चिकनगुनिया जोड़ों के दर्द का इलाज की दवा और नुस्खे : जरूर पड़े

चिकनगुनिया जोड़ों का दर्द इलाज इन हिंदी  बताये – यहां हम आपको ऐसे रामबाण अचूक घरेलु नुस्खे बताएंगे जिनके जरिये आप घर पर ही इससे छुटकारा पा सकेंगे. ऐसे उपाय आपको दूसरी जगह और कहीं नहीं मिलेंगे. हम आपको एक्सरसाइज, मालिश, चिकनगुनिया में दर्द की दवा जो की 100% आयुर्वेदिक हैं उनके बारे में बताएंगे साथ ही यह भी बताएंगे की यह दर्द क्यों होता हैं.

चिकनगुनिया जोड़ों के दर्द घरेलू उपचार, चिकनगुनिया के दर्द का इलाज, chikungunya ke dard ki dawa, चिकनगुनिया जोड़ों का दर्द इलाज

चिकनगुनिया एक महामारी हैं जो की वायरस से संक्रमित मच्छर के काटने से होती हैं. इसके शुरूआती लक्षण में तेज बुखार, चक्कर आना, शरीर पर रेशेज होना, खून में प्लेटलेट्स की कमी आना और जोड़ों में दर्द होने लगता हैं. चिकनगुनिया में जोड़ों का दर्द बुखार के चले जाने के बाद भी कई सप्ताह व महीनो तक बना रहता हैं, यह असहनीय दर्द होता हैं joint pain after chikungunya attack remedies for treat pain in Hindi.

  • अगर आपको इस बीमारी के लक्षणों के बारे में ज्यादा नहीं पता हैं तो आप एक बार यह लेख जरूर पड़ें यहाँ पर इस बीमारी की पहचान करने के लिए सारे लक्षणों के बारे में अच्छे से बताया गया हैं >> चिकनगुनिया के 7 लक्षण – Symptoms Of Chikungunya

जोड़ों का यह दर्द चिकनगुनिया के वायरस के कारण होता हैं और जब तक यह वायरस शरीर से पूरी तरह बाहर नहीं निकल जाता तब तक यह दर्द बना रहता हैं. इस वायरस में ऐसे उत्तक होते हैं जो की जोड़ों को प्रभावित करते हैं. जब शरीर इस वायरस से अपनी सुरक्षा करने के लिए प्रतिक्रिया करता हैं तो जोड़ों में दर्द उत्पन्न होता हैं.

नुस्खे इसलिए बेहतर होते हैं क्योंकि इस रोग में कई दवाई भी काम नहीं करती. हमने कई लोगों को इन नुस्खों से चिकनगुनिया के दर्द का इलाज करते हुए देखा हैं और उन्हें आराम भी मिला हैं. जब रोगी रोजाना अपने जोड़ों में जहां दर्द हो रहा हो वहां मालिश करता हैं और नियमित घरेलू उपचार का उपयोग करता हैं तथा बताई गई एक्सरसाइज व्यायाम करता हैं तो उसका दर्द  दूर हो जाता हैं.

join pain in chikungunya

 चिकनगुनिया में जोड़ों का दर्द इलाज घरेलु उपचार

Join Pain in Chikungunya attack in Hindi

  • यहां बहुत ही असरकारी नुस्खे बताये है, इसलिए पोस्ट को निचे एन्ड तक पूरा और ध्यान से पड़ें.

सबसे ज्यादा दर्द कहां पर होता हैं

  • हाथों के जोड़ों पर
  • कलाई और कोहनी
  • टखने, पैर और कुछ हद तक अन्य जोड़ भी प्रभावित होते हैं

चिकनगुनिया के बाद जोड़ों का दर्द कितने समय तक होता हैं ?

  • चिकनगुनिया के बाद जोड़ों का दर्द 1 वर्ष से लेकर 2-3 महीनो तक बना रह सकता हैं. इसको कम समय में ख़त्म करने के लिए आप दवा व घरेलु उपचार आदि का प्रयोग कर सकते हैं. ऐसा करने से कम समय में ही बहुत आराम मिलता हैं.
  • इसके साथ ही अगर रोगी प्रोटीन और नुट्रिएंट्स देने वाला भोजन करे और नियमित रूप से व्यायाम करे योग स्ट्रेचिंग करे तो इससे भी रोगी को बहुत आराम मिलता हैं. ऐसा करने से शरीर में खून की गति बढ़ती हैं जिससे शरीर के सभी अंगों में पर्याप्त खून पहुंचता हैं. इस तरह इन सभी उपायों को करने से आप सिर्फ 2-3 सप्ताह के भीतर ही दर्द दूर कर सकते हैं.

