chikungunya me kya khaye, चिकुंगुन्या में क्या खाएं, chikungunya me kya khana chahiye, चिकुंगुन्या में क्या खाना चाहिए

चिकुंगुन्या में क्या खाएं और क्या नहीं खाना चाहिए (Chikungunya Diet)

Foods and diet for chikungunya यह एक घातक रोग हैं और इसके प्रत्येक रोगी को पता होना चाहिए की (चिकनगुनिया) चिकुंगुन्या में क्या खाएं और क्या नहीं खाना चाहिए, क्योंकि एक सही आहार भोजन के जरिये बड़े से बड़े रोग को भी मात दी जा सकती हैं. और जब बात आती हैं चिकनगुनिया जैसी बीमारी की तो इसमें तो ओर सतर्क रहना चाहिए साथ ही क्या खाये और क्या न खाये चिकनगुनिया में परहेज क्या करे आदि इन सब चीजों के बारे में पता होना ही चाहिए. यहां हम आपको इसी विषय में पूरी डिटेल्स देंगे, आगे पढ़िए.

Quick Info :

(चिकनगुनिया) चिकुंगुन्या एक संक्रमित रोग हैं जो की चिकनगुनिया वायरस से संक्रमित मच्छर के काटने से होती हैं. इसके शुरूआती लक्षणों में रोगी को अचानक तेज बुखार आता हैं यह बुखार लम्बे समय तक बना रहता हैं और शरीर पर खुजली होने लगती हैं, शरीर पर रेशेज निकल आते हैं. इस रोग का दूसरा बड़ा लक्षण हैं जोड़ों में दर्द होना जब यह चिकनगुनिया वायरस पुरे शरीर में फेल जाता हैं तो शरीर के जोड़ों में दर्द होने लगता हैं, चक्कर आते हैं आदि यह सभी इसके सामान्य लक्षण हैं. इसक लक्षणों के बारे में पूरी तरह जानने के लिए यह जानकारी जरूर पड़ें – चिकनगुनिया के 7 लक्षण (Chikungunya Symptoms Hindi)

तो दोस्तों अब हम आपको बताते हैं की चिकुंगुन्या चिकनगुनिया में क्या खाये और क्या नहीं खाना चाहिए. हमने चिकनगुनिया, डेंगू, मलेरिया टाइफाइड आदि इन सभी रोगों पर पूरी डिटेल में बताया हैं आपको इन रोगों के बारे में भी पता होना चाहिए ताकि भविष्य में यह आपको न हो.

चिकुंगुन्या में क्या खाएं – Chikungunya Me Kya Khana Chahiye ?

chikungunya me kya khaye, चिकुंगुन्या में क्या खाएं, chikungunya me kya khana chahiye, चिकुंगुन्या में क्या खाना चाहिए

Most Important

#1. पपीता के पत्तों के रस का दिन में तीन से चार बार हर तीन घंटे के अंतराल में सेवन करते रहे, चिकिनगुन्या जल्दी ठीक होता हैं.
#2. गिलोय के काढ़ा, गिलोय की गोली का सेवन भी जल्दी ठीक करता हैं
#3. तुलसी का काढ़ा भी पिए. आदि ऐसे ही आयुर्वेदिक नुस्खों के बारे में जानने के लिए आप यह लेख जरूर पड़ें >> इसमें Chikungunya Treatment in Hindi– चिकनगुनिया का इलाज उपचार रामबाण घरेलु उपाय दिए गए हैं जिनसे कुछ ही दिनों में चिकनगुन्या रोग को मिटाया जा सकता हैं.

  • चिकनगुनिया बुखार से पीड़ित लोगों द्वारा एक सात्विक, संतुलित आहार लिया जाना चाहिए.
  • शरीर से तेजी से वायरस बाहर निकलने में मदद करने के लिए पानी, सोप्स, दाल और नारियल पानी, पपीता के पत्तों का रस आदि बहुत से तरल पदार्थ लें.
  • विटामिन A और C में बनी हुई सब्जियों का सेवन बढ़ाएं जो पचाने में आसान और समृद्ध है.
  • मीठे चूने, आंबा कैप्सिकम, ब्रोकोली, अनानास, गोभी, पपीता और गवाओं जैसे फल विटामिन सी में समृद्ध हैं, जो इनवेसिव वायरस और बैक्टीरिया को नष्ट करते हैं.
  • इसके अलावा, ओमेगा 3 और 6 फैटी एसिड का सेवन करे, जो मजबूत हड्डियों और मांसपेशियों के निर्माण और जोड़ों को कोमल बनाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं.

