aids ke lakshan kya hai, aids hone ke karan, aids ke karan

एड्स होने के लक्षण – HIV Aids Symptoms in Hindi : जरूर पड़ें

HIV एड्स के लक्षण बताये इन हिंदी : एड्स एक घातक बीमारी हैं जो की एक बार किसी को हो जाए तो उसका जीवन बर्बाद कर देती हैं, एक बार HIV test पॉजिटिव आजाये तो उस व्यक्ति को अगले 8-10 साल में गंभीर रोग होने शुरू हो जाते हैं, ऐसे में व्यक्ति के पास यह 7-8 साल का समय होता है जिसमे वह इससे बचने के उपाय कर अपनी रोगप्रतिरोधक को बढ़ाते हुए एचआईवी वायरस के प्रभाव को कम कर सकता हैं. हम यहां आपको इसके लक्सन और इस रोग के होने के कारण के बारे में बात करेंगे व साथ ही इसकी स्टेजेस के बारे में भी जानकारी देंगे. (महिला और पुरुष दोनों के लक्षण एक से होते हैं) HIV aids symptoms in Hindi causes.

aids ke lakshan, hiv ke lakshan, aids symptoms in hindi, hiv symptoms in hindi

एचआईवी एड्स के लक्षण क्या है

HIV Aids Symptoms & Causes in Hindi

  • बुखार आना, तेज बुखार व लगातार बुखार बना रहना
  • शरीर पर रैशेज होना
  • गले में खराश आना
  • ग्रंथियों में सूजन आना
  • सिर में दर्द होना
  • पेट की खराबी होना
  • जोड़ों में दर्द होना
  • मांसपेशियों में दर्द आना
  • दस्त लगना
  • लगातार सुखी खांसी चलना
  • तेजी से वजन घटना, एक महीने में में 20% से ज्यादा वजन कम होना
  • लगातार दस्त लगना, इलाज के बाद भी नहीं रुकना
  • रात में पसीना आना
  • दिन भर बुखार बना रहना
  • लम्बे समय तक खांसी रहना
  • मुंह और त्वचा की समस्या
  • कई तरह के गंभीर रोग होने लगते हैं
  • जी मचलना उल्टियां होना
  • बहुत कमजोरी महसूस होना

Stage 1

  • HIV वायरस के इन्फेक्शन में आने के चार सप्ताह के बाद रोगी को शरीर में फ्लू होने लगता हैं, यह फ्लू रोगी के शरीर में कुछ सप्ताह तक रहता हैं कई लोगों को तो फ्लू के लक्षण भी महसूस नहीं होते हैं.

Stage 2

  • पहली स्टेज कुछ महीनो तक रहती हैं इसके बाद दूसरी स्टेज शुरू होती हैं. दूसरी स्टेज में रोगी अपने आपको अच्छा स्वस्थ महसूस करने लगता हैं. वैसे HIV वायरस 8-10 सालों तक कोई लक्षण नहीं दिखाता हैं लेकिन यह वायरस शरीर को अंदर से नुकसान पहुंचाता रहता है व शरीर में फैलता जाता हैं. यह वायरस शरीर के अंदर अपनी गतिशीलता बनाये रखता हैं और अपनी संख्या को बढ़ाता जाता हैं जिससे रोगप्रतिरोधक क्षमता को बहुत नुकसान पहुँचता है. दूसरी स्टेज में आकर वायरस खून में मिल जाता हैं व ब्लड टेस्ट कराने पर एड्स पॉजिटिव आजाता हैं.

Stage 3

  • एड्स Hiv वायरस की तीसरी स्टेज में आते-आते शरीर को बहुत सारा नुकसान हो जाता हैं, यह रोगप्रतिरोधक क्षमता इम्युनिटी पावर को नष्ट कर देता हैं. इस स्थिति में रोगी को एड्स के गंभीर लक्षण दिखाई देने लगते हैं.
  • इस अवस्था में आने पर HIV वायरस रोगी की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बिलकुल नष्ट कर देता हैं जिससे शरीर की रोगों के प्रति लड़ने की क्षमता बहुत ही कमजोर हो जाती हैं इसी वजह से रोगी को कई तरह के नए नए रोगों होने लगते हैं.