रामबाण मालिश

  • चिकनगुनिया के लिए ड़ॉ शिला श्रीवास्तव जी ने चिकनगुनिया के दौरान दर्द को दूर करने का उपाय बताया हैं, उन्होंने इस उपाय को कई रोगियों पर प्रयोग भी कर के देखा हैं और पाया की यह काम करता है. इसे आप घर पर ही रसोई घर में बना सकते हैं यह chikungunya बुखार में होने वाले के दर्द की दवा से भी ज्यादा कारगर हैं, कई अंग्रेजी दवा और एलॉपथी की दवा भी इस उपाय के आगे फ़ैल हैं. तो आइये जानते हैं इस उपाय के बारे में.
  • 49-51 ग्राम सरसों का तेल लें (Mustard Oil), इतनी ही मात्रा में सफ़ेद तिल का तेल भी ले लीजिये. एक अदरक का छोटा टुकड़ा पिसा हुआ, अब करीबन 16 लौंग भी ले लीजिये, 2 चम्मच अजवाइन और एक चम्मच मेथी के दाने लें, 1/2 दालचीनी का टुकड़ा भी लें, 16 लहसुन (Garlic) की काली लें इनको बारीक करके उपयोग में लाये, एक छोटी चम्मच हल्दी और 2 कपूर के बड़े पीस और आखिर में एक चम्मच अलोएवेरा का जेल.

डेंगू का मच्छर

  • इस तरह करे प्रयोग – सबसे पहले रसोई घर में से सब्जी बनाने के कढ़ाई लें और इस काढ़ा में सरसों का तेल और सफ़ेद तिल का तेल दोनों को मिला दीजिये और आग को तेज करके अच्छा गर्म कीजिये. अच्छा गर्म हो जाने के बाद आग थोड़ी धीमी कर दें और अब कढ़ाई में हल्दी और कपूर को छोड़कर बाकी सभी बताई गई चीजे डाल दें.
  • इन सभी को तब तक कढ़ाई में टेल जब तक इन में डाली गई चीजे जल न जाए यानी आप करीबन 22-24 मिनट्स तक तक इसे उबाले. इन सभी को भून ने में इतना समय तो लगेगा ही. इतनी देर तक तलने के बाद आपको एहसास होगा की तेल का रंग हल्का गहरा होता जा रहा हैं जब ऐसा हो जाए तो आप थोड़ी देर और गैस जलाकर रखे और फिर गैस को बंद कर दें. फिर बाकी जो हल्दी और कपूर रह गई थी उनको भी इसमें मिला दीजिये.
  • फिर जब यह कढ़ाई का तेल ठंडा हो जाए तो इसे कांच की शीशी में भरले. अब जब भी आपको जोड़ों में दर्द हो तो इस तेल से मालिश करे इसके साथ ही आप सुबह व शाम दोनों समय भी मालिश करते रहे. यह आयुर्वेदिक तेल की मालिश बहुत ही प्रभावकारी हैं. आप इसका प्रयोग जरूर करियेगा यह 100% आरामदायक हैं.  (आप इस तेल को दिन में तीन बार तक लगा सकते हैं, इसके अलावा जब भी आपको दर्द हो तो इसका उपयोग कर सकते हैं).

बर्फ की मालिश

  • बर्फ से शरीर के किसी भी अंग का सेंक करने से उसमे हो रहा दर्द दूर हो जाता हैं. यह घरेलु उपाय डॉक्टर भी आजमाते हैं क्योंकि बर्फ की ठंडक से हमारे शरीर के अंग में हो रही हलचल में आराम मिलता हैं, चोंट लगने पर भी बर्फ का सेंक का ही प्रयोग किया जाता हैं. हम जिस अंग पर बर्फ का सेंक करते हैं वह अंग सुन्न सा हो जाता हैं फिर हमे दर्द का एहसास ही नहीं होता.
  • तो आप इस तरह बर्फ के सेंक से दर्द का इलाज कर राहत पा सकते हैं. इसके लिए आप बर्फ को बारीक-बारीक पीस लें और एक टॉवल में इन बारक के बारीक टुकड़ों को रख कर दर्द कर रहे अंगों पर सेंक करे.

