f

दांत दर्द निवारण के 6 मंत्र – दांत दर्द की दुआ व टोटके

Ad Blocker Detected

Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by disabling your ad blocker.

मंत्र से रोगों के उपचार का प्रचलन काफी पुराना हैं, भारतीय प्राचीन ऋषि मुनियों, साधु, संतो झाड़-फंक आदि लोगो ने इस विषय में बड़ी-बड़ी खोजे की हैं और सफलता भी पाई हैं. रोग चाहे मानसिक हो या शारीरिक मंत्र साधना, मंत्र उच्चारण, और दुआ आदि से इन सब पर काबू पाया जा सकता हैं. हम यहां आपको ऐसे ही मसूड़ों, दाढ़ व दांत दर्द का मंत्र और दांत दर्द की दुआ इन दोनों के विषय में पूरी तरह बताएंगे इनके जरिये आप तेज दर्द कर रही दाढ़, मसूड़ों के दर्द से निवारण कर सकते हैं.

dant dard ka mantra, dant dard ka mantra in hindi, dant dard ke totkey

मसूड़ों, दाढ़ व दांत दर्द का मंत्र टोटके से दर्द कैसे मिटाये इन हिंदी में

विशेष : किसी भी रोग या अन्य वस्तू का मंत्र से उपचार/इलाज करते वक्त आपको इन चीजों पर विशेष ध्यान देना होगा – मंत्र साधना, मंत्र उच्चारण, मंत्र जपते समय भावना, श्रद्धा, एकाग्रता, स्वच्छ मन, सकारात्मक भाव आदि. किसी भी मंत्र से रोग का निवारण करते समय जरुरी हैं की आपके अंदर बताई गई बाते हो.

इनमे सबसे पहली बात आती हैं “भावना की“. मंत्र जपते समय आपकी भावना बिलकुल सकारात्मक होना चाहिए, ऐसा न हो की एक तरफ तो आप दांत के दर्द को ठीक करने के लिए मंत्र व दुआ कर रहे हो और दूसरी तरफ मन ही मन अपने आप से यह कह रहे हो की यह मंत्र, टोटके, दुआ आदि से कुछ नहीं होता.

ऐसा भाव करने से मंत्र, दुआ, टोटका आदि बिलकुल भी काम नहीं करते. इसीलिए जरुरी हैं की मंत्र उच्चारण करते समय आपको पूरा विश्वाश हो की वह 100% काम करेगा. दूसरी बात आती हैं मंत्र जप करते समय एकाग्रता बनाये रखने की, आप जब भी दर्द ख़त्म करने के लिए मंत्र दुआ आदि का प्रयोग करे तो यह भी जरुरी हैं की मंत्र का उच्चारण करते समय आपका ध्यान पूरा उसी पर हो, सकारत्मक भाव मन में बना रहे. चलिए अब दांतों के दर्द की दुआ मंत्र इन हिंदी में के बारे में जानने की कोशिश करते हैं.

मंत्र ही दांत दर्द की दुआ का रूप होता हैं दोनों सामान्य होते हैं

1. दांतो के दर्द के लिए गुरु गोरखनाथ जी का मंत्र

इस मंत्र का प्रयोग कैसे करे विधि :- इस मंत्र को पढ़ने के पहले नीम की एक छोटी सी टहनी तोड़कर लाये, इस टहनी को रोगी को दे दें व फिर इस मंत्र का उच्चारण करे. इसके बाद नीम की टहनी को लेकर रोगी को झाड़ दें. “झाड़ना यानी” रोगी को सीधा खड़ा कर दें व इस नीम की टहनी को रोगी के सिर से लेकर पैर तक 21 बार ऊपर निचे लाये. सिर के छोर से गिनना शुरू करे (इस क्रिया को झाड़ना कहते हैं), इस तरह नीम की टहनी से रोगी को झड़ने से दांत दर्द में आराम मिलता हैं.

