joint pain treatment in hindi, ayurvedic treatment for joint pain in hindi, joint pain in hindi,

No1 Ayurvedic Treatment For Joint Pain in Hindi – 21 Remedies

CDC के मुताबिक, Joint pain से लगभग 23% वयस्क और 65% उससे अधिक उम्र के 50% लोगों को प्रभावित करता है. यह इस सदी में आम होता जा रहा हैं क्योंकि इस सदी में मानव की जीवनचर्या काफी बदल गई हैं उसे हर काम एक जगह बैठकर ही हो जाते हैं इस वजह से शरीर के सभी अंगों का पर्याप्त व्यायम नहीं हो पाता. चलिए आगे जानते हैं home remedies for joint pain treatment at home in Hindi language best ayurvedic cure and yoga exercise for joint pain relief.

शरीर के अंगों में नुट्रिएंट्स आदि की कमी होने से, हड्डियों की कमजोरी से, जोड़ों में ग्रीस खत्म होने से आदि इन सभी वजह से joint pain की शिकायत जन्म लेती हैं. अगर हम नियमित रूप से प्राकृतिक जीवन जिए तो यह आसानी से नहीं हो सकते. आज के युग में धूम्रपान करना, शराब पीना, ज्यादा मसालेदार भोजन करना आदि फैशन सा बना हुआ हैं, इन्ही के चलते हुए नवयुवकों में back Pain, knee Pain, joint Pain आदि रोग पैदा हो जाते हैं. हम यहाँ आपको ऐसे उपाय के बारे में बताएंगे जिनको करने से शरीर में जिन नुट्रिएंट्स की कमी आई होगी वह पूरी हो जायेगी आइये जाने joint pain ayurvedic treatment in Hindi भाषा में.

Joint Pain Treatment At Home in Hindi At Home

joint pain treatment in hindi, ayurvedic treatment for joint pain in hindi, joint pain in hindi,

खड़े होकर पानी पिने से joint pain की शिकायत होती हैं. एक शोध के मुताबिक यह जानने में आया हैं की जो व्यक्ति ज्यादातर सीधे खड़े रहकर पानी पीते उनको joint pain की तकलीफ होने के chances ज्यादा होते हैं. इसलिए हमेशा बैठकर पानी पीना चाहिए. (सीधे खड़े होकर पानी कभी न पिए)

Tips for joint pain Relief – ayurvedic treatment

  • जिस आहार में ज्यादा मात्रा में ओमेगा 3 पाया जाता हो उसका ज्यादा से ज्यादा सेवन करे
  • हरी सब्जियां, केले, अखरोट, मछली का तेल आदि खाये
  • शराब, सिगरेट आदि का परहेज करे
  • नियमित रूप से व्यायाम करे
  • रोजाना सुबह योग, सूर्यनमस्कार अवश्य करे
  • सुबह शाम अपने जॉइंट पर मालिश करे

पढ़िए ऐसे घरेलु नुस्खे व उपाय के बारे में जो की आपको दूसरी जगह पर नहीं मिलेंगे.

#1. नीबू

जोड़ों यानी जॉइंट्स पर नीबू का रस मलते रहने से जोड़ों का दर्द joint pain और सूजन दूर हो जाती हैं. नीबू का रस अमाशय, आँतों और खून की अम्लता यानी खटास की अधिकता को कम कर देता हैं. जिससे joints में pain , स्नायु का दर्द बहुत ज्यादा कमजोरी आदि रोग जड़ से दूर हो जाते हैं. नीबू खट्टा होने पर भी इसका स्वाभाव क्षारीय खारा और अम्लतानशाक हैं.

#2. नारंगी

नारंगी का रस सेवन करने से स्कर्वी रोग, बेरी-बेरी रोग, joint pain और शोथ में लाभ होता हैं. यह मस्तिष्क और यकृत को शक्ति व स्फूर्ति देता हैं जिससे joint pain का treatment हो जाता हैं.

