धातु रोग का घरेलू उपचार, धातु रोग का इलाज, धातु रोग की दवा

पेशाब में धात गिरना, धातु रोग जड़ से ख़त्म करने का इलाज 9 उपाय

धातु रोग का घरेलू उपचार की दवा और उपाय – पेशाब में धातु गिरना एक सामान्य सी समस्या होती जा रही है, नशीली चीजों का सेवन, शारीरिक कमजोरी और अधिक संभोग, हस्थमैथुन आदि के कारण यह समस्या पैदा होती है इसको जल्द से जल्द ठीक करना बहुत जरुरी होता है. इसे इंग्लिश में spermatorrhoea कहां जाता है.

धातु से छुटकारा पाने के लिए हम यहां आपको होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक दवा नुस्खे बता रहे है जिनके जरिये आप 100% पेशाब में धात का इलाज कर सकेंगे. इसके साथ इस रोग में क्या करे आदि सभी के बारे में बताएंगे लेख को पूरा पड़ें dhatu rog treatment in Hindi remedies.

प्रश्न : आखिर धातु रोग क्या है :

  • पेशाब करते समय, लेटरिंग करते समय, लिंग से वीर्य का बहना यानी मल त्याग या कोई भी काम जिसमे हम शारीरिक जोर लगाते है तो लिंग से पतला सा द्रव्य निकलता है जिसे धात की शिकायत कहते है. यह हमारी बिना मर्जी की दिन में कभी भी अपने आप निकलता रहता है. ऐसी व्यक्ति स्वप्नदोष, अति शीघ्र स्खलन, दुबलेपन, कमजोरी आदि से ग्रसित होते है.

धातु रोग का घरेलू उपचार की दवाधातु रोग का घरेलू उपचार, धातु रोग का इलाज, धातु रोग की दवा

Peshab Me Dhat Girna Ka Ilaj in Hindi

धातु रोग के कारण

  • कम उम्र में ज्यादा हस्थमैथुन करना
  • ज्यादा संभोग करना के कारण
  • संभोग के प्रति ज्यादा उत्तेजना होना
  • लिंग की नसों में कमजोरी
  • पोषकत तत्वों की कमी
  • नंगे चित्र, किताबे, वीडियो आदि देखना

धातु रोग के लक्षण

  • शारीरिक कमजोरी होना
  • सिर, कमर, पैरों में दर्द रहना
  • मन की कमजोरी
  • आलस्य
  • डरपोक स्वाभाव होना
  • पेशाब में जलन
  • पेशाब ज्यादा आना
  • अति शीघ्र स्खलन धात गिरने के लक्षण में आम है
  • छोटे से काम करने पर थकान आना
  • यह भी पड़ें : मुँह से बदबू आना का इलाज के उपाय

तो यह रहे धात गिरने की बीमारी के लक्षण और कारण. वैसे यह रोग ज्यादातर नोजवानो में देखने को मिलता है, तोह ऐसे में धात का ट्रीटमेंट जल्द से जल्द करना जरुरी होता है क्योंकि अभी बहुत जिंदगी बाकी है.

#1

  • धातु दुर्बलता दूर करने के लिए दो गिलास पानी, 50 ग्राम छोटी इलाइची पीसी हुई, तुलसी के 15 पत्ते, 2 चम्मच मिश्री. इन सभी को एक बर्तन में डालकर गैस पर रख कर आधे घंटे तक धीमी आंच में उबाले. जब यह एक कप जितना रह जाये तब गैस बंद कर सकते है.
  • विधि : काढ़ा बन जाने के बाद उसे ठंडा होने दें और उसमे से आधा कप सुबह खाली पेट और आधा कप रात को सोने से पहले लें. यह 1-2 दिन में ही असर दिखा देगा, जब तक पूरी तरह से धातु गिरना बंद न हो तब तक इस धातु के प्रभावी हर्बल उपचार को करते रहे.

#2

  1. आयुर्वेदिक दुकान से भिंडी का पाउडर ले आये, और रोजाना रात को सोने से पहले 2 चम्मच गुनगुने दूध के साथ इसे लें. पहले दिन से ही आपको आराम होना शुरू हो जायेगा. लगातार 1-2 महीने तक लेते रहने से हमेशा के लिए छुटकारा मिलता है पेशाब में धात गिरना बंद करने के उपचार में यह बेहद आसान और सरल घरेलु उपाय है.
  2. भिंडी पाउडर न मिले तो, 100 ग्राम अदरक को आधा लीटर दूध या 2 गिलास में मिलाकर अच्छे से धीमे आंच में उबाल ले, फिर दूध के ठंडा होने पर इसमें 2-3 चम्मच शहद मिलाकर पि जाए. यह भी अच्छे से धातु की समस्या का घरेलु इलाज करता है.

