safed daag ki dawa, safed daag ki cream, सफेद दाग की अचूक दवा, सफेद दाग की दवा

सफ़ेद दाग जल्दी ठीक करने की दवा और क्रीम : Leucoderma

सफ़ेद दाग की दवा बताये इन हिंदी – अब के समय में हाथ पर, पैरों पर, हथेली पर आदि शरीर पर सफ़ेद दाग के चकत्ते पड़ना बड़ा आम सा होता जा रहा हैं. पहले की तुलना में अब के समय में यह बीमारी ज्यादा फैलती जा रही है, इसमें ज्यादा संख्या महिलाओ की पाई जाती हैं. अब तक यह लाइलाज बीमारी मानी जाती थी लेकिन अब आयुर्वेदिक डॉक्टरों ने सफ़ेद इसका तोड़ भी खोज लिया है, जिसके जरिये इन सफ़ेद चकक्तों से बड़ी आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है. यहां हम आपको इसी विषय में सभी दवाई, गोली, क्रीम आदि के बारे में बताएंगे  medicine for leucoderma cream treatment in India in Hindi.

कारण : सफ़ेद दाग हमारी इम्युनिटी में त्वचा को रंग देने वाले सेल्स के मरने के कारण होता है. यह सेल्स जैसे-जैसे मरते जाते है वैसे-वैसे शरीर पर सफ़ेद दाग फैलता जाता हैं और इस तरह एक समय पर पूरा शरीर सफ़ेद हो जाता हैं. यह शिकायत जेनेटिकली, कैल्शियम की कमी आदि अन्य कारणों से हो सकता है.

  • कृपया इस जानकारी को पूरा व आखिरी तक पड़ें, क्योंकि इसमें सभी तरह की घरेलु दवा व क्रीम आदि बताई गए है, कहीं आप जल्दी में उन्हें चूक न जाए इसलिए ध्यान रखें व इस जानकारी के निचे तक जाकर सब कुछ देखें.

safed daag ki dawa, safed daag ki cream, सफेद दाग की दवा

सफ़ेद दाग की दवा और क्रीम

Safed Daag ki Cream in Hindi

अभी पिछले दिनों में के चिकित्सकों ने जड़ी बूटियों पर वैज्ञानिक खोज कर एक ऐसी दवा बनाई है जिसका नाम है “ल्यूकोस्किन” lukoskin cream ointments. इससे सफ़ेद दाग से शत प्रतिशत छुटकारा पाया जा सकता है. ल्यूकोस्किन को अपने शरीर पर जहाँ भी सफ़ेद चकत्ते हो रहे हो वहां पर रोजाना लगाने से त्वचा के धब्बे ख़त्म होने लगते हैं व त्वचा पहले जैसी सामान्य होने लगती हैं. यह safed daag ki dawa or cream अलोएवेरा, विषनाग, अर्क, बावची, मण्डूकपनीर, कौंच आदि के मिश्रण से बनाई गई हैं. यह सभी जड़ी बूटियां चर्म रोगो को ठीक करने के लिए पहले से ही प्रसिद्द है, वैज्ञानिको द्वारा खोजी गई यह बहुत ही चमत्कारी है व किसी भी रोग के लिए सफ़ेद दाग की दुआ से कम नहीं हैं.

“ल्यूकोस्किन” दाग हटाने का क्रीम जो की दो फॉर्म में मिलती हैं liquid और ointment इसके दोनों फॉर्म त्वचा पर सफ़ेद दाग होने से बचाव करते है व बने हुए दाग को ख़त्म करने में मदद करते हैं. यह दो तीन महीनो तक रोजाना प्रयोग करने पर अपना असर दिखाती हैं. इसका उपयोग थोड़ा महंगा है लेकिन अगर आप आयुर्वेदिक नुस्खे को घर पर बना नहीं सकते तो आपको इसका इस्तेमाल जरूर करना चाहिए. इसकी कीमत सात सौ आठ सौ रुपए (7-8 hundred rupees ) तक होती हैं.

