fever medicine in hindi, fever medicine name in hindi

बुखार उतारने की दवा : आयुर्वेदिक अंग्रेजी : Medicine Name

बुखार की दवा गोली इन हिंदी : हमने आपको बुखार से जुड़े हर विषय में गहराई से बताया है, शायद ही ऐसा कोई सब्जेक्ट रह गया हो जो हमने बुखार पर न लिखा हो. सिर्फ tablets ही बाकी रह गए है. इसके अलावा अगर आपको लगता है की हमे बुखार रोग पर और भी लिखना चाहिए तो हमे Comment के जरिये बताये.

अभी कुछ दिन ही हुए है इस बात को हमने ऐसे बहुत से Comments पडें जिनमे लिखा हुआ था की “अंग्रेजी दवा बताये” इस के बारे में जानकारी दीजिये आदि. हर एक व्यक्ति ने अपने-अपने ढंग से अपने विचार व्यक्त किये. इसीलिए आज हम आपको bukhar fever medicine tablets in Hindi के बारे में बताने जा रहे है.

fever medicine in hindi, fever medicine name in hindi

ज्यादा तबियत खराब होने पर क्या करे

  • यह बात आप अच्छे से समझ लें की अगर आपको लगता हैं की आपकी तबियत ज्यादा खराब हैं, आपको बुखार आये हुए ज्यादा दिन हो गए है आदि. तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर से Check up करवा लेना चाहिए. ऐसा करने से आप ज्यादा बीमार पढ़ने से बच सकते हैं.
  • क्योंकि आज का समय ऐसा हैं की हर साल नई-नई बीमारियां जन्म ले रही है, और ऐसी अवस्था में आपको भी कोई नई बीमारी घेर सकती हैं. और आपको जब इस बारे में खबर होगी तो तब तक बहुत देर हो चुकी होगी. इसलिए हमारी सलाह को मानिये और ज्यादा तबियत बिगड़ने पर डॉक्टर को दिखाने में हिचकियां न.

बुखार की दवा अंग्रेजी और आयुर्वेदिक

Fever Ki Dawa Medicine Name in Hindi

बुखार की अंग्रेजी दवा का नाम की जो list में हमने निचे कुछ मेडिसिन्स के नाम दिए है. आप इनका प्रयोग बुखार उतारने में कर सकते है. यह बुखार के साथ-साथ सर दर्द, बदन दर्द को दूर करने में भी कारगर होंगी. इनके सेवन से आप बुखार से बड़े जल्दी छुटकारा पा सकते है. इनमे से आप कोई सी भी बुखार की गोली ले सकते है, यह सिर्फ 10 मिनट में असर दिखाना शुरू कर देगी और बुखार भगा देगी.

  • Paracetamol 650 mg
  • Cold & Sold
  • Ketophrin
  • Aspirin
  • Crocin Tablet & Syrups Form

bukhar ki dawa, bukhar ki medicine

बुखार की दवा पतंजलि

  • बाबा रामदेव की पतंजलि में बुखार को जड़ से ख़त्म करने में बहुत उपयोगी है. आप एक तो “दिव्य ज्वरनाशक वटी” और “दिव्य ज्वरनाशक क्वाथ” दोनों को पतंजलि स्टोर से ले आये और इनका इस्तेमाल करे. इनको इस्तेमाल करने की विधि इनके पैकेट के ऊपर ही लिखी होती है.
  • ज्वरनाशक क्वाथ स्वाद में बहुत कड़वा होता है, लेकिन इसको अगर आपने ले लिया तो फिर आपको सालों तक बुखार नहीं आएगा. लेकिन शर्त यही है की आप इसकी पूरी खुराक लें.

गिलोय – Fever ayurvedic tablet

  • आप पतंजलि स्टोर से गिलोय भी ले आये, और इसका भी काढ़ा बनाकर पिए. आपको चाहे कोई सा भी बुखार हो यह आयुर्वेदिक दवा यानी गिलोय का काढ़ा उसे ठीक कर देगा. असल में यह काढ़ा रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है जिससे बुखार टूट जाता है.
  • अगर आप काढ़ा नहीं लेना चाहते तो पतंजलि स्टोर से गिलोय की टेबलेट भी ले सकते है. इसको बड़ी उम्र के व्यक्ति को दो-दो गोली गिलोय की दें और छोटे बच्चों को एक गोली ही दें. इस तरह बिना काढ़ा पिए भी आप इसका लाभ ले सकते है.