अंगूर और दूध

  • चिकनगुनिया के दौरान जोड़ों के दर्द को दूर करने के उपाय आप अंगूर का प्रयोग भी कर सकते हैं. इसका प्रयोग के सेवन से भी जोड़ों के दर्द का उपचार होता हैं. इसके लिए आप गाय का ताज़ा दूध लाये और उसे अच्छे से उबाल लें फिर दूध को ठंडा होने के लिए छोड़ दें. अब आप अंगूर लीजिये (इसमें आपको यह ध्यान रखना हैं की अंगूर में बीज न हो यानी आपको अंगूर के बीज निगलना नहीं हैं)
  • अंगूर ले आने के बाद आप पहले अंगूर खाये और फिर बाद में दूध को पि ले. इस तरह रोजाना सुबह व शाम को इस प्रयोग को करने से रोगी के शरीर में मौजूद संक्रमण वायरस धीरे-धीरे ख़त्म हो जाता हैं. इस तरह वायरस के ख़त्म होने से दर्द में राहत मिलती हैं.

लहसुन संक्रमण का उपचार करता हैं

  • लहसुन भी चिकनगुनिया के बाद जोड़ों का दर्द होने पर बहुत आराम देता हैं. लहसुन में ऐसे कई गन होते हैं जो की शरीर के संक्रमणों को दूर करते हैं. इसके अलावा लहसुन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी मदद करता हैं. इसके लिए आप रोजाना बिना कुछ खाये खाली पेट ही लहसुन तीन लहसुन की कलियां खाये.

गाजर

  • पकी हुई गाजर और कच्ची गाजर खाने से भी बहुत आराम मिलता हैं, यह फीवर के साथ साथ जॉइंट्स पैन से भी राहत दिलाती हैं. इसके लिए आप रोजाना कच्ची गाजर खाये यह ज्यादा लाभदायक होती. यह शरीर में मौजूद वायरस को भी ख़त्म करती हैं.

Chikungunya Joint Pain Medicine

  • अगर आप जोड़ों के दर्द में दवा का उपयोग करना चाहते हैं तो इसके लिए पेरासिटामोल दवा ले सकते हैं और साथ ही विटामिन C देने वाली दवाई गोली का सेवन कर सकते हैं. वैसे तो इन गोली दवा से बहुत कम मरीजों को आराम मिलता हैं लेकिन आप भी इनका प्रयोग कर के देख सकते हैं. हाई ब्लड प्रेशर, शुगर, हार्ट पेशेंट्स आदि जिन्हे पहले से ही कोई गंभीर रोग हो तो वह इन घरेलु नुस्खों ‘दवा’ का प्रयोग न करे. ऐसे में पहले डॉक्टर को दिखाना चाहिए.

हल्दी भी है आयुर्वेदिक दवा

  • हल्दी में anti-inflammatory के गुण होते हैं, इसके सेवन से शरीर में मौजूद सभी संक्रमण दूर हो जाते हैं. भारत में आज भी हल्दी का दूध देने का रिवाज हैं, यह शरीर को हर तरह से स्वस्थ रखने में सहयोगी होता हैं. इसका चिकनगुनिया में प्रयोग करने के लिए आप सुबह या रात को सोने से पहले हल्दी के दूध का सेवन कर सकते हैं joint pain in chikungunya.

रोजाना एक्सरसाइज करे

  • व्यायाम भी हैं महत्वपूर्ण – दर्द से जल्दी निजात पाने के लिए आपको शरीर की गतिशीलता बनाई रखने के लिए व्यायाम भी करते रहना चाहिए. क्या आपको पता है की चिकनगुनिया बुखार में सिर्फ रात को और सुबह के समय ही ज्यादा दर्द क्यों होता हैं? इसके पीछे एक कारण हैं और वह है की रात को जब हम बिस्तर सो जाते हैं तो हमारे पूरा शरीर में खून की गति धीमी पढ़ जाती हैं सभी अंग शिथिल हो जाते इस वजह से जोड़ों में दर्द होने लगता हैं.
  • और दिन के समय तो हमारा शरीर गतिशील रहता हैं, हम कुछ न कुछ कार्य करते रहते हैं जिससे शरीर में हलचल बनी रहती हैं. तो इसका अर्थ हुआ की रोगी जितना ज्यादा व्यायाम करेगा उसको दर्द से उतनी जल्दी छुटकारा मिलेगा.

