heartbeat control tips in hindi, हृदय की धड़कन, dil ki dhadkan tej hone par kya kare , dil ki dhadkan tej hona

हृदय दिल की धड़कन का तेज़ होना – Heartbeat Control Tips in Hindi

Heartbeat control tips in Hindi – हृदय का तेज धड़कना आज के समय में एक समस्या बना हुआ हैं, और यह आम होता जा रहा हैं. क्योंकि अब के समय में हमारा शरीर काफी कमजोर हो चूका है क्योंकि हमारा खान-पान व रहन सहन काफी बदल चूका हैं. इसी वजह से हमारा शरीर मौसम में हुए तुरंत बदलाव व शरीर में हुए अचानक से बदलाव को सहन नहीं का पाता इसी वजह से अब हार्ट अटैक होना भी बहुत आम हो गया हैं. आइये जाने दिल की धड़कन तेज़ होने का इलाज के घरेलु उपाय के बारे में.

कारण क्या है ?

कोई भी कार्य या क्रिया जो की हमारे द्वारा अचानक की जाती हैं उससे हृदय की धड़कन प्रभावित होती हैं. जैसे एक दम दौड़ना, भारी सामान उठाना, एक्सीडेंट होना, एक्सीडेंट होते देखना, किसी की मृत्यु की खबर सुनना, किसी चीज की चिंता करना आदि इसके अलावा हम निचे हृदय दिल की धड़कन तेज होने के कारण बता रहे है – पल्स रेट बढ़ने के कारण.

  • थायरॉइड, निम्‍म रक्‍तचाप, एनीमिया, लो ब्‍लड शुगर
  • ज्यादा भोजन कर लेने से
  • कार्बोहायड्रेट वसायुक्त और ज्यादा शुगर का खाना खाने से
  • नईट्रेट सोडियम वाले आहार का ज्यादा सेवन करना
  • हस्तमैथुन करने से
  • सम्भोग करने से

लक्षण क्या है ?

Top 9 Heartbeat Control Tips in Hindi

  1. हृदय की गति बढ़ने पर शांत हो जाये
  2. आंख बंद कर के अपनी सांसों पर ध्यान दें
  3. किसी खुली जगह पर जाए
  4. अगर आपकी धड़कन किसी तनाव या सोच विचार के कारण बढ़ी है तो अपने मन को कहीं और लगाए दोस्तों के साथ घूमने चले जाए, मूवी देखे आदि.
  5. ब्रह्मारी प्राणायाम करे मानसिक शांति मिलेगी
  6. गाजर का रस पिए
  7. भरपूर मात्रा में पानी पिए
  8. अपने इष्ट देव का ध्यान करे
  9. आप दिल के तेज धड़कने पर जितने शांत होने के उपाय करेंगे उतना ही लाभ होगा बाकी निचे दिए जा रहे आयुर्वेदिक घरेलु उपाय भी करे इनसे आपके हृदय की कमजोरी दूर हो जाएगी व हृदय मजबूत हो जायेगा व हृदय तेज धड़कना बंद हो जायेगा.

heartbeat control tips in hindi, हृदय की धड़कन, dil ki dhadkan tej hone par kya kare , dil ki dhadkan tej hona

हृदय दिल की धड़कन तेज़ होना घरेलु इलाज व उपाय

#1. गाजर का ठंडा मुरब्बा सेवन करने से अधिक गर्मी के कारण बढ़ी हुई हृदय की धड़कन सामान्य हो जाती हैं.

#2. रात को गाजर को भूंका छील लें और खुले में रख दें. सुबह के समय शक्कर और गुलाब जल मिलाकर खाने से दिल की धड़कन कम हो जाती हैं.

#3. हृदय की धड़कन तेज़ होने का इलाज – नागफनी और थूहर दोनों का सामान मात्रा में रस निकालकर पिने से तेज हार्ट बीट शांत हो जाती हैं.

#4. सूखा आंवला और मिश्री सामान मात्रा में लेकर कूट पीसकर सुरक्षित रख लें. इस दवा को 6 ग्राम की मात्रा में रोजाना एक बार पानी के साथ सेवन करने से कुछ दिनों में ही हृदय का अधिक धड़कना व अन्य रोग शांत हो जाते हैं.

#5. अनार के ताजा पत्ते आधा पांव पानी में घोटकर छान लें. इस रस का सुबह शाम रोजाना सेवन करने से दिल का तेज़ धड़कना शांत हो जाता हैं, यह आसान सा उपाय घरेलु इलाज हैं.

#6. 10 ग्राम रेहा के बीज मिटटी के बर्तन में आधा किलो पानी में भिगो दें. सुबह के समय बीजों को मसलकर छान लें और थोड़ी सी मिश्री मिलाकर सेवन करे. एक सप्ताह में हृदय की दुर्बलता और दिल का तेज़ धड़कना का इलाज हो जाता हैं.

