100% मलेरिया का असरकारी इलाज उपचार – 21 घरेलु नुस्खे

आप भी करे मलेरिया का इलाज इन हिंदी नुस्खे & उपाय

malaria treatment in hindi, malaria ke upay in hindi

Pic Source – Unknown – .

मलेरिया उन बिमारियों में से हैं जो की कूड़े कचरों से उत्पन्न होने वाले कीटाणुओ से होता है. मलेरिया किसी भी स्वस्थ व्यक्ति की जान भी ले सकता है, अगर समय रहते आप मलेरिया का इलाज उपचार नहीं करते तो यह जानलेवा भी साबित हो सकता है. वैसे जब मलेरिया बुखार दुनिया के सामने आया था तब “मलेरिया ट्रीटमेंट” के लिए कोई दवा मौजूद नहीं थी इसलिए उस समय मलेरिया ने बहुत से लोगों की जान ली थी.

लेकिन अब मलेरिया बुखार से इतना डरने की जरुरत नहीं हैं. क्योंकि विशेषज्ञों ने मलेरिया के इलाज के लिए बहुत से शोध कर के इसका उपचार करने के उपाय खोज लिए हैं. तो चलिए अब हम बात करते हैं मलेरिया के घरेलु नुस्खे से इलाज कैसे करे आदि. अब आप इस बुखार का घर पर ही बड़ी आसानी से इलाज कर सकते हैं. और हमेशा के लिए मलेरिया से बचने के लिए उपाय भी बताएंगे जिनको अपना ने पर आपको भविष्य में यह बुखार नहीं होगा.

इससे पहले की हम Malaria treatment करने वाली Home remedies के बारे में जाने, चलिए जानते हैं आखिर मलेरिया कैसे होता है, और मलेरिया के लक्षण कौन-कौन से होते हैं आदि.

“एक Research के मुताबिक india में हर साल 70 percent तक लोगों को मलेरिया हो जाने का खतरा बना रहता हैं”

इस रोग से का ट्रीटमेंट करने बेहतर हैं की आप मलेरिया से बचने के उपाय करे. क्योंकि एक बार मलेरिया बुखार आ जाने पर शरीर बहुत निर्बल और कमजोर हो जाता है. इसलिए बेहतर यही होगा की आप मलेरिया का पहले से ही बचाव कर के रखे.

प्राकृतिक और आयुर्वेदिक मलेरिया का घरेलु उपचार

malaria ka gharelu ilaj, malaria ka ilaj in hindi

मलेरिया से बचाने वाले असरकारी नुस्खे

Malaria Virus वाले मच्छर हमेशा सुबह और शाम के वक्त सक्रीय होते है. दिन के समय में यह मच्छर बिलकुल निष्क्रिय हो जाते हैं. इसलिए आप सुबह और शाम को मच्छरों से खास कर सावधान रहे.

मलेरिया के मच्छर ज्यादातर रुके हुए पानी जैसे गंदे पानी के नाले, बर्तन का पानी, बाथरूम का पानी आदि जहां कही भी पानी रुका हुआ हो या भी कचरा पड़ा हुआ वहां पर यह मच्छर जन्म लेते है. इसलिए अगर घर और घर के नजदीक कही पानी रुका हुआ होतो उसकी सफाई करवाये.

ज्यादातर मलेरिया बुखार बारिश के दिनों में फैलता है, क्योंकि बारिश के दिनों में बारिश होने से जगह-जगह पानी इकट्ठा हो जाता है और इसी समय पर “Anopheles Mosquito” (मच्छर) प्रजनन करते है जिससे इनकी संख्या बढ़ जाती है और फिर भारी मात्रा में लोगों को मलेरिया बुखार हो जाता हैं. (बारिश के दिनों में खासकर मच्छरों से सावधान रहे).

मलेरिया के लक्षण (Malaria Symptoms)

  • मलेरिया का सबसे पहला लक्षण होता है तेज ठण्ड लग कर बुखार आना
  • जुलाब होना
  • ज्यादा समय तक सर दर्द होना
  • पुरे शरीर का दर्द करना
  • भूख न लगना
  • शरीर में कमजोरी आना, थकावट सी महसूस होना
  • जी मचलना, मन का घबराना
  • शरीर में खून की कमी होना
  • तेज सांस चलना और सांसे लेने में तकलीफ होना
  • मलेरिया में कोमा भी देखने को मिलता हैं
  • और अधिक जाने – मलेरिया के लक्षण (Symptoms)

मलेरिया के यह लक्षण Anopheles mosquito के अंदर मौजूद Malaria virus plasmodium की मात्रा के अनुसार दिखाई देते है. अगर आपके शरीर में यह virus ज्यादा होगा तो यह लक्षण तेज रूप में दिखाई देंगे और अगर यह वायरस कम मात्रा में होगा तो यह सभी लक्षण कम मात्रा में होंगे.