इसके लिए आप रोजाना सुबह 5 मिनट के लिए प्राणायाम करे और 10-15 मिनट तक योगासन भी करे. सुबह जल्दी उठकर खुली हवा में टहलने जाए, थोड़ी दौड़ भी लगाए ऐसा करने से शरीर में रक्तसंचार बढ़ेगा जिससे हड्डियों का जोड़ मजबूत होगा और दर्द में आराम मिलेगा.

  • सूर्य नमस्कार करे
  • भस्त्रिका प्राणायाम करे
  • अनुम-विलोम प्राणायाम करे
  • स्ट्रेचिंग करे
  • Cat and Cow Yoga Pose
  • Child yoga pose
  • Tree Posture
  • Cow face pose
  • Bridge pose

पंचकर्म थेरेपी

  • पंचकर्म एक आयुर्वेदिक विषाक्तता चिकित्सा है और चिकनगुनिया गठिया के प्रबंधन में बहुत प्रभावी है. इसमें विशेष औषधीय तेलों के माध्यम से मालिश शामिल है यह संयुक्त दर्द में त्वरित सुधार देता है.
  • पंचकर्म थेरेपी करने के लिए आप अपने नजदीकी आयुर्वेदिक चिकित्सा केंद्र पर संपर्क करे. पंचकर्म चिकनगुनिया के बाद जोड़ों का दर्द दूर करने व शरीर में मौजूद सभी तरह के संक्रमण और विषाक्त पदार्थ को दूर करने में मदद करता हैं.

चिकनगुनिया बुखार का इलाज

  • अगर अभी तक आपका चिकनगुनिया बुखार ठीक नहीं हुआ हैं तो आप तुलसी का काढ़ा, गिलोय का काढ़ा, गिलोय का चूर्ण, गोली आदि का सेवन करे. गिलोय आपको बड़ी आसानी से आयुर्वेदिक स्टोर्स पर मिल जाएगी तुलसी और गिलोय के काढ़े से बहुत जल्दी राहत मिलती हैं.
  • रोजाना दिन में तीन बार नारियल पानी पिए, यह चिकनगुनिया के संक्रमण को भी दूर करेगा और शरीर में कमजोरी भी नहीं आने देगा.
  • मच्छरों से बचने के लिए निम् का तेल, लौंग का तेल आदि अपने शरीर पर लगाकर रखे और घर में साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखे
    पपीते के पत्तों का रस भी लेते रहे, इसको चिकनगुनिया में हर 3-4 घंटे की गैप में लेते रहने से भी बहुत आराम मिलता हैं यह घटती हुई प्लेटलेट्स की मात्रा कम करता है.

इन बातों पर भी दे ध्यान

सब्जियों का सूप पिए, नारियल पानी पिए, नारंगी का रस पिए, विटामिन C से भरपूर फलों का सेवन करे, फलों का रस पिए, चुकुन्दर का रस पिए, दलिया खाये, पपीता खाये. पेट भरकर भोजन न करे भूख से थोड़ा कम खाना खाये. डिहाइड्रेशन के खतरे से बचे रहने के लिए दिन में ज्यादा से ज्यादा पानी पिए, जितना पानी पिएंगे उतना ही लाभ होगा. इस तरह विटामिन C से भरपूर आहार लेने से जल्दी राहत मिलती हैं

chikungnya jodon ke dard ka ilaj, chikungunya join pain treatment in hindi

  • जोड़ों में दर्द से छुटकारा पाने पर हमने एक और पोस्ट लिखी थी, उसमे हमने जोड़ों के बारे में और भी जानकारी दी थी आप उसे भी एक बार जरूर पड़ें : NEXT PAGE 

तो दोस्तों आप चिकनगुनिया के दौरान जोड़ों के दर्द घरेलु उपचार treatment joint pain chikungunya in Hindi को जरूर आजमाए बहुत ही सरल है साथ ही व्यायाम पर भी विशेष ध्यान दें. विटामिन से भरपूर आहार लें खुली हवा में घूमने जाए.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.