masse khatam karne ka ilaj, बवासीर के मस्से कैसे नष्ट करे, मलद्वार में मस्से का इलाज

मलद्वार में मस्से ख़तम करने का इलाज – बवासीर कैसे नष्ट करे

हम बताने जा रहे हैं सिर्फ तीन सप्ताह में मलद्वार में मस्से ख़तम करने का इलाज के उपाय इन हिंदी में बता रहे हैं यह किसी भी दवा से कम नहीं हैं. अगर आप लगातार रोजाना तीन सप्ताह तक इसका प्रयोग करते हैं तो आपको शतप्रतिशत आराम मिलेगा. आपको इससे सरल व सहज घरेलु उपचार और कहीं पर नहीं मिलेगा. कई लोग बार-बार हमसे पूछते हैं की मस्सो को कैसे नष्ट करे इसके लिए सरल व सहज तरीका बताओ तो उन लोगों के लिए पेश है यह सबसे आसान उपाय.

बवासीर : बवासीर एक ऐसा रोग है जो की अनियमित जीवनशैली के वजह से होता हैं, कब्ज, गैस, एसिडिटी व जेनेटिक आदि कारणों से यह रोग उतपन्न होता हैं. इसके लक्षणों में मलद्वार में छोटी-छोटी फुंसिया जैसी निकल आती हैं व मस्से बन जाते हैं उनमे से रक्त भी बहने लगता है.

masse khatam karne ka ilaj, बवासीर के मस्से कैसे नष्ट करे, मलद्वार में मस्से का इलाज

बवासीर के मलद्वार में मस्से का इलाज और उपाय

Masse Khatam Karne Ka ilaj in Hindi

स्वमूत्र चिकित्सा :

  • यह एक ऐसी चिकित्सा पद्धति हैं जो की लाइलाज बीमारी को भी मिटा देती हैं, इसका प्रयोग बड़े से बड़े रोगों में भी किया जा चूका हैं. गैंग्रीन, खाज, खुजली, चोंट, सफ़ेद दाग, कैंसर आदि जैसे रोगों में भी स्वमूत्र चिकित्सा शतप्रतिशत लाभ दे चुकी हैं. इसका बवासीर में भी प्रयोग किया जा सकता हैं, स्वमूत्र चिकित्सा अधिकतर लोगों को घिन्न से लगती है लेकिन यह किसी आयुर्वेदिक दवा से कम नहीं हैं.
  • एक व्यक्ति को हमने पिछले महीने ही यह प्रयोग करने को दिया था और परिणाम में पाया की सिर्फ 3-4 सप्ताह में रोगी के मस्से सुख गए. ऐसे कई रोगी हैं जिनको इससे लाभ हुआ हैं. तो इस तरह यह स्पष्ट होता हैं की स्वमूत्र यानी खुद के पेशाब के प्रयोग से मस्से से छुटकारा किया जा सकता हैं. इस बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय को कई लोगों ने आजमाया हैं.

1. अपने पेशाब को एक कांच की डिब्बी में भर ले व किसी साफ़ जगह पर एक सप्ताह के लिए ढंककर रख दें फिर एक सप्ताह बाद इस मूत्र में रुई का फोहा या किसी सूती कपडे को भिगोकर अपने मलद्वार में मस्सो के स्थान पर रखें. इस तरह रुई या सूती कपडे को मस्सो पर रखकर अपने मलद्वार की मांसपेशियों को खींचे यानी अश्विनी मुद्रा करे. यह मुद्रा करने से वह पेशाब मस्सो में अच्छी तरह से लग जाता हैं. आप चाहे तो रुई के फोहा या कपडे को मलद्वार पर बांध कर दिन भर इसे ऐसी ही रख सकते हैं यह और भी प्रभावकारी सिद्ध होगा, यह मस्से ख़तम करने की दवा है.

2. बवासीर के मस्से ठीक करने के लिएआप जब भी बाथरूम जाए तो अपने हाथ से अंजलि बनाकर अपने ही पेशाब को इकट्ठा कर लें, यानी अंजलि को पेशाब से भर ले व फिर इसे मलद्वार स्थान पर छिड़के. यानी अपने ही पेशाब से मस्सों को धोये. इस तरह रोजाना दिन में बार-बार मस्से को अपने ही पेशाब से धोते रहने से उसमे शीघ्र लाभ होता हैं, अवश्य ही करे.

3. एक प्लास्टिक का टब लाये और उसे अपने ही मूत्र पेशाब से आधा भर लें, 1-2 दिन के पेशाब से ही वह टब आसानी से भर जाता हैं. तो टब को आधा पेशाब से भर देने के बाद अपने कपड़ो को उतार दे नग्न हो जाए व उस टब में इस तरह बैठे की आप मलद्वार स्थान पूरी तरह पेशाब में डूब जाए. इसके बाद टब में अच्छे से बैठने के बाद मलद्वार की मांसपेशियों को खींचे यानी अश्विनी मुद्रा करिये. इस तरह आप रोजाना 15 से 20 तक पेशाब से भरे इस टब में बैठे तो आप बहुत ही जल्द इससे लाभ होगा.

  • मस्से हटाने के लिए पेशाब का यह सरल प्रयोग आपको घिन्न आने जैसा अवश्य ही लग रहा होगा लेकिन आप यकीं मानिये यह किसी चमत्कार से कम नहीं हैं. मुरारी जी देसाई भी रोजाना एक कप अपना खुद का पेशाब पिया करते थे. यह तो आज के युग में प्राचीन चिकित्सा गुम होती जा रही है लेकिन आज भी यह प्राचीन चिकित्सा उतनी ही कारगर है लेकिन इनके बारे में बहुत कम लोगों को पता हैं.
  • इसके अलावा हमने पिछले लेखों में भी बवासीर के बारे में कई लेख लिखे है व उनमे आयुर्वेदिक नुस्खे व देसी उपचार बताया है. अगर आप बवासीर के मस्से के बारे में सारी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप उन सभी लेखों को अवश्य ही पड़ें. इसके लिए आप Bawasir की Category में जाकर सभी लेख पढ़ सकते हैं या फिर निचे Related Post Section में जाकर उन सभी लेखों को प्राप्त कर सकते है.
  • टब में बैठने के बाद मलद्वार को सींचते रहे, ताकि मलद्वार के अंदर व मस्सों में पेशाब भर जाये. आप इसमें छोटे टब का प्रयोग करे ताकि ज्यादा पेशाब की जरूरत न लगे. आपको सिर्फ इतना बड़ा टब लेना है जिसमे आप आसानी से बैठ जाए व अपने मलद्वार स्थान को उसमे डूबा सके.
  • इस पोस्ट का अगला पेज और पिछले पेज दोनों ही आप एक बार जरूर-जरूर पड़ें.

  • बवासीर में बाबा रामदेव का इलाज  

  • बवासीर में आयुर्वेदिक दवा ऐसे बनाये

तो दोस्तों इस तरह इस प्रयोग को आप 21 दिन तक अवश्य ही करे, पूर्ण आराम पाने के लिए इस प्रयोग को 1-2 महीने तक करे. इस बवासीर के मलद्वार में मस्से का इलाज और सुखाने उपाय khatam karne ke tarike in Hindi को पढ़कर बहुत ही अच्छा लगा होगा. आप इस पोस्ट का अगला और पिछले पेज भी जरूर पड़ें. और इस जानकार को ज्यादा से ज्यादा सभी लोगों तक पहुंचाए.

2 Comments

  1. Ask Your Question
  2. rakesh kushwah

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.