और कूटपीसकर व छानकर इनका चूर्ण बना लें. अब इस चूर्ण को रोजाना 3 ग्राम की मात्रा में सुबह के समय सेवन करने से constipation का treatment हो जाता हैं.
  • मंजिष्ठादि चूर्ण 5 ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय दूध के साथ लेने से constipation का solution हो जाता हैं. यह कॉन्स्टिपेशन चूर्ण पेट के और भी रोगों में लाभ देता हैं.
  • गुलाब की पत्तियां 10 ग्राम, सनाय 8 ग्राम और छोटी हरड़ 6 ग्राम, तीनो औषधियों को बताई गई मात्रा में लेकर इनका चूर्ण बना लें. फिर एक चम्मच की मात्रा में गुन-गुने पानी के साथ सेवन करे.
  • सौंफ, सनाय, बनफ्शा और बादाम की गिरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर 1 चम्मच भर रोजाना रात को गुन-गुने पानी के साथ खाये. जल्द ही कब्ज में राहत मिल जायेगी.
  • दालचीनी, तेजपात, इलाइची इन तीनो को 20-20 ग्राम की मात्रा में लें पंचसकार चूर्ण तीन ग्राम की मात्रा में रात्रि को सोते समय गर्म पानी के साथ दें.
  • त्रिफला चूर्ण दो से तीन ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय गर्म पानी के साथ constipation patient को दें.
  • मंजिष्ठादि चूर्ण 5 ग्राम की मात्रा में रात को सोते समय दूध के साथ लेने से constipation का solution हो जाता हैं. यह कॉन्स्टिपेशन चूर्ण पेट के और भी रोगों में लाभ देता हैं.
  • इच्छा भेदी रस 125 मि.ग्रा की मात्रा में रात को शहद के साथ सेवन करने से कॉन्स्टिपेशन में बहुत रिलीफ मिलता हैं.
  • सौंफ, सनाय, मुलहठी और मिसरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लें और कूटपीसकर व छानकर इनका चूर्ण बना लें. अब इस चूर्ण को रोजाना 3 ग्राम की मात्रा में सुबह के समय सेवन करने से constipation का treatment हो जाता हैं.
  • गुलाब की पत्तियां 10 ग्राम, सनाय 8 ग्राम और छोटी हरड़ 6 ग्राम, तीनो औषधियों को बताई गई मात्रा में लेकर इनका चूर्ण बना लें. फिर एक चम्मच की मात्रा में गुन-गुने पानी के साथ सेवन करे.
  • सौंफ, सनाय, बनफ्शा और बादाम की गिरी इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर 1 चम्मच भर रोजाना रात को गुन-गुने पानी के साथ खाये. जल्द ही कब्ज में राहत मिल जायेगी.
  • दालचीनी, तेजपात, इलाइची इन तीनो को 20-20 ग्राम की मात्रा में लें, कालीमिर्च, पीपल के पत्ते, सोंठ इन तीनो को 30-30 ग्राम की मात्रा में लें और अनारदान 100 ग्राम की मात्रा में ले. इन सभी को बताई गई मात्रा में लेकर अच्छे से कूट पीसलें. इसका चूर्ण बनाये.
  • इसके बाद 250 ग्राम पुराने गूढ़ में अच्छी प्रकार मिलाकर (गूंधकर) बैर के आकर की गोलियां बनाकर किसी सुरक्षित स्थान पर रख लें. अब रोजाना रात को सोने से पहले इस एक गोली का सेवन करे. कुछ ही दिनों में इससे कब्ज लाभ नजर आजायेगा.

  • अरंड का तेल (castor oil for constipation) यह तेल कब्ज में बहुत लाभ देता हैं. 1-2 चम्मच एरंड का तेल लें और इसे 1 ग्लास गर्म दूध या गुन-गुने पानी में मिलकर पिए.
  • रोजाना सुबह और शाम को दिन में दो बार लहसुन की 1-1 कली सेवन करना भी बहुत लाभदायक होता हैं.
  • रात को सोते समय फूलगोभी का आधा किलो की मात्रा में रस पिए और सुबह शाम 2-2 नाग छुहारे दूध में उबालकर पहले छुहारे खाये, फिर दूध पि जाए या रात को सोने से पहले 3-4 नाग मुनक्के दूध में उबालें. पहले मुनक्के खाये फिर दूध पीकर सो जाए.

