पीलिया का मंत्र, पीलिया झाड़ने का मंत्र, piliya ka mantra,

पीलिया झाड़ने का मंत्र – 7 दिन में पीलिया दूर करने का उपाय

प्रणाम दोस्तों हम यहां आपको सामान्य व काला पीलिया झाड़ना के लिए प्रयोग व कुछ टोटके बताएंगे यानी पीलिया का मंत्र बताएंगे जिसके जरिये आप घर पर ही पीलिया को दूर कर सकते हैं. यह मंत्र सिर्फ सही तरीके से करने व इनका सही तरीके से उच्चारण करने पर ही कार्य करते हैं. यह पीलिया दूर करने के उपाय में से एक हैं

हमने ऐसे कई किस्से सुने व देखें हैं जहां पर मंत्र बोलकर पीलिया झाड़ा जाता हैं. एक थाली में चुने का पानी रख कर वह कुछ मंत्र बोलते हैं और उस थाली का पानी पीला हो जाता है. हम यह तो कह नहीं सकते की यह अन्धविश्वाश हैं या कुछ और लेकिन हम इतना जरूर जानते हैं की हमने ऐसे कई रोगियों को देखा हैं जिनका पीलिया मंत्र से झाड़ने पर ठीक हो गया था.

सबसे आसान पीलिया झाड़ने का मंत्र शाबर प्राचीन

पीलिया का मंत्र, पीलिया झाड़ने का मंत्र, piliya ka mantra,

आप अपने घर के नजदीक कहीं मस्जिद या मंदिर में जाकर भी इस विषय में जानकारी ले सकते हैं. अक्सर मस्जिद में मौलवी जी भी पीलिया झाड़ना का काम करते हैं, उन्हें मंत्र की सिद्धि रहती हैं इसलिए अगर आप उनसे पीलिया झड़वाएंगे तो यह और ज्यादा असरकारी होगा.

साथ ही आप अपने नजदीकी मंदिरों में जाकर भी वहां से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं की क्या वह किसी पीलिया झाड़ने वाले शख्स को जानते हैं, अक्सर पीलिया झाड़ने वाले लोग ग्रामीण होते हैं, यानी पुराने लोग, अधिक उम्र के लोग. इसलिए आप अपने क्षेत्र के वृद्ध व्यक्तियों से भी इस विषय में जानकारी ले सकते हैं.

अब हम बात करते हैं पीलिया झाड़ने का मंत्र के विषय में, अगर आपको ढूंढने पर यह लोग न मिले तो हम जो मंत्र बता रहे हैं इनका आप घर पर ही खुद ही प्रयोग कर सकते हैं (शाबर). यह मंत्र हमने प्राचीन ग्रंथों में से लिया हैं, इन ग्रंथों में कई रोगों के मंत्र थे लेकिन यह विलुप्त से हो गए हैं. हमे जैसे जैसे इनकी जानकारी प्राप्त होती हैं, हमे जिस ग्रन्थ में भी ऐसी महत्वपूर्ण जानकारी मिलती हैं हम उसे नोट कर लेते हैं और आपके साथ शेयर करते हैं.

नोट: पीलिया में डॉक्टरी व घरेलु इलाज का भी अपना एक महत्व होता हैं, इसलिए पीलिये को झाड़ना के मंत्र का प्रयोग करते वक्त आप दवाई गोलियों बंद न करे. आप पीलिया दूर करने के मंत्र और डॉक्टरी इलाज दोनों को साथ साथ कर सकते हैं इसमें कोई परहेज जैसी बात नहीं हैं. और जब आप मस्जिद, मंदिर में किसी व्यक्ति से पीलिया झड़वाएंगे तो वह आपको सीके हुए चने जिन्हें अन्य भाषा में भांगड़े भी कहते हैं वह देगा. इन भांगड़े का आपको सेवन करना होता हैं, इनके सेवन से दुगना लाभ होता हैं.

1. पीलिया दूर करने का मंत्र

एक कांसे की बनी कटोरी लें, और इस कटोरी में तिल का तेल मिलाये. कांसे की कटोरी में तिल के तेल को डालने के बाद इसे रोगी के सर पर रख दें और कुशा के जरिये रोगी के शरीर पर उस तेल को लगाते हुए पीलिया का यह मंत्र बोलिये. (कुशा एक घास का तिनका होता हैं, आप इसे पूजा सामग्री की दूकान से खरीद सकते हैं, इसको तिल के तेल में डुबोकर रोगी के शरीर पर ऊपर से निचे तक चलाना हैं)

यह प्रयोग लगातार तीन से चार दिनों तक करते रहने से आखिरी दिनों में यह तेल धीरे-धीरे पीला पढ़ जाएगा, तेल का पीला पढ़ जाना इस बात का संकेत हैं की आपका पीलिया ठीक हो गया हैं. अब में ऐसे अनूठे पीलिया को तीन दिन में ठीक करने के लिए मंत्र के बारे में बताते हैं.