यह शाबर मंत्र हैं जो की गुरु गोरखनाथ जी के द्वारा बताया गया हैं. इस मंत्र का उच्चारण करते समय शब्दों व मात्रा का पूरा ध्यान रखे. मंत्र का उच्चारण करने से पहले अपनी आंखें बंद कर के गुरु गोरखनाथ जी को प्रणाम करे व इसके बाद मंत्र को जपे. (दन्त शूल व दाढ़ों, मसूड़ों व दांत में कीड़े लगने का मंत्र अर्थात दुआ हैं, इसे आप टोटका भी कह सकते हैं)

घर रहकर ही दांतों के दर्द से आयुर्वेदिक उपायों से निजात पाने के लिए आप यह जानकारी जरूर पड़ें. यहां पर दांतों के दर्द से मुक्त होने के लिए कई तरह के देसी व आयुर्वेदिक उपाय दिए गए हैं – 12 दांत दर्द के घरेलु नुस्खे उपाय

2. श्री हनुमान दंत निवारण उपाय

यह मंत्र श्री हनुमान जी से दांत दर्द को मिटाने की प्राथना करने जैसा हैं, इसके प्रयोग से सभी तरह के दांत दर्द में लाभ होता हैं. सबसे पहले एक नीम की टहनी लाये इसके बाद इस टहनी को जो दांत दर्द कर रहा हो उस जगह पर रख दें व इसके बाद इस मंत्र को 7 या 21 बार जप करे. यह दाढ़ का दर्द व दाढ़ के कीड़े में भी उपयोगी होता हैं.

3. दांतो को झड़ने के मंत्र

प्रयोग विधि :- यह दोनों मंत्र दांत दर्द के निवारण के लिए हैं. इन दोनों मंत्रो में से किसी एक मंत्र से आपको रोगी पर अपने दाए हाथ की तर्जनी उंगली से रोगी को झाड़ना हैं. आप चाहे तो दोनों मंत्र का उपयोग कर सकते हैं लेकिन दोनों मंत्र से रोगी को झाड़ने के बिच समय अंतराल करीबन एक घंटे का होना चाहिए.

क्या आपके दांत काले व पिले मट-मेले हैं, क्या आप भी पिले दांतों के शिकार हैं ?? तो इस तरह घर पर ही उपचार करे अपने दांतों का – जरूर पड़ें >>> दांतों का पीलापन दूर करे

4. आसान मंत्र Teeth pain Mantra (toothache)

उपयोग कैसे करे विधि :- इस मंत्र का उच्चारण मुंह धोकर किया जाता हैं, यह दांत दर्द, मसूड़ों के दर्द, दांत के कीड़े का दर्द आदि दांतों के सभी रोगों में लाभदायक होता हैं. इस मंत्र का उपयोग कुल्ला करते हुए करना होता हैं. यह छोटा सा मंत्र हैं इसे आप 21 बार तक करे. हर बार अलग-अलग तरह से करे यानी कुल्ला करते जाए और मन ही मन मंत्र का उच्चारण भी करते रहे अंत में मंत्र के ख़त्म होने पर मुंह के पानी को बाहर निकाल दें.

Recommended – क्या आप दांतो के दर्द के लिए सबसे असरकारी दवा के बारे में जानना चाहते हैं तो यह जानकारी जरूर पड़ें. यहां पर दांत दर्द की दवाइयों के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी दी गई हैं. कोन-सी दवा लें और कोन-सी नहीं अभी पड़ें >>> दांत दर्द की 8 दवा

5. आप भी कर सकते है किसी के भी दर्द का निवारण

अगर आप दांत दर्द का डॉक्टर व दांत दर्द के टोटके, दुआ आदि सीखना चाहते हैं तो यह मंत्र आपके लिए ही हैं. क्योंकि इस मंत्र को सिद्ध करने के बाद आप किसी भी तरह के दांत दर्द से झुंज रहे रोगी का इलाज कर सकते हैं. यह मंत्र थोड़ा कठिन हैं क्योंकि इसकी सिद्धि के लिए आपको करीबन एक लाख बार इस मंत्र का जप करना होगा. लेकिन जब एक बार आपने इस मंत्र को सिद्ध कर लिया तोह फिर आप एक डॉक्टर हो जायेंगे. चलिए आगे पढ़ते हैं इसको सिद्ध करने की विधि के बारे में.

दीपावली की रात से इस मंत्र का जप करना शुरू करे, यानी मंत्र जप, साधना सिद्धि शुरू करे. इसके लिए ऐसी जगह चुने जो की शुद्ध हो, साफ़ हो, एकांत हो. इसके बाद गाय के घी का दीपक जलाये फिर दीपक को प्रणाम कर बताये गए मंत्र का जप करना शुरू करे. इसका जब आपको एक लाख बार करना होता हैं तब जाकर यह मंत्र सिद्ध होता हैं.

