gala baithna, gala baith jana, gala kharab

ख़राब और बैठे गले को खोलने के उपाय जड़ से इलाज की दवा

गाला बैठना और ख़राब का इलाज इन हिंदी में हम आपको बताएंगे की गला ख़राब क्यों होता है इसके कारण और सही उपचार क्या होता है आदि. यह एक बड़ी ही सामान्य समस्या है जिससे प्रत्येक व्यक्ति को अपने निजी जीवन में कई बार सामना करना पड़ता है. अगर गला ख़राब होने पर इसकी मेडिसिन नहीं भी ली जाए तो भी यह थोड़े बहुत समय में ठीक हो जाती है.

गला बैठना के कारण 

  • तला भुना खाना, ज्यादा मसालेदार भोजन, लम्बे समय तक खांसी रहने से, ज्यादा तेजी से बोलने से, गर्म ठंडा पानी या अन्य गर्म ठंडी चीज के एक साथ सेवन करने से आदि इन निम्न करने से गले में सूजन हो जाती है जिससे हमर स्वरतंत्र बिगड़ जाता है. (कई लोगों के स्वरयंत्र बिलकुल ख़राब ही हो जाते है जिसे वजह से वह जिंदगी में फिर कभी साफ़ शब्दों में बोल नहीं पाते, ऐसा बहुत कम ही लोगों के साथ होता है). लेकिन अगर आपको यही न पता हो की गला ख़राब होने पर क्या करे और गले की आवाज़ बैठने के उपाय को कैसे करे तो आपको स्वाभाविक रूप से तकलीफ रहेगी है, लेकिन जैसे ही आपको इसको ठीक करने के लिए कुछ उपाय करेंगे तो जल्द ही राहत मिल जाएगी.

हम यहाँ कुछ सरल उपाय और इलाज बता रहे है इनके प्रयोग से आपको कुछ ही समय में आराम मिल जायेगा व गला खुल जायेगा, फिर से आवाज़ अच्छी आने लगेगी, तो आइये जाने गला बैठ जाना रोग के नुस्खों के बारे में.

  • पोस्ट को पूरा और ध्यान से आखिरी एन्ड तक पड़ें.

gala baithna, gala baith jana, gala kharab

गला बैठने का इलाज के उपाय और दवा

Gala Kharab Ka ilaj in Hindi

  1. अगर सर्दी जुकाम के कारण गला बैठ गला हो तो रात में सोते समय 3-4 कालीमिर्च बताशो के साथ चबाकर सो जाये (बताशे न हो तो शक्कर या किसी मीठी चीज के साथ इसका सेवन कर सकते है). इससे स्वरभंग सर्दी जुकाम ठीक होजाएग. इस उपाय से गला तत्काल खुल जाता है.
  2. अगर आपने गर्म खाकर कुछ ठंडा खा लिया है और इसी वजह से गला बैठा हो तो ऐसे में 1 ग्राम मुलहठी के चूर्ण को मुंह में रखकर कुछ देर चबाते रहे, फिर वैसे ही मुंह में रखकर सो जाए. सुबह उठने पर एक दम गला ठीक मिलेगा.
  3. अगर जोर-जोर से बोलने भाषण आदि देने से गला बैठा हो तो यह करे. मटर के दाने के बराबर के आकर के जितना सुहागे का टुकड़ा मुंह में रखकर चूसते रहने से गले की आवाज़ ठीक हो जाती है, यह एक गला ख़राब की मेडिसिन दवा की तरह है. यह उपाय बहुत तेजी से 2-3 घंटो में ही आराम कर देता है.
  4. गर्म ठंडा के सेवन से गला बैठने पर – रात को सोते समय एक ग्राम मुलहठी के चूर्ण को मुंह में रखकर कुछ देर तक चबाते रहे, फिर वैसे ही रात को मुंह में रखकर सो जाए. सुबह तक गला साफ़ हो जायेगा. अगर मुलेठी चूर्ण को पान के पत्ते में रखकर लिया जाए तो और भी आसान और उत्तम रहेगा.
  5. अगर गले में दर्द हो रहा हो तो दिन में तीन चार बार एक छोटी चम्मच नीबू के रस में दो बड़ी चम्मच शहद मिलाकर चाटें.
  6. गर्म पानी में नीबू रस और जरा सा नमक डालकर दिन में तीन बार गरारे करे, इससे गले की सफाई हो जाएगी गले के इन्फेक्शन आदि मिट जायेंगे.
  7. एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच लहसुन का रस घोलकर गरारे करने से गला खुल जाता है.
  8. लहसुन की तीन चार कलियां सेब के सिरके में भिगोकर, अच्छी तरह चबाकर खाने से बैठा हुआ गला खुल जाता हैं. यह एक सरल सा गले की आवाज़ खोलने का उपाय है.
  9. अगर आपके गले में घर-घराहट की आवाज़ आ रही है तो एक कली लहसुन की छीलकर धीरे-धीरे चबाकर उसका रस चूसने से घर घरहाट मिट जाती है.
  10. गला ख़राब के उपचार में हल्दी का बारीक़ चूर्ण, अदरक का रस इन दोनों को शहद में मिलाकर चाटकर खाने से बैठा हुआ गला खुल जाता है, स्वरभंग की विकृति नष्ट होती है.

