kaan ka bahna, kaan behne ke karan, kaan behne ke lakshan

कान बहने का उपचार और दवा | देसी इलाज | लक्षण व कारण

कान बहने का उपचार में आप जानेंगे घरेलु उपाय व आयुर्वेदिक नुस्खे जिनके जरिये आप इस रोग से बचाव कर सकते है. शुरुआत में ज्यादातर रोगी कान बहने की दवा लेते है, लेकिन इसके प्रयोग से भी कई बार आराम नहीं मिलता व आराम तभी तक रहता है जब तक दवाई लेते रहे. इससे कई रोगी बेहद परेशान रहते हैं.

इसके लिए आप यहां बताये जा रहे कान में मवाद आने का इलाज को आजमा सकते है, इन उपायों के जरिये आप कान के बहाने को हमेशा के लिए रोक सकते हैं. तो आइये आगे पढ़ते है कान बहने के कारण लक्षण और सही घरेलु उपचार के बारे में.

कान बहने के कारण

ज्यादातर हम कान साफ़ करने के लिए किसी भी चीज को कान के अंदर डाल देते है जिसके वजह से कान में जख्म बन जाते है यह भी एक कारण होता है. इसके अलावा कान में पानी चला जाना, टीबी रोग के वजह से, सर्दी जुकाम होने से, कान में धूल मिटटी जमने के वजह से आदि इन कारणों से कान बहना शुरू हो जाता है. वैसे यह समस्या बच्चों में ज्यादा देखी जाती है तो आप इन उपायों से बच्चों का कान बहना का इलाज में प्रयोग कर सकते हैं.

कान बहने के लक्षण

कान में भारीपन, कान में शूल, कान में सूजन आना, कान में आवाजे आना, पर्दा फट जाना, कान से कम सुनाई देना व कान भारी-भारी सा लगना, कान से तरल पदार्थ निकलना आदि कान बहने के लक्षण होते हैं जो की बड़ी आसानी से पहचाने जा सकते हैं.

कान बहने का उपचार घरेलु इलाज

kaan ka bahna, kaan behne ke karan, kaan behne ke lakshan

कान बहने की दवा अंग्रेजी और देसी दोनों

1. पतंजलि की दवा “सारिवादी बटी” कान के हर रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद होती हैं, रोजाना भोजन करने के बाद में दूध के साथ दोनों समय एक एक गोली इसकी खाये. इससे कान बहना, दर्द, मवाद आदि सभी में आराम मिलता हैं.

2. कान बहना के उपचार में आप नीम और शहद का प्रयोग भी करे, यह सबसे आसान और सरल सा प्रयोग है. एक चम्मच शहद में एक चम्मच नीम का तेल मिलाकर अच्छे से मिला लें. फिर एक रुई को इस मिश्रण में भिगोकर कानो में इस रुई को लगा दें. इस तरह यह उपाय कान में मवाद आने से बचाता है व कान बहने से भी रोकता है.

3. तिल के तेल में 4-5 लहसुन की कलिया छीलकर तब तक पकाये जब तक की वह कलियाँ काली न पढ़ जाए, फिर इसमें से लहसुन को निकालकर तेल को एक डिब्बी में भर लें. अब रोजाना 2-2 कान में डाले व फिर 2-3 घंटे बाद कान में रुई लगाले व इस मिश्रण को बाहर निकाल दें इस तरह दिन में दो बार कान में इस मिश्रण को डालने से बड़ों व शिशु का कान बहना और कान में मवाद निकलना बंद हो जाता है. यह कान बहने का अंग्रेजी दवा से कम असरकारी नहीं बहुत लाभप्रद है.

अगर इस ऊपर दिए गए उपाय से आपको आराम न हो तो आप तेल की जगह गाय के घी का प्रयोग भी करे. 100 ग्राम गाय के घी में 4-5 लहसुन डालकर पकाये व फिर ऊपर बताये गई विधि अनुसार प्रयोग करे.

4. कान में मवाद आने का इलाज में प्याज का प्रयोग भी कर सकते है. इसके लिए सबसे पहले रुई की मदद से कान की मवाद को साफ़ कर लें, इसके बाद प्याज के रस की 3-4 बून्द कान में डाले और वैसे ही लेटे रहे फिर बाद में खड़े होते वक्त कान में रुई लगा लें इस तरह सप्ताह भर तक इस घरेलु नुस्खे को आजमाते रहे.

5. कान से पानी निकलना मवाद आदि को रोकने के लिए खुद के पेशाब की 3-4 बून्द कान में डाले और फिर कान में रुई लगा लें. इस तरह रोजाना के प्रयोग से चंद दिनों में कान से मवाद यानि कान बहना बंद हो जाता हैं. यह प्रयोग आपको घिनोना लग सकता है लेकिन यह एक चमत्कारी प्रयोग है व घरेलु इलाज में आप इसे आप जरूर करके देखें.kaan ke parde ka photo, kaan ka photo, kaan ka parda pic

6. कान में अचानक दर्द होता हो तो खुद के पेशाब की 3-4 बून्द डाले तुरंत ही दर्द ख़त्म हो जायेगा.

7. नीबू के 240 ग्राम रस में 60 ग्राम सरसों या तिल का तेल मिलाकर उबालें. पकते-पकते नीबू का रस चटपट-चटपट जलेगा. जब नीबू का रस जल जाएगा तोह सिर्फ तेल ही बचेगा क्योंकि रस पानी की आवाज बंद हो जाएगी. उसे उतारकर छान लें और बोत्तल में भर लें. इसकी 2-2 बूंदे कान में डालते रहने से कान का पीव खुजली और कान का दर्द आदि ख़त्म होते हैं.

कान का बहना के इलाज के सरल उपाय

8. रोजाना सुबह और शाम को पानी में 1-2 नीबू काटकर डाले और पिए तो इससे 100% लाभ मिलेगा.

9. कान बहने का इलाज में छोटी हरड़ 12 ग्राम, अजवाइन 22 ग्राम, सौंफ 22 ग्राम, मेथी के बीज 22 ग्राम, काला नमक 22 ग्राम लें और इन सभी चीजों को बारीक-बारीक पीस लें और पाउडर जैसा बना लें चूर्ण की तरह. अब रोजाना एक चम्मच इस चूर्ण को गर्म पानी में मिलाकर दिन में तीन बार इसका सेवन करे. यह प्रयोग कान बहना के इलाज में बहुत लाभ करता है.

10. हरी घास जिसे दुब भी कहते है इसको अच्छे से पीसकर रस निकाल लें व इस रस की 2-3 बूंदे कान में डाले तो इस छोटे से प्रयोग से कान में मवाद ख़त्म हो जायेगा.

कान बहने का उपचार, कान बहने का इलाज, कान बहने की दवा, कान का बहना

घर पर ही आप कान बहने का उपचार की दवा को आजमाकर मवाद आदि से छुटकारा पा सकते है. यह देसी उपाय की दवा किसी भी अंग्रेजी दवा से ज्यादा प्रभावकारी होती है अगर इनका सही से प्रयोग किया जाए तो. इस तरह आप कान में मवाद आने का इलाज बड़ी ही आसानी से कर सकेंगे अब आपने कारण लक्षण भी अच्छे से समझ लिए है व कान में पानी जाने से रोके व पूरी देखभाल करे.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.