चिकुंगुन्या में हरी पत्तेदार सब्जियां खाना चाहिए

पत्तेदार सब्जियां हमारी पृथ्वी पर सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक हैं. वे पचाने में आसान होते हैं और कैलोरी में बहुत कम होते हैं. वे विटामिन A में समृद्ध हैं जो की आपके शरीर को कैंसर से बचाता है और हड्डी के विकास को ओर बढ़ाता हैं. पत्तेदार सब्जियों में भी विटामिन C होता हैं जो मुक्त कण के निर्माण को रोकता है और गठिया से आपके शरीर की रक्षा करता है.

यह आपके स्वास्थ्य को पुनर्स्थापित करता है. करीब-करीब सभी तरह के पोषक तत्व हरी सब्जियों में पाए जाते हैं, रोगी को इसका सेवन करने से बुखार में आई कमजोरी दूर होती हैं शरीर को नई ऊर्जा मिलती हैं. अपने आहार में पत्तेदार सब्जियां शामिल करना सुनिश्चित करें यह न केवल आपको चिकनगुनिया से लड़ने में मदद करता है, बल्कि आपके समग्र स्वास्थ्य को भी उतना ही मजबूत करता है.

Vitamins C और E ज्यादा का आहार लें

विटामिन C चिकित्सा घावों में मदद करता है, मांसपेशियों, हड्डियों, रंध्र और अन्य रक्त वाहिकाओं के गठन को बढ़ाता हैं. विटामिन E अच्छा स्वास्थ्य, निर्दोष त्वचा को बढ़ावा देता है और कैंसर, दिल के दौरे, पार्किंसंस रोग और रुमेटीइड गठिया को रोकता है. विटामिन C और E वाले खाद्य पदार्थों के कुछ उदाहरण हैं अमरूद, पीले घंटी मिर्च, कीवी, ब्रोकॉलिस, स्ट्रॉबेरी, टमाटर, मटर आदि. विटामिन E के लिए आपको अधिक जामुन, Nuts, उष्णकटिबंधीय फल, गेहूं, तेल और ब्रोकोली खाना चाहिए.

Omega 3 faty acid (What to eat Chikungunya)

Omega 3 faty acid का भोजन और खुराक के माध्यम से खाया जा सकता है, लेकिन इस मामले में जैविक खाद्य पदार्थों पर छड़ी करने के लिए सलाह दी जाती है. यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करता हैं और रक्त के थक्के को कम करता है, मस्तिष्क को ठीक से काम करने में मदद करता हैं, स्मृति को बढ़ाता हैं, स्ट्रोक की संभावना और गठिया के लक्षण भी कम करता है. Omega 3 faty acid दालों, अदरक अखरोट आदि में पाया जाता हैं.

नारियल पानी पिए

चिकनगुनिया के मरीज हाई टेम्परेचर के बुखार से पीड़ित होते है, इसमें खतरनाक तरीके से डिहाइड्रेशन होने की संभावना होती हैं. नारियल पानी जो इलेक्ट्रोलाइट्स में समृद्ध है, डिहाइड्रेशन को रोकने में मदद करता है. नारियल का पानी हानिकारक विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है जो जिगर में जमा होते हैं. आदर्श रूप से, चिकनगुनिया से पीड़ित रोगियों को हर दिन कार्बनिक नारियल पानी के पांच से दस गिलास पानी पीना चाहिए. जो लोग में भी चिकनगुनिया में क्या खाये इस पर गौर करते हैं उनको नारियल पानी का सेवन जरूर करना चाहिए.

Portobello Mushrooms

पोर्टोबोल्लो मशरूम से तैयार एक हार्दिक शोरबा का उपभोग करना चिकनगुनिया के कमजोर लक्षणों का मुकाबला करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है. पोर्टोबोल्लो मशरूम में सबसे ज्यादा मात्रा में विटामिन D पाया जाता हैं. पकाए गए पोर्टोबोल्लो मशरूम के एक कप में विटामिन D के लगभग 400 IU पैदा होते हैं.