ल्यूकोस्किन को खाली पेट ड्रॉपर की 20-30 बून्द एक कप पानी में डालकर पीना है व क्रीम को दाद व चकत्ते की जगह पर लगाना है थोड़ी हलकी मालिश करते हुए. इसके अलावा व इसकी सेवन विधि अपने रोग के अनुसार बड़ा व घटा भी सकते हैं. चिकित्सक से सलाह लेकर.

इस दवा के साथ-साथ सात्विक आहार लेना भी जरुरी होता है व अगर आप प्राणायाम करते है तो इसका असर और भी कई गुना बढ़ जाता हैं. इसलिए आप अनुम विलोमा प्राणायाम और कपालभाति प्राणायाम के साथ-साथ इसका प्रयोग कर सकते हैं. इसका सेवन करते वक्त आपको सात्विक आहार लेना होगा, यानी ऐसा भोजन जिसमे ज्यादा मसाला, मिर्च, तेल आदि न हो, मांसाहारी भोजन तो बिलकुल भी नहीं करना है. इसके अलावा अल्कोहल, स्मोकिंग, धुप में ज्यादा घूमना आदि से भी बचे.

  1. ताम्बे के बर्तन का पानी पिए.
  2. लोकि का रस पिए
  3. हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करे
  4. नमक का सेवन न के बराबर करे
  5. शरीर पर शैम्पू व साबुन लगाना बंद कर दे
  6. दूध दही, डेरी प्रोडक्ट्स, नमक आदि भी न खाये
  7. खटाई की चीजे न खाये

इस आयुर्वेदिक दवा के अलावा पतंजलि की दवा भी बता रहे है जो की सफ़ेद दाग में लाभदायक होती हैं.

  • Bakuchi Oil – इस तेल से सफ़ेद चकत्ते दाग आदि पर मालिश करना होती है, शरीर में खुजली होना आदि से यह रोकता है व सफ़ेद दाग को फैलने से भी रोकता है, क्रीम सफ़ेद दाग के लिए.
  • Mahatikta ghrit – इसको रोजाना सुबह दूध के साथ में खाली पेट एक से आधा चम्मच तक लेना है.
  • Gandhak Rasayan – रोजाना दिन में दो बार सुबह व शाम का भोजन करने के बाद हलके गर्म पानी के साथ इस दवा का सेवन करे.
  • Khadiraristha – इस दवा को भी दोनों समय सुबह व शाम भोजन करने के बाद लेना होता है. 30 ML की मात्रा में इसका सेवन करे, यह खून की दुर्गति दूर करती है व पाचन को दुरुस्त रखती हैं.

यह पूरा एक dose है जो की रोगी को दिया जाता हैं, इसके नियमित सेवन से सफ़ेद दागों में दो तीन महीनो में फर्क मालुम होता हैं. दोस्तों ऐसी कोई दवा गोली नहीं है जो की कुछ ही दिनों में पूरी तरह आराम कर दें, इसलिए आपको थोड़ी सब्र तो करना ही पड़ेगी.

सलाह :

  • करेले की सब्जी ज्यादा से ज्यादा खाये
  • अलोएवेरा का रस पिए
  • हरड़ को लहसुन के रस में घिसकर दाग पर लगाए
  • अखरोट का अत्यधिक सेवन करे
  • रोजाना बादाम खाये