बच्चों में मलेरिया के लक्षण

  • बच्चों में मलेरिया ज्यादा गर्मी के कारण भी होता है
  • भूख कम लगती है और बच्चे चिड़चिड़े, मूडी, उदंडी हो जाते हैं
  • ठण्ड लग कर बुखार आती है और बुखार के दौरान बच्चे की सांस तेज चलने लगती है
  • मतली, सिर दर्द और खासकर पेट और पीठ दर्द भी होता है
  • Malaria Virus से बच्चों के brain और kidney पर घातक प्रभाव (Effects) होते  है

What is Malaria – मलेरिया कैसे होता हैं और क्यों ?

मलेरिया एक Infectious disease से होता है जो की Red blood cells के Colonization से Parasite जिसे हम Plasmodium कहते है. इससे हमारे शरीर में मलेरिया रोग होता है. यह Plasmodium Virus female anopheles mosquito में पाया जाता है. जब यह मच्छर हमारा खून पिने आता है तो इसमे मौजूद यह Virus हमारे शरीर में फेल जाता है और Kidney आदि अंगों पर अपना असर दिखाना शुरू कर देते हैं. तो अब आप जान गए होंगे की मलेरिया बुखार कैसे और क्यों होता है.

hindi malaria

मलेरिया वायरस शरीर में कैसे फैलता हैं. Pic Source Vkool .com –

मलेरिया में क्या खाये 

  • मलेरिया में Apple fruit सेब का सेवन करना चाहिए
  • इस बुखार में चाय को तुलसी के पत्तों, कालीमिर्च, अदरक या फिर दालचीनी डालकर पिने से बहुत राहत मिलती हैं.
  • पीपल के पत्तों या पीपल का चूर्ण बनाकर उसमे शहद मिलाकर खाने से भी मलेरिया फीवर में फायदा होता है
  • मलेरिया बुखार में दलिया खाये. और हलके आहार का सेवन करे
  • मलेरिया फीवर में अमरुद भी खाये
  • तुलसी के पत्ते सभी तरह के बुखार में बहुत अच्छा घरेलु आयुर्वेदिक उपचार माना जाता है. मलेरिया में कुछ तुलसी के पत्तों को और थोड़ी सी कालीमिर्च मिलाकर पानी में उबालकर पिए इससे मलेरिया में बहुत फायदा होगा.
  • इस बारे में और पढ़ने के लिए यह देखें – मलेरिया में क्या खाना चाहिए

लहसुन का यह उपाय मलेरिया का रामबाण इलाज करेगा. अगर रोगी को रोजाना एक समय पर मलेरिया बुखार आ रहा हो तो लहसुन के रस को बुखार आने से पहले रोगी के नाख़ून पर लेप दें. और इसके साथ ही एक चम्मच लहसुन के रस को एक चम्मच तिल के तेल में मिलाकर जब तक बुखार न आये एक-एक घंटे की गैप में इसे रोगी को चुसवाते रहे. इसे चार दिन तक लगातार करते रहने से मलेरिया बुखार तुरंत दूर हो जाता हैं.

निम्बू का प्रयोग (Effective Lemon Juice)

नींबू का यह घरेलु उपचार वैसे भी मोटापा कम करने के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है. नींबू से मलेरिया का आयुर्वेदिक इलाज करने से बहुत फायदा होता है. यह मलेरिया में आने वाले तेज बुखार को नियंत्रण में करने के लिए बहुत असरकारी होता है. क्योंकि नींबू में बहुत से गुणकारी पदार्थ होते हैं जो की शरीर को बीमार होने से बचाते हैं और बीमार शरीर को स्वस्थ करने में मदद करते हैं.

नींबू की इस औषधि का उपयोग मलेरिया बुखार की शुरुआत में और जब तेज बुखार आ रहा हो तब करना चाहिए. इसके प्रयोग से तेज बुखार नहीं आएगा.