गला बैठने का इलाज, gala kharab ka ilaj in hindi, gala kharab medicine, gala bethne ka ilaj

गले की आवाज़ बैठने पर क्या उपाय करे

  • लौंग को मुंह में रखकर चूसने से भी आराम मिलता है.
  • हरड़ की छाल का काढ़ा शहद के साथ पिने से समस्त गले के रोग दूर हो जाते है, गले से आवाज न निकलना इससे भी ठीक हो जाता है.
  • एक गिलास पानी में अजवाइन शक्कर दोनों मिलाकर पिए.
  • ख़राब पानी पिने के वजह से गला बैठा हो तो तुलसी के 10-15 पत्ते चबाकर खाने से बहुत लाभ होता है.
  • हल्दी को कूटपीसकर तवे पर भूनकर शहद मिलाकर सेवन करने से गले की खराबी नष्ट होती है.
  • हल्दी 10 ग्राम, कालीमिर्च 3 ग्राम और सोंठ 5 ग्राम, सबको कूट पीसकर बारीक़ चूर्ण बना लें. 2-2 ग्राम चूर्ण दिन में दो तीन बार हलके गर्म पानी के साथ लेने से आवाज़ निकलने लगती है.
  • हल्दी के बारीक़ चूर पानी में उबालकर, छानकर, कुल्ले करने से स्वरभंग की विकृति नष्ट होती है. हल्दी के चूर्ण के साथ फिटकरी का चूर्ण मिलाकर कुल्ले करने से जल्दी ही गला ठीक हो जाता है.

क्या खाये और परहेज

  • आवाज़ बैठ जाने पर हर चीज गर्म-गर्म खाये. चपाती, दूध ,हलुवा आदि भोजन सभी गरम-गरम ही खाये. पानी भी गरम या गुनगुना पिए. बहुत अधिकत चिल्लाने या बोलने से जब आवाज़ बैठ जाए तो मौन रहना ठीक रहता है. परहेज – सिगरेट, बीड़ी, ज्यादा ठंडा कुछ भी न पिए, शराब आदि का भी परहेज करे.

आदि बताये गए इस गला बैठने का इलाज के उपाय और दवा gala kharab ka ilaj in Hindi को आजमाकर आप बड़ी आसानी से गले की आवाज़ ठीक कर सकते हैं. इनमे जैसा की आपने देखा ऐसे घरेलु नुस्खे भी दिए है जो मात्रा 2-3 घंटे में ही बैठा हुआ गला खोल देते हैं. – इसके साथ ही भविष्य में ज्यादा तेज बोलने से बचे, गर्म ठंडा का सेवन भी न करे और गला ख़राब होने पर बोलने की कोशिश न करे बल्कि मौन रहे.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.