पोषण अध्ययनों से संकेत मिलता है कि पोर्टोबोल्लो मशरूम जैसे विटामिन D समृद्ध खाद्य पदार्थों की पुरानी मांसपेशियों में दर्द को कम करने में मदद मिलती हैं, इसके सूप का और शोरबा का सेवन प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है और डिहाइड्रेशन को रोकता है.

यह स्वादिष्ट उष्णकटिबंधीय फल भी उच्च मात्रा में विटामिन C (92.7 मिलीग्राम प्रति 100 ग्राम) के साथ पैक किया जाता है. डॉक्टर भी चिकनगुन्या के मरीजों को सलाह देते हैं की आप विटामिन C का ज्यादा सेवन करे, तो इसके लिए आप कीवी फ्रूट का सेवन कर सकते हैं इससे आपको भरपूर मात्रा में विटामिन C मिलेगा.

तरल पदार्थ ज्यादा खाये

चिकुंगुन्या में तरल-पदार्थ खाएं, तरल चीजों का सेवन करने से पाचन में आसानी होती हैं, तरल चीजे बड़ी आसानी से पच जाती हैं और किसी भी तरह का नुकसान नहीं करती. इसके लिए आप दलीय, सूप, फलों का रस आदि का सेवन कर सकते है.

दही भी हैं उपयोगी

कम वसा वाला दही विटामिन B 12 या कोलोमालिन का एक उत्कृष्ट गैर शाकाहारी स्रोत है. जो लोग चिकनगुनिया से पीड़ित हैं, वे अपने जोड़ों में कमजोर पड़ने वाली दर्द की शिकायत करते हैं. विटामिन B 12 युक्त समृद्ध पदार्थ सेवन करने से जोड़ों में दर्द को कम करने में मदद मिलती है यह शक्तिशाली विटामिन प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में भी सहायता करता है. चिकनगुनिया जोड़ों में दर्द होने पर क्या खाये.

पालक की सब्जी देगी ताकत

पालक विटामिन E के सबसे अच्छा आहार स्रोतों में से एक है. पके हुए पालक की पैदावार में 100 ग्राम विटामिन E के लगभग 2.1 मिलीग्राम एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट होता है, विटामिन E पुरानी जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करता है. आदर्श रूप से, चिकनगुनिया से पीड़ित व्यक्तियों को बहुत सारे पालक सूप का उपभोग करना चाहिए पालक के अलावा आप अन्य हरी पत्तेदार सब्जी जैसे कि टर्निप ग्रीन, स्विस चर्ड और टर्निप ग्रीन भी खाना चाहिए.

सेब खाये पेट साफ़ रखेगा

चिकनगुनिया से उबरने के लिए खट्टे फलों का परहेज करना चाहिए जैसे कि तरबूज और नारंगी. इसके बजाय सेब और केले का आपको खाना चाहिए. सेब यानी एपल्स फाइबर से भरे हुए होते हैं जो आपके पाचन तंत्र को साफ करते है और कोलेस्ट्रॉल के निचले स्तर को सुनिश्चित करते है. केले में भी फाइबर होते हैं जो कब्ज को रोकते हैं और आंतों को साफ करते हैं. इसलिए आपको में खट्टे आहार न लें चिकनगुनिया में क्या नहीं खाना चाहिए इसे याद रखे.

ब्रोकोली गोभी 

ब्रोकोली एक क्रसफेरस सब्जी में विटामिन A और विटामिन C जैसे शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं. इस सब्जियों की 100 ग्राम की मात्रा में लगभग 89.2 मिलीग्राम विटामिन C और 623 आईयू विटामिन A मिलता हैं. विटामिन C समृद्ध खाद्य पदार्थ जैसे ब्रोकोली में मदद मिलती है यह आक्रामक चिकनगुनिया वायरस को नष्ट करने में बहुत मदद करता हैं. ब्रोकली का उच्च विटामिन A सामग्री कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करती है जिससे आपके शरीर को संक्रमण से लड़ने की ताकत मिलती हैं.

ज्यादातर आराम ही करे

चिकनगुनिया शरीर को बहुत कमज़ोर बना देता हैं यह जोड़ों और साथ ही मांसपेशियों को सबसे खराब तरीके से प्रभावित करता है और अचानक पतन के परिणामस्वरूप मांसपेशियों या जोड़ों की अचानक सुन्नता हो सकती है. इसलिए अगर आप चिकनगुनिया बुखार से पीड़ित है, तो पूरी तरह आराम करें. इससे चिकनगुन्या से जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगी, शरीर की खोई हुई शक्ति वापस आएगी.