#3

बाबा रामदेव : धात में अंग्रेजी दवा लेने से बचे और यह आयुर्वेदिक दवा बनाकर ले श्वगन्धा, शतावर, सफ़ेद मूली और कोंच के बीज इन सभी को 100-100 की मात्रा में ले और पाउडर कर लें (बारीक पीस ले). इसके बाद रोजाना सुबह शाम 1-1 चम्मच गुनगुने दूध के साथ लें. यह धातु पौष्टिक चूर्ण की तरह है यह धात गिरना बंद कर देती है.

देसी इलाज में आप रोजाना 5 खजूर दूध के साथ ले, और थोड़ा गुड़ (jaggery) भी रोजाना खाये.

#4

  • चंद्रप्रभावटी : 1-1 गोली
  • योनामृत : 2-2 गोली
  • शिलाजीत रसायन : 1-2 गोली

Dhat problem medicine : यह तीनो धातु रोग में पतंजलि की दवा है व आप इनका सुबह शाम दूध के साथ बताई गई मात्रा में सेवन करे. यह स्वयं बाबा रामदेव द्वारा बताए गए उपाय है.

इसके अलावा इनका सेवन भी किया जाता है कामदेव का चूर्ण, अश्वगंधा की टेबलेट और चूर्ण, अश्वगंधा का पाक, धातुपौष्टिक चूर्ण, वसंत कुसमाकर रस. निवेदन अंग्रेजी दवाई लेने से बचे.

#5

  • 1 चुटकी चन्दर का पाउडर और 2 चुटकी अर्जुन छाल का पाउडर लें, दोनों को 100 ग्राम पानी में अच्छे से मिलाकर 16 दिन तक पिए. इससे लिंग की नसों की कमजोरी दूर होगी, लिंग की जलन शांत होगी.

#6

  • रोजाना रात को सोने से पहले शतावरी की जड़ का पाउडर 21 ग्राम की मात्रा में लेकर 200 ग्राम गिलास दूध में मिला कर अच्छे से उबाल लें और गुनगुना होने पर इसे पिलीजिए.

#7

रोजाना सुबह खुली हवा में 15 से 30 मिनट तक कपालभाति प्राणायाम करे तो इससे सभी तरह के योन रोगों का जड़ से इलाज होगा, सभी तरह की शारीरिक समस्या दूर होगी, योन शक्ति बढ़ेगी. अगर आप कोई दवा न ले और रोजाना कपालभाति आधे घंटे तक करेंगे तो भी पूरा लाभ मिल जायेगा.

लिंग की नसों में कमजोरी से धातु रोग पैदा होता है, इसके लिए आप रोजाना मूलबंध और अश्विनी मुद्रा करे.

#8 : Exercise 1

  • सिद्धासन या पद्मासना में बैठ जाए और अपने लिंग की नसों को कस ले, ऊपर की तरह खींचे, अपनी क्षमता अनुसार ऊपर खिंच कर रखे और फिर छोड़ दें ऐसा रोजाना सुबह करे. और बाकी आप दिन में भी इसे बार-बार करते रहे. आप कुर्सी, पालन, बाइक आदि कहीं पर भी बैठे हो इसे कर सकते हो. यह धात आना बंद कर देगी और योन शक्ति बढ़ाएगी.

#9 : एक्सरसाइज 2 मूलबन्ध

  • रोजाना सुबह सिद्धासन या पद्मासना में बैठकर अपने लिंग की नसों और मल द्वार की नसों यानी लिंग के पास के सभी नसों को सिकोड़ लें ठीक अश्विनी मुद्रा की तरह और फिर पेट पर जोर देकर अपनी सारी सांस को बाहर निकाल दें और पेट को अंदर की और चिपका ले अपनी शमता अनुसार इस इस्थिति में रहे रोजाना सुबह 5-10 मिनट यह करे.
  • अगर आप कपालभाति और यह 2 एक्सरसाइज करते है तो आपको धातु रोग में रामबाण लाभ होगा, इसके साथ ही बताए गए नुस्खे भी करते रहे तो पेशाब से धात गिरना ठीक हो जाएगी.
  • यह भी पड़ें : 15 दिन में शराब की लत छुड़ाने मुक्ति के उपाय

अन्य उपाय :

  • 2-3 केले दूध के साथ ले
  • दिन में दही का सेवन करे
  • रोजाना लहसुन, प्याज, गाजर, सौंफ का ज्यादा से ज्यादा सेवन करे

उम्मीद करते है आपको पेशाब में धातु रोग गिरना का इलाज के उपाय और दवा Dhat ka ilaj treatment in Hindi के बारे में जानकर अच्छा लगा होगा. अब आप रोजाना इनका सेवन करे और बाबा रामदेव पतंजलि की दवा भी लेवे. की इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा SHARE करे.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.