एड्स होने का कारण – HIV Causes in Hindi

  • एड्स एक से अधिक स्त्रियों के साथ योन संबंध बनाने से होता हैं, एक सिरिंग का बार-बार प्रयोग करने से, एड्स से संक्रमित स्त्री के स्तनपान करने से आदि यह एड्स के कारण हैं जो की सबसे सामान्य हैं और इन्हीं वजहों से एड्स की बीमारी होती है. ऐसे में व्यक्ति को कंडोम का प्रोटेक्शन लेना चाहिए व एक सिरिंग का बार-बार प्रयोग नहीं करना चाहिए.
  • एड्स करने वाला HIV वायरस हमारे शरीर के अंदर जाकर white blood cells को निष्क्रिय कर देता हैं, यह वाइट ब्लड सेल्स हमारे शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता को मजबूत करते हैं और जब HIV इन सेल्स को नष्ट करने लगता हैं तो व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कमजोर पढ़ जाती हैं.

HIV Test – Aids Blood Test

  • जब रोगी को लगे की उसे एड्स की बीमारी हैं तो उसे लैब में जाकर ब्लड टेस्ट करवाना चाहिए. ऐसे में अगर टेस्ट पॉजिटिव आये तो इसका मतलब यह नहीं हैं की आपको एड्स हो ही गया हैं, यह तो बस पहली स्टेज हैं. एड्स पॉजिटिव आने के आठ दस साल बाद होता हैं. इस बिच आप HIV वायरस को फैलने से रोक सकते हैं.

Antiretroviral therapy

  • HIV के संक्रमण का ट्रीटमेंट करने के लिए antiretroviral therapy का प्रयोग किया जाता हैं, इस थेरेपी में रोगी को कुछ दवाइयां दी जाती हैं. यह थेरेपी रोगी के शरीर में मौजूद HIV वायरस को फैलने से रोकता हैं, HIV को दबा देता हैं. यह थेरेपी शरीर में HIV वायरस की संख्या को कम भी करती हैं और फैलने भी नहीं देती. डॉक्टरों के मुताबिक रोगी को एड्स की बीमारी होने पर तुरंत इलाज शुरू कर देना चाहिए.

इन सभी पोस्ट्स को भी जरूर पड़ें, और इस पोस्ट के दूसरे पेज को भी जरूर ही पड़ें.

  • इस पोस्ट के पिछले पेज में हमने एड्स होने से रोकने के लिए कुछ चमत्कारी उपाय बताये है जो की आपको जरूर पढ़ना चाहिए, एक बार उन्हें भी जरूर पड़ें : NEXT PAGE

तो दोस्तों यह एड्स एचआईवी के लक्षण और कारण sign and symptoms of hiv aids in Hindi रोगी को जब भी ऐसे कुछ लक्सन दिखाई दे तो उसे तुरंत ही खून की जाँच करवाना चाहिए. इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे और ताकि सभी लोगों तक इसके बारे में खबर पहुँच जाए.

aids ke lakshan, hiv ke lakshan, aids symptoms in hindi, hiv symptoms in hindi

24 Comments

  1. Ask Your Question
  2. Ragib
  3. Ask Your Question
  4. Raju
  5. Ask Your Question
  6. Sonu
  7. Ask Your Question
  8. Wasim Iqbal Qureshi
  9. Ask Your Question
  10. Ask Your Question
  11. sandeep yadav
  12. k.s
  13. Ask Your Question
  14. Ashokdas
  15. Ask Your Question
  16. Ad
  17. Ask Your Question
  18. Vijay
  19. Ask Your Question
  20. Bhairav
  21. Ask Your Question
  22. arun
  23. Ask Your Question
  24. sonukumar

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.

हमसे Facebook पर अभी जुड़िये, Group Join करे "Join Us On Facebook"