#3. चुकुन्दर

joint pain में चुकुन्दर के रस का सेवन भी अत्यंत लाभकारी सिद्ध होता हैं. यह रक्त बढ़ाता हैं, स्त्रियों का दूध बढ़ाता हैं, यकृत को शक्ति देता हैं तथा मस्तिष्क को तरोताजा रखता हैं.

#4. अजवाइन

अजवाइन के तेल की मालिश से joint pain में बहुत लाभ होता हैं, इसकी मालिश करने से दर्द कम होता हैं.

#5. सोंठ

एक चम्मच सोंठ और आधा टुकड़ा जायफल का लेकर दोनों को पीसकर तिल के तेल में मिलाकर इसमें कपड़ा भिगोकर joints (जोड़ों) पर पट्टी बांधने से जोड़ों का दर्द दूर हो जाता हैं.

#6. इलाइची

छोटी इलाइची के सेवन से सर दर्द, पेट दर्द, मितली और joint pain में आराम मिलता हैं, इस नुस्खे से पुराने से पुराने joint pain में भी आराम मिलता हैं joint से समबन्धित सभी रोगों को यह घरेलु उपाय दूर करता हैं.

#7. सहिजन

सहिजन की सब्जी फूल या फली की सब्जी खाने से कमर दर्द, joint pain और पेट में वायु संचय में लाभ होता हैं.

#8. बेसन

बेसन की बनी नमक की रोटी शुद्ध देसी घी में चुपड़कर खाने से joint pain में बहुत आराम मिलता हैं.

#9. साबुन और मेहंदी 

साबुन और मेहंदी के पत्तों को पीसकर लेप करने से joint pain और knee pain में बहुत लाभ होता हैं.

#10. तरबूज

तरबूज के बीजों के रस में एक तत्व जो कुरकुर बोसाइट्रिन कहलाता हैं, पाया जाता हैं, जो खून की कोशिका नली कपिलरीज़ को चौड़ा करता हैं. इसका प्रभाव गुर्दों पर पड़ता हैं, जिससे उच्च रक्तचाप भी कम हो जाता हैं और टखनों के पास की सूजन भी कम हो जाती हैं. तरबूज के बीजों का रस बनाने की विधि इस तरह हैं

तरबूज के बीज छाया में सुखाये हुए दो चम्मच लेकर कूट पीसकर एक कप उबलते हुए गर्म पानी में डालकर एक घंटा तक भीगने दें. इसके बाद चम्मच से हिलाकर व छानकर पि जाए. इस तरह 4 मात्राएं रोजाना सेवन करें. तरबूज का रस पीना बेहद फायदेमंद होता हैं.

#11. इन्द्रायण

इन्द्रायण की जड़ और पीपल का चूर्ण सामान माता में लेकर तथा इसकी दुगनी मात्रा में गुड़ मिलाकर 6/1-2 माशे की मात्रा में रोजाना सेवन करने से सन्धिवात यानी joint pain में relief मिलता है.

#12. सेब का सिरका

सिरके में मीठा तेल मिलाकर joints पर मालिश करने से joint pain से relief मिलता हैं.

#13. सूखे आंवले

सूखे आंवलों को कूट-पीसकर दुगुनी मात्रा में गुड़ मिलाकर बड़े-बेर के आकार की गोलियां बनाकर सुरक्षित रख लें. रोजाना यह तीन गोलियां पानी के साथ सेवन करने से joint pain और knee pain में relief मिलती हैं.

सुबह के समय पांच ग्राम मेथी की फांकी लगाने से बुढ़ापे में घुटनो का दर्द knee pain नहीं होता हैं. Most effective remedy for knee and join pain prevention hindi mein .

#14. प्याज

प्याज का रस और राई का तेल समान भाग में मिलाकर मालिश करने से गठिया में लाभ होता हैं.

#15. करेले

कच्चे करेले का रस गर्म करके लेप करने से और महुए की छाल को पीसकर गर्म करके लेप करने से गठिया का दर्द शांत होता हैं.