जब सूर्य ग्रहण लगता हैं तब उस समय इस मंत्र को 108 बार जप कर सिद्ध किया जाता हैं. सूर्य ग्रहण इस मंत्र की सिद्धि का योग होता हैं.

Note : दोस्तों इस लेख को आप Facebook, Twitter, Whatsapp आदि पर SHARE जरूर करे, शेयर करने के लिए इस लेख के ऊपर व निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करे. आप का यह एक शेयर कई लोगों को रहत दे सकता हैं.

2. पीलिया झाड़ना हैं तो करे इस मंत्र का प्रयोग

अब हम आपको पीलिया झाड़ना का मंत्र बता रहे हैं जो की इस प्रकार हैं.

piliya ka mantra

प्रयोग विधि : कांसे से बने किसी बर्तन में पानी भर लें, अब नीम के पत्ते ले और उनको सरसों के तेल में भिगो दें. नीम के पत्ते आपको अपने घर के आस पास कहीं भी बड़ी आसानी से मिल जायेंगे, इनमे सरसो का तेल मिलाकर रोगी के शरीर पर नीम के पत्तों के जरिये सर से लेकर पैर तक 7 बार मंत्र बोलते हुए झाड़े. (झाड़ने से अर्थ हैं नीम के पत्तों को सर तक लेजाए और फिर पैर तक लाये इस तरह 7 बार करना हैं)

पीलिया रोग एक भयानक रोग हैं, यह धीरे-धीरे बढ़ता जाता हैं और अंत में रोगी अगर अपनी सेहत का ध्यान न दें तो उसका लिवर फ़ैल हो जाता हैं जिससे रोगी की मौत हो जाती हैं. इसके साथ ही यह रोगी के शरीर की सारी शक्ति क्षीण कर देता हैं, खून की कमी आने लगती हैं, शरीर को पूरी तरह कमजोर कर के रख देता हैं.

#About Piliya

शुरुआत में रोगी के हाथ पिले होने लगते हैं, आंखें पिली पढ़ने लगती हैं, जीभ पर पीलापन आ जाता हैं, नाख़ून पिले होने लगते हैं, थोड़ा सा काम करने पर भारी थकान होने लगती हैं, बुखार आने लगता हैं आदि यह सभी पीलिया होने पर दिखाई देने लगते हैं, पीलिये रोग की पहचान करने के लिए आप यह लेख जरूर पड़ें यहां पर इसके लक्षण के बारे में detail में बताया गया हैं.> पीलिया के लक्षण – 10 Symptoms Of Jaundice

अकसर वह व्यक्ति जो की ज्यादातर बाजार की चीजों का सेवन करते हैं. बाहर का नाश्ता, पानी, चाय आदि के सेवन से उनके शरीर में सूक्ष्म रुपी बैक्टीरिया पहुँच जाते हैं जो की आगे चलकर पीलिया का रूप ले लेते हैं आदि इसके अलावा और भी कारण होते हैं.

#Diet Tips

पीलिया में बहुत सी चीजों का परहेज करना होता हैं, यह उन रोगों में से एक हैं जिनमे खान पान का विशेष ध्यान रखना पड़ता हैं, खासकर तब जब आप पीलिया के मंत्र का उपयोग कर रहे हो. हमने पीलिया में सही भोजन लेने व इस किन-किन चीजों का परहेज रखना चाहिए इन सभी के बारे में इस लेख में पूरी तरह से बताया हैं आप इसे भी जरूर पड़ें >> पीलिया में क्या खाये – Diet in Hindi

दोस्तों आप डॉक्टरी इलाज के साथ साथ इसका प्रयोग भी जरूर करके देखिएगा, पीलिया का मंत्र प्रयोग आसान हैं इसमें आपको कोई परेशानी नहीं आएगी. पीलिया झाड़ना के इन प्रयोगो को कई लोग करते रहे हैं और करते आ रहे हैं.

loading...

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.