मच्छर दानी लगाए

अगर आप या परिवार में कोई व्यक्ति चिकनगुनिया से प्रभावित है, तो उसे दिन के अधिकांश समय के लिए मच्छरदानी जाल में रखना जरुरी है. इससे मरीज को मच्छर के काटने से सुरक्षित रखा जाएगा और इस तरह रोग को फैलने से भी रोका जा सकता हैं. मरीज को किसी भी सार्वजनिक स्थान पर ले जाने से बचने का प्रयास करें. एडीज मच्छर एक चिकनगुनिया के रोगी को काटकर एक स्वस्थ व्यक्ति में ले जा सकता है और उसे संक्रमित कर सकता है. इसलिए, अधिकतम सावधानी बरतने के लिए मच्छर की जाली का प्रयोग करे.

तरल आहार पानी ज्यादा पिए

चिकनगुनिया में रोगी को डिहाइड्रेशन का जोखिम बहुत रहता हैं. इसलिए एक बार जब किसी व्यक्ति को चिकनगुनिया हो गया है तो उसे पानी भरपूर मात्रा में पीते रहना चाहिए. चिकनगुनिया गंभीर कमजोरी का कारण बनता है और अगर शरीर में कुछ डिहाइड्रेशन भी होता है, तो कमजोरी का सबसे बुरा मोड़ लग सकता है. तो, इसके लिए आप लगातार पानी पीते रहे और भोजन में तरल पदार्थ का अधिक सेवन करे साथ ही नारियल पानी भी पिए फिर आपको डिहाइड्रेशन का कोई खतरा नहीं रहेगा.

चिकुंगुन्या घर से बाहर का भोजन नहीं खाना चाहिए

जब आप चिकनगुनिया से पीड़ित हैं, तो आपको वास्तव में अपने भोजन की लालच पर सख्त नजर रखनी होगी. बाहरी खाद्य पदार्थों को हमेशा स्वादिष्ट बनाने के लिए तेल और मसालों के भार के साथ तैयार किया जाता है. हालांकि, यही अवयव इन खाद्य पदार्थ को पचाने में मुश्किल बनाते हैं. जब आप चिकनगुनिया के साथ लड़ रहे हैं, तो अपने पाचन तंत्र के कार्य को स्वस्थ रखने के लिए सबसे अच्छा है की आप सिर्फ घर पर बना भोजन ही खाये, बाजार की चीजों का सेवन न करे.

चिकनगुनिया संक्रमण से गंभीर कमजोरी होती है संक्रमण ठीक हो जाने के बाद भी संयुक्त और मांसपेशियों में दर्द महीनों तक रह सकता है. इसलिए, अगर आपको संक्रमण मिल गया है, तो जल्दी से अपने व्यस्त जीवन शैली में वापस आने के लिए जल्दबाजी न करें. बुखार के चले जाने के बाद भी कई महीनो तक जोड़ों में दर्द बना रहता हैं इसलिए आप ज्यादातर आराम ही करे. हमने जोड़ों के दर्द को ख़त्म करने के लिए आयुर्वेदिक घरेलु उपाय भी बताये हैं आप उस लेख को Related Post Section या Chikungunya की Category में जाकर पढ़ सकते हैं.

सिर्फ शाकाहारी आहार का सूप लें, जैसे पालक, गाजर, टमाटर आदि. मांसाहारी आहार का सूप लेना चिकनगुन्या में ठीक नहीं होता हैं.

तो दोस्तों अब आपको चिकुंगुन्या में क्या खाएं और क्या न खाये परहेज क्या करे आदि के बारे में जान लिया हैं, अब आप रोजाना इस डाइट को फॉलो करे (what to eat in chikungunya in Hindi) इस तरह पोषक आहार ली से आपको चिकनगुन्या से जल्दी रहत मिलेगी. चिकुंगुन्या में क्या खाना चाहिए इस लेख को आप सोशल नेटवर्क पर भी शेयर करे ताकि यह ज्यादा से ज्यादा लोगों तक आसानी से पहुंच जाए. इसके अलावा नारियल पानी, सादा पानी, पपीता के पत्ते, गिलोय का काढ़ा आदि का सेवन जरूर करे.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.

हमसे Facebook पर अभी जुड़िये, Group Join करे "Join Us On Facebook"