  • रात को सोते समय 1 गिलास ताज़ा पानी में नीबू का रस निचोड़कर पिए और रोजाना रात को सोते समय 1 गिलास गर्म चाय की तरह चुस्कियां लेकर पिए और रोजाना सुबह सोकर उठने के बाद शौच आदि क्रिया से पहले यानी हाथ मुंह व ब्रश करने के बाद ताम्बे के एक बर्तन में रात को खुले आकाश में सुरक्षपूर्ण ढंग से रखा गया पानी पिए. इससे पेट के और भी कई रोग दूर होंगे.

कॉन्स्टिपेशन में गन्ने के रस में नीबू डालकर पिने से भी कई फायदे होते हैं.

ध्यान देने वाली बाते

(1). रोजाना हल्का और समय पर भोजन करने की आदत बना लेना चाहिए. ऐसे भोजन करना चाहिए जो की आसानी से पच जाए.

(2). What to eat in case of Constipation best diet- हरी सब्जियां, अंगूर, आम, पपीता, सेव, संतरा, केला, बेल, कच्चा गूलर, अंजीर, खजूर, नाशपाती, अमरुद, कागजी नीबू, सुरन, दूध, मक्खन, शहद आदि का जितना हो सके सेवन करना चाहिए.

(3) रोजाना एक निश्चित समय पर भोजन करे, ऐसी आदत भूले  की जैसे आज आपने सुबह 11 बजे भोजन किया तो कल आप दुपहर में 1-2 बजे भोजन कर रहे हैं. ऐसी आदत बनाये की रोजाना सुबह एक Fix time पर भोजन किया जा सके. इससे पाचन तंत्र मजबूत होगा जिससे आपको पेट के सभी रोगों से छुटकारा मिलेगा.

(4). Constipation diet plan – दलीय जो की हल्का भोजन होता हैं, मूंग की दाल जो की बहुत पौष्टिक और हलकी होती है व इसके साथ ही जौ और चने के आटे से बनी रोटियां को खूब चबा-चबाकर खाना चाहिए.

(5). What not to eat in Constipation – तेज मसालेदार सब्जियां, ज्यादा तेल से बने पदार्थ, चावल, ज्यादा मिर्च और मसाले से बने पदार्थ, खाद्य पदार्थ, घी-तेल से बने हुए पदार्थ, खटाई की चीजे, ज्यादा मीठी चीजों का सेवन आदि और किसी भी तरह के भोजन को जल्दी जल्दी बिना ठीक से चबाये नहीं खाना चाहिए. हमेशा मल त्याग करने के बाद ही भोजन करना चाहिए.

Lifestyle Tips for kabz

  • समय पर शौच करे. जब भी आपको लगे की “मुझे बाथरूम जाना चाहिए” तो जरा भी न हिचकिचाए, बल्कि उसी समय शौच के लिए बाथरूम चले जाए. कई व्यक्ति लेटरिंग व टॉयलेट को रोके रखते हैं इससे शरीर क्षीण होता हैं. ऐसा कटाई भूलकर भी नहीं करना चाहिए. इससे कई घातक नुकसान होते हैं. इसीलिए अपने पुरे जीवन में यह बात ध्यान में रखे की “कभी भी लेटरिंग टॉयलेट नहीं रोकना है”.
  • शारीरिक श्रम करे. भोजन को ठीक तरह से पचने के लिए व भोजन से बानी ऊर्जा का सदुपयोग करने के लिए जरुरी है की थोड़ा बहुत शारीरिक श्रम किया जाए. अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो कब्ज के साथ साथ मोटापे के शिकार हो जाएंगे. कई लोग ऐसा करते हैं और उनका परिणाम भी आपके ही सामने हैं. ऐसे लोग जरुरत से ज्यादा मोठे हो जाते है व कई रोग के शिकार बन जाते हैं.
  • इसलिए एक आदत बनाये रोजाना सुबह व शाम को थोड़ा टहलने जाए. रात को भोजन करने के बाद धीमी गति से करीबन एक या दो किलोमीटर की पैदल सैर करे. इसके कई लाभ होंगे.
  • उष्ण पान करे. सुबह के समय उठने के तुरंत बाद पानी पिने से कई ढेरों लाभ होते हैं. हम जो दिन में पानी पिटे है वह सिर्फ शारीरिक की बाहरी सेहत व वातावरण पर काम करता हैं, लेकिन जो पानी हम सुबह के समय पीते है वह दिन में पिए गई पानी से कई गुना ज्यादा आंतरिक, मानसिक और शारीरिक लाभ देता है. ऐसा करने से constipation permanent solution हो जाएगा.