एक लाख बार जप कर लेने के बाद आप किसी दांत दर्द के रोगी का उपचार कर सकते हैं, इसके लिए आप अपने हाथ में नीम की टहनी लीजिये और रोगी पर मंत्र जप करते हुए इस नीम की टहनी से रोगी को झाड़ दें. इसके साथ ही आप नीम की टहनी के बदले यह भी कर सकते हैं :- इस मंत्र का जप करते हुए रोगी के मुंह में जहां दर्द हो रहा हो वहां पर यह डालें “कष्टकारी भटकैया के बीजों की धूनी” यह प्रयोग भी लाभ देता हैं.

इस मंत्र को सिद्ध करने के बाद व्यक्ति दांत शूल, दांत में कीड़ा, दांत का दर्द, मसूड़ों का दर्द आदि से किसी भी रोगी को आराम दिला सकता हैं.

इस तरह से करे दांत दर्द की दुआ

dant dard ki dua, dant dard ki dua in hindi

आत्म सम्मोहन एक ऐसी चीज हैं जिसके जरिये व्यक्ति किसी भी रोग से छुटकारा पा सकता हैं. क्योंकि ज्यादातर व्यक्तियों को रोग ऊपरी तौर पर होते हैं, यानी मन के तौर पर होते हैं. यह रोग सिर्फ मन की भ्रांति के वजह से होते हैं. और इनसे छुटकारा पाने के लिए मन को सकारात्मक बनाना होता हैं. इसे आप दांत दर्द की दुआ भी कह सकते हैं (इन हिंदी).

यह दुआ आपको मसूड़ों के दर्द, दंत शूल, दांत दर्द आदि में बहुत लाभ देगी. इसकी विधि भी बहुत आसान हैं. पहली दुआ इस तरह करे – लौंग के तेल को दर्द वाली जगह पर डाले, या लौंग के तेल को रुई के फोहे में भिगो कर दर्द वाली जगह पर रख दें. इसके बाद आंख बंद करके अपनी दोनों आंखो के बिच में ध्यान ले जाए और यह भाव करे की “मेरा दांत दर्द ख़त्म हो रहा हैं” इसी भाव के साथ अपनी पूरी एकाग्रता से इस दुआ को दोहराये.

इस टीथ पैन की दुआ को करने में आप लौंग के तेल की जगह इन चीजों का उपयोग भी कर सकते हैं. एक गिलास पानी में थोड़ा नमक डालकर कुल्ले करे, कुल्ले इस तरह से करे की दर्द वाला दांत पूरी तरह से धूल जाए. इस प्रयोग में भी आपको वैसे ही भाव करना हैं. आंखे बंद करके दोनों आंखो के बिच में ध्यान लगाकर यह भाव करे.

नमक के पानी की जगह आप हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल भी कर सकते हैं. बस इसके इस्तेमाल के बाद अपना मुंह जरूर धोये ताकि हाइड्रोजन पेरोक्साइड मुंह में न रह जाए.

Magic Of Affirmation

आदि आप किसी भी आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे को आजमाकर यह दुआ करे. इस दुआ यानी इस तरह भाव करने से आपके दांतो को कई हद तक आराम मिलेगा. दांतों के दर्द से जुड़े विभिन्न नुस्खों के बारे में पढ़ने के लिए यहां पर जाए –दांत दर्द का घरेलु इलाज करने के 15 तरीके.

उम्मीद हैं दोस्तों दांत दर्द का मंत्र से आपके दांतों, दाढ़ों आदि का दर्द दूर हो जाए, यह मंत्र प्राचीन ग्रंथों से लिए गए हैं. आज भी इनका उपयोग कई जगहों पर किया जाता हैं. दांत दर्द की दुआ व इन टोटके/टोटका आदि को करते समय अपने आत्मविश्वाश को बनाये रखे. अगर आप अंदर से नकारात्मक भाव रखेंगे तो यह आपको लाभ नहीं दे पाएंगे.

इसलिए जरुई हैं इन मंत्रो को पढ़ते जपते समय आप एकाग्रता बनाये रखे व पुरे मन से इसका उच्चारण करे. प्रत्येक दुआ, मंत्र, को बार-बार करते रहे. साथ-साथ जिन स्वामी का वह मंत्र हो उनका ध्यान भी करे.

loading...

2 Comments

  1. Suresh
  2. Neelam Purohit

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.