कैसे लें – ताज़ा नींबू लें, और उसकी एक ग्लास या एक कप गर्म गुन-गुने पानी में 7-8 बूंदे डाल दें. इसको अच्छे से मिक्स कर के पिले, यह सबसे आसान और असरकारी हैं.

बर्फ और ठंडी पट्टी (Cold Packages)

Cold Compress

मलेरिया के तेज बुखार के Temperature को कम करने के लिए यह प्राकृति उपाय है. जब भी मलेरिया रोगी (Patient) को तेज और ज्यादा गर्म बुखार आये तो बर्फ या ठन्डे पानी की पट्टी को उसके सर और पैरों के तलवों पर रख दें. (इसके साथ ही हाथो की हथेलियों पर भी रख सकते हैं). यह घरेलु उपचार बहुत पुराने समय से चलता आ रहा हैं. आज भी जब किसी को तेज गर्म बुखार आता हैं तो उसके सर पर बर्फ या ठन्डे पानी पट्टी रखी जाती हैं.

मेथी के दाने (Recovery From Malaria Weakness)

Malaria patients को अक्सर बहुत कमजोरी महसूस होती है, क्योंकि मलेरिया वायरस पाचन तंत्र, किडनी और दिमाग पर बहुत बुरे असर छोड़ता है जिससे मलेरिया का मरीज (Patient) शारीरिक कमजोरी महसूस करने लगता है. ऐसी Situation में malaria से होने वाली weakness से recovery करने के लिए मेथी दाने से उपचार करना चाहिए.

मेथी के दाने से करे उपचार

मलेरिया बुखार के दौरान आप इसका सेवन बहुत तरह से कर सकते हैं जैसे मेथी दाने की सब्जी बना कर, मेथी के लड्डू खाकर, मेथी के पत्ते खाकर, मेथी के दानो को चबाकर आदि. आप मेथी का किसी भी रूप में और कभी भी सेवन कर सकते हैं. यह बहुत ही उपयोगी घरेलु उपाय हैं जो की आपको मलेरिया से होने वाली कमजोरी को ख़त्म करने में बहुत मदद करेगा.

मलेरिया मच्छर Pic Source – Eschooltoday .com

Cinnamon दालचीनी का घरेलु उपचार

दालचीनी भी मलेरिया के लिए बहुत फायदेमंद होती है. इस नुस्खे को रोजाना सेवन करने से मलेरिया बुखार में आराम मिलता हैं. एक छोटी चम्मच दालचीनी का Powder लें और इसे एक ग्लास पानी में उबाले, इसमे एक चुटकी कालीमिर्च और इतनी ही शहद भी मिलाये. अच्छे से उबाल लेने के बाद जब यह पिने के लायक (ठंडी) हो जाए तो इसका सेवन कर ले. (यह मलेरिया की दवा गोली के रूप में काम करती हैं)

तुलसी के पत्तों से रामबाण इलाज

तुलसी यह एक ऐसा नाम है जो की जब भी “आयुर्वेदिक उपचार” के बारे में बात की जाए तो किसी न किसी रूप में इसका नाम आ ही जाता है. तुलसी को मलेरिया के उपचार के लिए आप रामबाण उपाय ही समझे इसके प्रयोग से बड़ी आसानी से संक्रमित मलेरिया बुखार से छुटकारा पाया जा सकता हैं.

मलेरिया के शुरुआती दिनों से ही इसका उपयोग करना शुरू कर देना चाहिए. तुलसी के 15 पत्ते लें, फिर इनको अच्छे से पीस लें और इस के रस को एक कप में डाल लें. फिर इसमे थोड़ी सी चुटकी भर (3 gram) कालीमिर्च मिला लें और इसका दिन में 3 बार सेवन करे. कुछ ही दिनों में आपको एहसास हो जाएगा की तुलसी के सेवन से मलेरिया का असर कम होने लगा हैं..

धतूरा (Dhatura Ancient Remedy)

धतूरा एक Plant होता है, (यह भारत की प्राचीन आयुर्वेदिक औषधि हैं), धतूरा को हिन्दू धर्म में शिव की पूजा के लिए भी अपनाया जाता है.  इसमे मलेरिया वायरस को ख़त्म करने वाले पदार्थ होते है जो की वायरस को शरीर के बाहर निकालने में मदद करते हैं.