#7. हार्ट बीट तेज़ होने पर अगर रोगी सिर्फ अंगूर ही खाता रहे तो हार्ट बीट का तेज़ धड़कना जल्दी ही शांत हो जाता हैं. जब दिल में धड़कन और दर्द अधिक हो तो अंगूर का रस पिने से दर्द बंद हो जाता है तथा धड़कन सामान्य हो जाती हैं और थोड़ी देर में ही रोगी को आराम आ जाता हैं एवं रोग की आपातकालीन स्थिति इमरजेंसी दूर हो जाती हैं व यह एक शानदार हार्टबीट कण्ट्रोल टिप्स हैं.

#8. सुबह के समय नाश्ते में एक प्लेट टुकड़े करके तले हुए अथवा उबाले गए प्याज का सेवन करने से व्यक्ति को हार्ट अटैक के खतरा नहीं होता. यह शानदार दिल की धड़कन तेज़ होने का इलाज हैं. प्याज से हृदय की धमनियों में रक्त के थक्के नहीं बनते और इस तरह से हृदय संभावित क्षति से सुरक्षित रहता हैं.

#9. हार्ट बीट बढ़ना तथा रक्त गाढ़ा होने की बीमारी में गाजर लाभ प्रदान करती हैं. हृदय कमजोर होने पर रोजाना दो बार गाजर का रस पीना चाहिए. यह हार्ट बीट का तेज़ होना रोकती हैं और रामबाण लाभ करती हैं.

#10. धारोष्ण दूध अर्थात दूध पशु के थानों से निकालकर, छानकर ताज़ा बिना गर्म किये ही मिश्री या शहद, भिगोई हुई किशमिश का पानी मिलाकर 40 दिन पिने से वीर्य सीमेन शुद्ध होता हैं. नेत्र ज्योति तथा स्मरण शक्ति बढ़ती हैं. खुजली स्नायु दौर्बल्य, बच्चों का सूखा रोग, क्षय रोग टीबी, हिस्टेरिअ तथा हृदय की धड़कन में लाभ होता हैं. छोटे-छोटे दुर्बल बालकों को इस प्रयोग से बहुत ही लाभ होता हैं. इसे धीरे-धीरे चुस्की लेकर पिए यह एक बेहतरीन हार्ट बीट कण्ट्रोल टिप्स हैं.

  • यह भी पड़ें – सीने में जलन का इलाज & उपाय

  • प्याज में या इसके रस में सेंधा नमक लगाकर दोनों समय भोजन के साथ खाये.
  • खाना खाने के बाद 5-6 चम्मच अंगूर कस रस सेवन करे.
  • पपीता का रस भी हरदान की धड़कन कम करने में उपयोगी होता है भोजन के बाद इसका सेवन किया जा सकता हैं.

दिल की धड़कन तेज होने पर क्या करे – हार्ट बीट तेज़ होने पर 11 ग्राम किशमिश, 1 चम्मच मिश्री ले और इसे एक ग्लास दूध में डाल दें और अच्छे से उबाले. जब अच्छा उबाल जाए तो किशमिश को खाते हुए दूध भी पि जाए. नियमित रूप से 20 दिनों तक इस प्रयोग को करे 101% लाभ होगा.

Heartbeat Kitni Honi Chahiye

एक सामान्य स्वस्थ व्यक्ति की हार्ट बीट 60-80 प्रति मिनट के लगभग होती हैं, ज्यादातर लोगों का हृदय एक मिनट में 72 बार धड़कता हैं. हृदय की धड़कन सभी लोगों में अलग अलग हो सकती हैं क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति का काम अलग अलग होता हैं जैसे किसी खिलाडी की धड़कन अलग होगी तो एक सामान्य घरेलु व्यक्ति की धड़क अलग होगी इस तरह सभी की धड़कन अलग होती हैं. बाकी 60-80 बार एक मिनट में दिल का धड़कना आम मन जाता हैं और एक सामान्य व्यक्ति का भी इतना ही होना चाहिए.

Heartbeat Kitni Honi Chahiye

Heartbeat Tips – हृदय की धड़कन

दिल की धड़कन के इलाज में जरुरी है की आप योग और व्यायाम का सहारा लें. अगर आप नियमित रूप से रोजाना योग, व्यायाम, प्राणायाम करते हैं तो आपको हृदय से सम्बंधित रोगों से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा. इसके लिए रोजाना सुबह के समय कपालभाति, अनुम विलोमा और ब्रह्मारी प्राणायाम करे. साथ ही योग के आसान भी करे व सुबह टहलने भी जाए थोड़ा परिश्रम वाला काम भी करे. यह प्राकृतिक हार्ट बीट का घरेलु उपाय है.

इस तरह आप हृदय दिल की धड़कन तेज़ होना का इलाज कर सकते हैं, इन घरेलु उपाय से हृदय की दुर्बलता दूर की जा सकती हैं. याद रहे इन घरेलु नुस्खे के साथ में योग प्राणायाम और व्यायाम करना भी शुरू कर दें. यह heart beat control tips in Hindi की जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे आगे जरूर बढ़ाये.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.