बाबा रामदेव का 100% Guaranteed Treatment

  • अब तक आपने सिर्फ यही सुना होगा की कब्ज से हमेशा के लिए छुटकारा नहीं पाया जा सकता हैं, लेकिन आज हम यहां आपको सबसे आसान और कॉन्स्टिपेशन का परमानेंट सलूशन बताने जा रहे हैं जो की बाबा रामदेव द्वारा बताया गया हैं.

  • और वह हैं गाय का मूत्र यानी गौ-मूत्र . जी हां यह गौ मूत्र कब्ज को जड़ से मिटने की क्षमता रखता हैं. इसके साथ ही यह पेट के कई गंभीर रोगों को दूर करने में सक्षम होता हैं. इसका उपयोग भी बहुत ही आसान हैं. आप चाहे तो हमने आपको जितने भी यहां उपाय रेमेडीज बताई हैं उनके बदले सबसे पहले इसे baba ramdev remedies को Try करे.
  • इस आसान और 100% असरकारी रेमेडी को किस तरह से लेना हैं, व कब और कैसे लेना इसकी पूरी विधि जानने के लिए यहां click करे >> 1. Gau Mutra For Constipation  Or Permanent Solution 2 By Baba Ramdev. दोनों को पूरी तरह ध्यान से पड़ें 
  • पानी की कमी को दूर करे. कॉन्स्टिपेशन होने का यह एक ख़ास कारण हैं. जैसा की हम सभी को पता हैं की हमारा शरीर 75% पानी से बना हुआ हैं, इसे पानी की भरपूर मात्रा में आवश्यकता पढ़ती हैं. इसीलिए एक आदत यह भी बनाये की सुबह उठने के तुरंत बाद ही बिना मुंह धोये जितना आपसे हो सके उतना पेट भरकर पानी पिए.

त्रिफला चूर्ण

kabj ke liye churn, कब्ज राजीव दीक्षित

  • जिस तरह हमने ऊपर गौ मूत्र के बारे में बताया ठीक वैसे ही त्रिफला भी उतना ही फायदेमंद होता हैं. यह पेट के समस्त रोगों को मिटाने व दूर करने में कई हद तक लाभ देता हैं. ऐसा देखने में आया हैं की कई लोगों को त्रिफला कब्ज़ में कैसे लेना चाहिए इस बारे में ठीक से मालुम नहीं हैं. आप रोजाना त्रिफला चूर्ण के सेवन से कब्ज को हमेशा के लिए मिटा सकते हैं. इसके लिए कॉन्स्टिपेशन में त्रिफला चूर्ण कैसे लें इसकी विधि जानने के लिए यह लेख जरूर पड़ें. Proper way to take Triphala Churna in Constipation By Rajiv Dixit.
  • यह भी पड़ें :
  • मुँह से बदबू आना का इलाज के उपाय
  • मोटा होने के 10 आसान उपाय
  • पिले दांत सफ़ेद करने की दवा
  • इस पोस्ट का अगला पेज भी पड़ें, उसमे आयुर्वेदिक घर पर ही नुस्खे बनाकर कॉन्स्टिपेशन को ठीक करने के तरीके बताये है : NEXT PAGE

तो आपने ayruvedic remedies treatment for constipation in Hindi के बारे में अब पूरी जानकारी हासिल कर ली है. हमने इसके अलावा और भी पोस्ट किये है आप इस पोस्ट का अगला पेज जरूर पड़ें उसमे घरेलु नुस्खे बताये गए है उनके जरिये घर पर ही आप इसे ठीक कर सकते है.

3 Comments

  1. BABA
  2. vivek
  3. Shbhi Gupta

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.