कैसे लें – धतूरा plant की 2-2 पत्तियां लें और इन को पीसकर इनमे से रस निकाले, फिर इस रस में थोड़ा गुड़ मिलाये. दोनों को अच्छे से mix कर के छोटी-छोटी गोलियां बना लें. मलेरिया बुखार में इसका सेवन रोजाना सुबह के वक्त करना चाहिए.

मलेरिया बुखार में खाना कम खाना चाहिए, और फलो का ज्यादा सेवन करना चाहिए. ऐसा करने से किडनी में मौजूद मलेरिया वायरस ख़त्म होता है जिससे मलेरिया से जल्द ही छुटकारा मिल जाता है.

फिटकरी का असरकारी इलाज

भारत में फिटकरी को ज्यादातर दाड़ी (Beard) बनाने के काम में लिया जाता है. वैसे शायद बहुत कम लोग यह जानते होंगे की फिटकरी भी मलेरिया ट्रीटमेंट में काम आती होगी . (क्योंकि इसमे भी इलाज करने वाले पदार्थ पाए जाते हैं). फिरकारी का उपयोग करने के लिए जरुरी हैं की आप इसे बारीक पीस लें, इसको इतना पिसे की यह Powder के जैसे दिखने लगे. फिर इस घरेलु उपाय का उपयोग इस तरह करे –

मलेरिया बुखार आने के दो घंटे बाद और मलेरिया बुखार आने के 4 घंटे पहले. (यानी की बुखार आने के पहले ही हमें लग जाता है की अब मुझे बुखार आएगी तो जब आपको ऐसा लगे तो फिटकरी के Powder का उपयोग करे.

Fasting With Orange Juice

ऐसा माना जाता हैं की मलेरिया में व्रत (Fast) रखने से मलेरिया के virus ख़त्म (निष्क्रिय) हो जाते है. वैसे भी फास्टिंग करने के और भी बहुत से स्वस्थ्य लाभ होते हैं. अगर आप अपनी लाइफ स्टाइल में सप्ताह में एक दिन व्रत रखना शुरू कर दें तो आपको कोई सी भी बिमारी आसानी से नहीं पकड़ पायेगी.

इसलिए इस fasting को मलेरिया के आयुर्वेदिक इलाज में गिना जाता हैं. आपको यह fasting सिर्फ orange juice के सहारे करना होती है, पुरे दिन व रात बूख लगने पर सिर्फ orange juice पिए.

अदरक से मलेरिया का उपचार करे

जब बात आती है मलेरिया बुखार के लिए आसान घरेलु नुस्खे की तो पहला नाम आता “अदरक के काढ़े का”. अदरक का यह घरेलु उपाय शरीर में मलेरिया Virus से हुए संक्रमण (Infection) को रोकने और उससे Recovery कराने में बहुत मदद करता है.

कैसे लें – एक ग्लास पानी लें और इसमे अदरक का आधा टुकड़ा मिला दें और फिर इसमे 3 चम्मच किशमिश मिला लें. अब इसको अच्छे से उबाल लें, जब यह पानी आधा रह जाए तो इसका सेवन करे. (अदरक के इस उपयोग को काढ़ा कहा जाता हैं)

चकोतरा (Gharelu Nuskhe For Malaria)

Grapefruit का सेवन मलेरिया के Virus (संक्रमण) को रोकन और नियंत्रित करने में बहुत उपयोगी होता है. यह मलेरिया बुखार को फेलने से रोकता हैं.

मलेरिया के लिए जो Qunaine की medicine होती है और जो पदार्थ इस qunaine में होते है वही पदार्थ इस Grapefruit में पाए जाते हैं इसलिए इस आयुर्वेदिक औषधि को malaria fever treatment के लिए अमृत समान माना जाता है.

Chirayta – चिरायता का घरेलु उपाय

चिरायता के बहुत से स्वास्थ्य लाभ होते है, इस herbal को “स्वेर्टीअ एंड्रोग्राफिस पानिकलता” के नाम से भी जाना जाता है. मलेरिया के जिस रोगी को रुक-रुक कर मलेरिया बुखार आने की शिकायत होती हैं उनके लिए मलेरिया का यह उपाय बहुत असरकारी होता हैं, दूसरा फायदा यह होता है की बुखार में यह शरीर के तापमान को बढ़ने नहीं देता है तो इस तरह चिरायता मलेरिया को खत्म करता हैं.