घर पर ही बनाये सफ़ेद चकत्ते की क्रीम व आयुर्वेदिक दवाई

1. अदरक का रस 30 ग्राम, बावची 15 ग्राम दोनों को मिलाकर भिगोए. अदरक का रस व बावची दोनों सुख जाए तो इन दोनों के बराबर 45 ग्राम चीनी मिलाकर पीस लें. इसकी एक चम्मच की फांकी ठन्डे पानी से एक बार रोजाना सुबह खाना खाने के एक घंटे बाद लें. बावची का तेल सफ़ेद दागो पर लगाए यह सफ़ेद दाग की क्रीम की तरह काम करता हैं. इस तेल के लगाने पर फफोले या जलन हो तो वे रोगी इसका प्रयोग न करे. अगर आपको अभी-अभी सफ़ेद दाग हुए थे यानी आप शुरूआती रोगी है तो सफ़ेद दाग चार से पांच महीने के अंदर सफ़ेद दाग की इस अचूक दवा के सेवन से पूरी तरह ख़त्म हो जायेंगे. इसका सेवन करते वक्त आपको परहेज करना पड़ेगा खटाई, मांसाहारी भोजन, अधिक नमक, तेल, गुड़ मिर्च न खाये व सुबह की धुप शरीर पर पड़ने दें.

2. माणिक्य रस दो ग्राम और बाकुची चूर्ण 5 ग्राम मिलाकर पीसकर बरती बना लें. इसे गोमूत्र में मिलाकर लगाए, लेकिन लगाने से पहले गाय के गोबर से सफ़ेद दाग को साफ़ कर लें, इसके बाद यह लेप लगाए. तीन दिन में दाग पर फफोला उठ आएगा. दवा बंद कर फफोले पर मक्खन या खोपरे का तेल लगाते रहे. दो बार में ही दाग का रंग सामान्य चमड़ी जैसा हो जाता हैं.

3. पिने के महामंजिष्ठारिष्ट और विडंगरिष्ट 2-2 चम्मच सामान भाग पानी में मिलाकर भोजन करने के बाद और आरोग्यवर्धिनी गुटिका 1-1 गोली सुबह, दोपहर, शाम को अदरक के रस व शहद के साथ सेवन करें. पेट साफ़ रखें, प्रयोग एक माह तक करें. सफ़ेद दाग का रोग जड़ मूल से दूर हो जायेगा.

4. सफ़ेद दाग की दवा आयुर्वेदिक में हरी हल्दी, त्रिफला, धाय के फूल, अनार की छल, जायफल और सफ़ेद कनेर की जड़ इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर इसमें आंवले का रस मिलाये व अब आठ दिनों तक भली भांति खरल करे. गाय के घी में उपरोक्त दवा मिलाकर रख लें. इसका लेप सफ़ेद दाग पर लगाए, इससे सफ़ेद दाग कुछ दिनों में ही नष्ट हो जाते हैं.