तुलसी का आयुर्वेदिक काढ़ा

  • 20-22 तुलसी ताज़ा पत्ते लें और इन्हें करीबन एक लीटर पानी में डालकर खूब उबाले, इसमें आप 4-5 लौंग भी डाल दें और पूरा तब तक उबाले जब तक की यह उबलकर आधा न रह जाये. जब यह आधा रह जाए तो ठंडा होने पर इसको पि ले. ऐसा आप रोजाना रात को सोने से पहले करे इसको लेने के बाद पानी न पिए. तीन दिन तक यह लेने से बुखार चला जाता है.
  • कोई सी भी दवा या काढ़ा लेने के बाद आपको तेज गर्मी होगी तो आप कम्बल ओढ़कर सो जाए, और शरीर को हवा न लगने दें. आप इस तरह जितनी गर्म निकालेंगे उतने ही जल्दी बुखार ख़त्म हो जायेगा.

घर पर बनाये घरेलु दवा इस तरह

  • अगर आपको सर्दी लग कर बुखार आया हो यानी पहले सर्दी हुई हो और फिर बुखार आया हो तो आप यह आयुर्वेदिक उपाय करे. यह सर्दी से आये हुई बुखार से सिर्फ दो दिन में ही छुटकारा दिला देगा. इसको बनाने में भी ज्यादा समय नहीं लगता बस 3 minute.
  • अदरक और शहद हर घर में मौजूद होते है, और इस उपाय के लिए हमे इन दोनों की ही जरुरत होती हैं. थोड़े से अदरक का रस निकाले, रस निकालने के लिए किसी चीज से अदरक को पीसले. इसके बाद अदरक के रस में अपने स्वाद अनुसार शहद मिलाये. और अब इसका सेवन कर ले.
  • इस दवाई को रोजाना सुबह उठने के बाद और रात को सोने से पहले लें. एक बात जरूर याद रखे की इस दवाई को लेने के बाद पानी बिलकुल भी न पिए. अगर आप पानी पीते है तो यह आपको नुकसान भी कर सकती है.

लहसुन की दवा बनाये इस तरह

  • आप बुखार में लहसुन का उपयोग भी कर सकते हैं, क्योंकि इसमें भी वह गुण होते हैं जो की एक बुखार के इलाज की दवाई में होते हैं. लहसुन की पांच कलियां लें और इन्है घी में डालकर तवे पर सेंक कर खाये. आप तो पांच लहसुन की कलियों को तवे पर डाल दे और इसमें घी भी मिला दें. अब इसे थोड़ा तल लें. तलने के बाद ठन्डे हो जाने पर इसका सेवन करे.
  • बुखार के और नुस्खे जानने के लिए आप इस पोस्ट का अगला पेज भी पड़ें, यहाँ ओर आयुर्वेदिक नुस्खे बताये गए है जिन्हे आप घर पर ही बनाकर बुखार से छुटकारा पा सकते है. एक बारे जरूर पड़ें : NEXT PAGE

तो अब आप इनका उपयोग करे और आराम करे बुखार की आयुर्वेदिक दवा का नाम fever medicine name in Hindi के इस लेख को शेयर करे. साथ ही हमे बताये की आपको यह बुखार उतारने में गोली लेने से फायदा हुआ या नहीं.

52 Comments

  1. Ask Your Question
  2. Sameer Mishra
  3. Ask Your Question
  4. sonu
  5. Ask Your Question
  6. suraj ahemad
  7. Ask Your Question
  8. ravi kant sharma
  9. Ask Your Question
  10. suraj dixit
  11. Ask Your Question
  12. Bharat
  13. Ask Your Question
  14. Gajanan Kalyankar
  15. Ask Your Question
  16. Gopal Chouhan
  17. Ask Your Question
  18. saurabh
  19. Ask Your Question
  20. sandip kumar
  21. BABA
  22. Jagugodara
  23. BABA
  24. raj
  25. BABA
  26. ब़जेश
  27. Mohd ashraf
  28. Munna
  29. BABA
  30. raju kumar
  31. Raju kumar
  32. radheahyam
  33. BABA
  34. BABA
  35. BABA
  36. Pankajmalviya
  37. Sanju
  38. neeraj
  39. Durgesh yadav
  40. BABA
  41. करण
  42. BABA
  43. Gautam kumar
  44. ravi kr rajeev
  45. Baba
  46. Younus Rangrej
  47. Editorial Team
  48. vivek Singh
  49. Nangloi keshari
  50. Ruchika Yadav KM

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.