चिरायता

कैसे लें – आपको इसका अर्क बनाना होता हैं. 15 ग्राम चिरायता लें और इसे 250 ML गर्म पानी में डाल दे. फिर इसमे 2 लौंग और एक छोटी चम्मच दालचीनी का powder मिला दें. 3-4 minutes तक इसको ऐसे ही उबलते रहने दें. फिर रोजाना इस अर्क को 3-4 बड़ी चम्मच दिन में 5 बार सेवन करे.

Fever Nut For Malaria Fever Treatment

Fever nut एक दुर्लभ पौधा हैं, इसके बीजों (seeds) को आप किसी Herbal stores से खरीद सकते हैं. मलेरिया के लिए इस नुस्खे को भी आसान असरकारी माना जाता है. इसका प्रयोग कुछ इस तरह किया जाता हैं – इसके 3-4 grams seeds लें और इन्हें मलेरिया के रोगी को एक कप पानी के साथ दें. इसका सेवन बुखार आने के 2 घंटे पहले करे और फिर मलेरिया बुखार के जाने के 1 घंटे बाद करे.

(बुखार आने से पहले ही रोगी को लग जाता हैं की अब उसे बुखार आएगा तो जब आपको ऐसा महसूस हो तो 2 घंटे पहले ही इस आयुर्वेदिक नुस्खे से मलेरिया का उपचार कर लें.

The Herbal Tea

Herbal Tea जो की मलेरिया के Virus को ख़त्म करने में असरकारी होती है. Herbal tea बनाते वक्त इसमे थोड़ी इमली भी डालें. यह आयुर्वदिक चाय Malaria symptoms से बचाने में मदद करती हैं.

मलेरिया के लिए रामदेव बाबा की दवा

दिव्य ज्वरनाशक क्वाथ – बाबा रामदेव के इस क्वाथ के प्रयोग से भी मलेरिया को दूर किया जा सकता है. इसको आप किसी भी पतंजलि स्टोर्स से आसानी से खरीद सकते है. यह दवा , डेंगू, टाइफाइड आदि सभी तरह के बुखार में बहुत लाभ देती हैं.

मच्छरों से कैसे बचे

यह तो आप जानते ही हैं की मलेरिया बुखार होने के पीछे मच्छरों का ही हाथ होता है. इसलिए मच्छरों से बचने के लिए सभी तरह से बचाव करे, जैसे मच्छरों को भगाने की Coil लगाना, घर में साफ़ सफाई रखना, अपने पुरे शरीर को कपडे से ढँक कर रखना etc. (मलेरिया के मच्छरों से बचना भी मलरिये के उपाय में से एक ही हैं)

मलेरिया से बचाव के लिए क्या और कैसे करे

  • मलेरिया बुखार होने पर ठण्ड से बचने के उपाय करे
  • मच्छरों से बचे Coil आदि लगाए
  • घर में सभी तरह से सफाई बनाये रखे
  • रोजाना अपने Bed (बिस्तर) बदले या साफ़ करे
  • मलेरिया के लिए Blood test कराये और doctor से चेक उप कराये
  • शौच समय पर जाए

(Source : rajiv dixit ji) उम्मीद है दोस्तों आपको बताये गए मलेरिया का इलाज के बारे में पढ़कर बहुत अच्छा लगा हो. इन सब को पढ़कर आप मलेरिया की आयुर्वेदिक व प्राकृतिक चिकित्सा के बारे में बहुत कुछ जान गए होंगे, यह जानना आपको भविष्य और वर्त्तमान में बहुत काम आएगा. इस remedies for malaria treatment in Hindi के लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे.

NEXT PAGE

मलेरिया बुखार से होने वाली कमजोरी और इससे बचने के लिए मलेरिया का असरकारी घरेलु उपचार जरूर करे ताकि यह मलेरिया बुखार ज्यादा न बढ़ पाए. अगर आपको मलेरिया के उपाय से Related कोई Doubts हो तो निचे Comment करे और अपने सवाल का जवाब पाए.

2 Comments

  1. Kanha Gupta
  2. Shalu Gupta
  3. Pingback: बुखार

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.

हमसे Facebook पर अभी जुड़िये, Group Join करे "Join Us On Facebook"