#16. मेहंदी के पत्ते

गठिया जो की joint pain ही होता हैं, इसमें अगर रोगी को तेज दर्द हो तो इसे मिटाने के लिए मेहंदी के ताजे पत्ते को महीन पीसकर रात को सोते समय गाढ़ा लेप joint पर लगाए इसे लगातार तब तक करते रहना चाहिए जब तक की गठिया में लाभ न हो.

#17. अफीम

आधी रत्ती अफीम और 2 रत्ती कपूर की गोली बनाकर खाने से खूब पसीना आकर गठिया के पुराने रोग में भी लाभ होता हैं.

लगभग 10 ग्राम केंवाच के बीजों को दही या दूध के साथ 14 दिन तक खाने से knee pain का treatment हो जाता हैं. Knee pain को मिटाने के लिए यह बहुत ही असरदार नुस्खा हैं.

Other Useful Remedies – ayurvedic treatment for joint pain in hindi,

हल्दी और अदरक – Garlic and Turmeric ayurvedic Remedy

हल्दी और अदरक दोनों ही anti-inflammatory के गुणों से भरपूर होती हैं, इनमे oseto और rheumatoid arthritis दोनों का ट्रीटमेंट करने की क्षमता होती हैं. हल्दी वैसे ही आयुर्वेदा में अपने गुणों से बहुत मशहूर हैं क्योंकि इसमें करक्यूमिन नामक पदार्थ होता हैं जो की बहुत ही शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होता हैं. यह उन तत्वों पर प्रभाव करता हैं जिनकी कमजोरी से हमारे शरीर के joint में pain होना शुरू हुआ हो. इस remedy का उपयोग करने से इन कमजोर तत्वों की कमजोरी दूर हो जाती हैं जिससे joint pain में relief मिलता हैं.

ऐसे बनाये :

  • करीबन 2 कप पानी
  • 1/2 चम्मच अदरक का पाउडर
  • 1/2 चम्मच हल्दी का पाउडर
  • स्वाद के लिए शहद मिला सकते हैं

सबसे पहले दो कप पानी लें और इसे अच्छे से उबाले फिर इसमें 1/2 चम्मच हल्दी और अदरक का पाउडर डालें, अब इसे 10-15 मिनट्स तक अच्छे से उबलने दें इसके बाद इसमें अपने स्वाद के लिए थोड़ी सी शहद मिला दें. इस तरह अदरक और हल्दी की चाय बनाकर एक दिन में दो बार पिए आप इसे सुबह व शाम को भी ले सकते हैं.

सेंधा नमक – Epson Salt For Joint pain instant treatment

सेंधा नमक में मैग्नीशियम सल्फेट होता हैं जो की दर्द निवारक के रूप में काम आता हैं. कई सदियों से सेंधा नमक का प्रयोग चोंट या किसी अन्य वजह से हो रहे दर्द को दूर करने के लिए किया जाता आ रहा हैं.

जरुरत :

  • 1/2 कप सेंधा नमक
  • एक बड़ा कटोरा
  • थोड़ा गर्म पानी

सबसे पहले बड़े कटोरे में आप गर्म पानी डालें फि इसमें 1/2 कप सेंधा नमक भी मिलाये. अच्छे से मिलाकर अपने दर्द दे रहे अंग को इस पानी में डुबो दें. जैसे घुटनो में दर्द हो रहा हो तो एक बाल्टी में गर्म पानी डालकर ऊपर से सेंधा नमक मिलाकर अपने पैरों को उस बर्तन (बाल्टी) में डुबो दें. इसका प्रयोग आप बाथ टब में भी कर सकते हैं. आपको सिर्फ अपने दर्द कर रहे अंग को सेंधा नमक मिले हुए पानी में डुबो कर रखना हैं करीबन 15-20 मिनट्स तक.

मैग्नीशियम – Importance Of Magnesium

मैग्नीशियम हमारे शरीर की जरूरत है, लेकिन हम इसे स्वयं नहीं बना सकते हैं यह हमारे शरीर में 300 से अधिक विभिन्न बायोमेनिकल प्रतिक्रियाओं में उपयोग किया जाता है. यह हमारी सभी मांसपेशियों और तंत्रिकाओं को आराम देता है, कठोरता और दर्द से राहत देता है. यह मांसपेशियों को आराम और दर्द को कम करता है (यह गठिया दर्द के लिए भी आजमाया जाता है) यह खनिज को हड्डियों में मदद करता है.

अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन ने मैग्नीशियम पर कई अध्ययनों में से एक का अध्ययन किया जिसमें मैग्नीशियम / आहार की खुराक में उच्च आहार था, जो उच्च हड्डियों की घनत्व और कुल मिलाकर मजबूत हड्डियों को दर्शाता था. इसलिए आप भी वह सभी आहार ज्यादा से ज्यादा लें जिनमे मैग्नेसियम की मात्रा ज्यादा हो, ऐसा करने से हड्डियों का दर्द दूर हो जायेगा.

Supplement : मैग्नीशियम कैप्सूल आपके दिन-प्रतिदिन जीवन में जोड़ने की अच्छी चीज है, लेकिन बेहतर आहार के साथ संयोजन में इस्तेमाल होने पर वे सबसे अच्छा काम करते हैं. इसलिए मैग्नीशियम के कैप्सूल लेने के साथ-साथ आहार पर भी विशेष ध्यान दें.

आहार : वास्तव में यह क्लिंचर है – पत्तेदार सब्जियां खाये, पालक, नट, और फलियां (बीन्स), डार्क चॉकलेट्स, अवोकेडो, केले आदि का ज्यादा से ज्यादा सेवन करे.

तेल : मैग्नीशियम का तेल भी होता है जो त्वचा के माध्यम से शीर्ष पर लागू किया जा सकता है और अवशोषित हो सकता है. दर्द को दूर करने के लिए गले जोड़ों पर रगड़ने की कोशिश करें.

Dandelion Leaves For Joint Pain Ayurvedic Cure

Danelion leaves जिसे हिंदी में सिंहपर्णी के पत्ते कहे जाते हैं इनमे सबसे ज्यादा मात्रा में विटामिन C और A पाया जाता हैं. यह damaged tissue को repair करता हैं साथ ही खून में मौजूद टोक्सिन को भी साफ़ करता हैं. इस तरह सिंहपर्णी के पत्ते joint pain के treatment में बहुत असरदार साबित होते हैं.

जरुरत :

  • ताजा dandelion leaves (सिंहपर्णी के पत्ते) 3 चम्मच, या सूखे के 1 चम्मच
  • 1 कप उबला हुआ पानी

इसका ताज़ा सूप बनाने के लिए तीन चम्मच सिंहपर्णी के पत्ते मिलाये और इन्हे पानी में उबालकर दिन में दो बार पिए. अगर आपके पास सिंहपर्णी के पत्ते न हो या आप पत्तों की चाय न बना पा रहे हो तो इसके जगह पर आप सिंहपर्णी के पत्ते को सुखाकर बारीक पीसकर एक चम्मच पाउडर मिलाकर पानी में डालकर अच्छे से उबालकर पि सकते हैं.

नियमित व्यायाम – Exercise For Joint Pain

Joint pain exercise – व्यायाम के जरिये आप कई हद तक joint pain से बच सकते हैं, अगर आप अभी जवान हैं और आपको joints में pain हो रहा हो तो आपको जरूर ही एक्सरसाइज करना शुरू कर देना चाहिए ताकि बुढ़ापे में आपको ज्यादा तकलीफ न हो. इसके लिए आप योग का भी सहारा लें रोजाना सूर्य नमस्कार करे और योग के 2-3 आसान भी करे. नियमित व्यायाम से जॉइंट्स में खून का बहाव बना रहता हैं.

एक्यूपंक्चर – Acupuncture For Joint Pain

एक्यूपंक्चर एक प्राचीन चीनी चिकित्सा उपचार है जिसमें आपके शरीर पर विशिष्ट बिंदुओं में पतली सुइयों को सम्मिलित किया जाता हैं. यह ऊर्जा फिर से शुरू करने और अपने शरीर में संतुलन बहाल करने के लिए माना जाता है. एक्यूपंक्चर सबसे शोधित पूरक चिकित्सा है और 100 से अधिक विभिन्न स्थितियों के उपचार के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अनुशंसित है.