Easy Leucoderma Treatment in Hindi

  • सफ़ेद दाग मिटाने के लिए बावची के चूर्ण को अदरक के रस में घोंट कर लेप बना लें व सफ़ेद दाग पर लगाए तो इससे भी दाग धब्बे ख़त्म होते हैं, (बावची दवा की तरह काम करता है).
  • सोंठ का चूर्ण तथा तुलसी की जड़ के चूर्ण को गर्म पानी के साथ रोजाना लेते रहने से कोढ़ जैसे भयंकर रोग भी दूर हो जाते हैं. त्वचा की रुक्षता और फटने पर यह प्रयोग करना लाभप्रद होता हैं और उसमे यह दवा के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है..
  • प्याज के बीजों को ताजे गोमूत्र में पीसकर इसका लेप दागो पर लगाते रहने से लाभ होता हैं. गाय का गौ मूत्र हर एक रोग में आयुर्वेदिक दवा की तरह काम करता है, बहुत असर करता है.
  • चुना और हरताल को पीसकर नीबू के रस में मिलाकर एक महीने क लगाने से दाग मिट जाते हैं.
  • अंजीर के रस को नीबू या संतरे में घिसकर दागों पर लगाना चाहिए, दवा की तरह यह असर करती है.
  • बथुए का रस निकालकर सुबह शाम पिए, यह सफ़ेद दाग की मेडिसिन के रूप में काम करता हैं.
  • गंधक रसायन 1-2 ग्राम रोजाना तीन बार सुबह दुपहर शाम को शुद्ध पानी से सेवन करे.
  • विशेष : अगर रोगी व्यक्ति नमक का सेवन करना बिलकुल बंद कर दें तो उसे शीघ्र ही लाभ होता हैं. इसलिए घरेलु उपचार करते समय नमक का सेवन बंद ही रखे.
  • उड़द के आटे को भिगोकर वापस पीसकर सफ़ेद दाग पर रोजाना चार महीनो तक लगाने से सफ़ेद दाग मिट जाते हैं.
  • अखरोट भी है. इसमें एक विषैला टोक्सिज़ प्रभाव होता है, जिसके कारण अखरोट के पेड़ की जड़ों के पास की मिटटी काली पड़ जाती हैं. कई प्राचीनतम ग्रंथों में लिखा है की अखरोट कहते रहने से सफ़ेद दाग ठीक हो जाते हैं.
  • दुब की ओस कुछ समय तक लगाते रहने से सफ़ेद दाग मिट जाते हैं.
  • सफ़ेद दाग होने पर अनार के पत्ते छाया में सुखाकर चूर्ण बना लें. इसे छह माशा से एक तोला तक की मात्रा में ताजे पानी से सेवन करने पर सफ़ेद दाग मिट जाते हैं. अंजीर के पत्तों का रस दाग चकक्तों पर लगाने से भी दाग मिट जाते हैं.
  • गुनगुने दूध में हल्दी डालकर पिने से भी लाभ होता हैं.इस प्रयोग को 4-5 महीने तक करे व एक दिन में दो बार सुबह व शाम हल्दी का दूध पिए. याद रहे नमक का सेवन कम करे.
  • 3 चम्मच सरसों तेल और 1-2 चम्मच पीसी हल्दी इन दोनों को मिलाकर पेस्ट बना लें और दाग पर लगाए और 20 मिनट बाद धो लें. इस सफ़ेद दाग के प्रयोग को चार महीने तक करे तो दाग ख़त्म हो जायेंगे.
  • 6-7 बादाम व 60 ग्राम काले चने रोजाना खाते है तो यह भी अत्यंत लाभप्रद होते हैं. यह त्वचा को रंग देने वाले सेल्स को जन्म देते हैं.
  • सफ़ेद दाग रोग में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए सुबह खाली पेट गिलोय का रस लें व इम्युनिटी बढ़ाने वाले सभी उपायों का इस्तेमाल करे. इसमें आप जवारे कर रस रोजाना सुबह खाली पेट भी पि सकते हैं भी बहुत तेजी से इम्युनिटी बढ़ाती हैं.
  • वैज्ञानिको के अनुसार सफ़ेद दाग के रोगी के शरीर में विटामिन 12 की कमी होती हैं, इसलिए इस विटामिन की कमी दूर करने के लिए अचूक का प्रयोग करे.
  • लाल प्याज का रस और कपूर मिलाकर सफ़ेद दाग पर लगाते रहने से त्वचा कुछ ही समय में एक जैसी हो जाती हैं, सफ़ेद दाग दूर होते हैं.

आप ऊपर दिए गए इन सभी पोस्ट को एक-एक बार जरूर पड़ें, उनमे भी बहुत जरुरी जानकारी दी गई है. इसलिए उन्हें जरूर पड़ें.

तो दोस्तों इन सभी सफ़ेद दाग की क्रीम देसी और अचूक safed daag ki dawa in Hindi के प्रयोग से आप इस हिन् भावना पैदा करने वाली बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं. बाकी परहेज का विशेष ध्यान रखें व बासी, नमक आदि का सेवन न करे. इनके साथ-साथ अनुम विलोम प्राणायाम और कपालभाति प्राणायाम अवश्य करे.

11 Comments

  1. Ask Your Question
  2. Abhishek
  3. Abhishek
  4. Ask Your Question
  5. manoj verma
  6. Ask Your Question
  7. Ritendra singh
  8. Ask Your Question
  9. Shams
  10. Ask Your Question
  11. vipin

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.