Acupuncture For Joint Pain

ऐसा माना जाता है कि एक्यूपंक्चर में गठिया दर्द कम करने की क्षमता है यदि आप इस उपचार पद्धति का पता लगाना चाहते हैं तो अपने राज्य में लाइसेंस प्राप्त और प्रमाणित एक्यूपंक्चरिस्ट को ढूँढना शुरू कर दें. अपने शहर में जहाँ भी आयुर्वेदिक दवाइयां मिलती हो वहां पर आप एक्यूपंक्चर के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. होमियोपैथी स्टोर्स पर भी इस बारे में आपको जानने को मिल जायेगा.

वजन ज्यादा हैं तो पहले इसे कम करे

आपका वजन गठिया से होने वाले दर्द की मात्रा पर बड़ा प्रभाव डाल सकता है अतिरिक्त वजन आपके जोड़ों पर अधिक दबाव डालता है – खासकर आपके घुटनों, कूल्हों और पैरों पर. वजन कम करने से आपके जोड़ों पर तनाव कम करने से आपकी गतिशीलता में सुधार होगा और दर्द कम हो जायेगा.

कुछ दवा – Joint Pain Medicine Tablets & Capsules

बाजार में कई तरह के हर्बल प्रोडक्ट्स हैं जो दावा करते हैं कि वे joint pain को कम करने में सक्षम हैं. गठिया के दर्द के लिए जड़ी-बूटियों में से कुछ शामिल हैं.

  • Boswellia
  • ब्रोमलेन
  • शैतान का पंजा
  • जिन्कगो
  • चुभने विभीषिका
  • गड़गड़ाहट देवता बेल

Indian Herbal medicine for joint pain

  • Organic India Flexibility 60 Cap
  • Futurebiotics – FlexMend Vegetarian Glucosamine with MSM – 90 Vegetarian Tablets
  • Allen A19 Joint Pains Drop
  • FutureBiotics, InflamMotion, Joint Inflammation Complex, 60 Veggie Caps
  • Amway Nutrilite Glucosamine Hcl With Boswellia (120 Capsules)
  • Inatur Ayurveda Unisex Karpooradi Oil
  • Maximum Human Performance, LLC, Core Series, Releve Joint Complex, 30 Capsules

साइड इफेक्ट्स और खतरनाक ड्रग इंटरैक्शन से बचने के लिए एक नए product का उपयोग करने से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से बात करें.

अपने आहार में सही फैटी एसिड शामिल करें

बेहतर स्वास्थ्य के लिए अपने आहार में प्रत्येक व्यक्ति को ओमेगा -3 फैटी एसिड की आवश्यकता होती है ये वसा आपके गठिया रोग में भी मदद करते हैं. मछली के तेल की खुराक, जो ओमेगा -3 में उच्च होती है, को संयुक्त कठोरता और दर्द को कम करने के लिए असरदार माना जाता हैं. आप जिन आहार में भी ओमेगा 3 भरपूर मात्रा में मिलता हो, उसका सेवन भरपूर मात्रा में करिये. (omega 3 for joint pain treatment) ओमेगा 3 जॉइंट्स को अंदर से मजबूती दिलाता हैं, मांसपेशियों को मजबूत करता हैं जिससे जॉइंट्स में दर्द पैदा नहीं होता.

इस तरह आप इन home remedies को आजमाकर joint pain से relief पा सकते हैं. और अपने आहार पर विशेष ध्यान दें diet & remedies for joint pain ayurvedic treatment in Hindi at home. दर्द होने पर ठन्डे गरम का सेंक करे या सेंधा नमक को गर्म पानी में डालकर अपने शरीर को उसमे डुबो दें. इसके अलावा नियमित रूप से दर्द वाली जगह पर joint pain के oil से मालिश भी करते रहे. अगर आप और joint pain treatment के लिए और ayurvedic remedies के बारे में जानना चाहते हैं तो ऊपर जो हमने लेख दिया हैं वह भी जरूर पड़ें.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.