kharate ka ilaj, snoring treatment in hindi, kharate in hindi,

नींद में खर्राटे आने का इलाज की दवा और 5 घरलू उपाय

खर्राटे का इलाज करने के उपाय इन हिंदी के बारे में पड़ें  – खर्राटे लेना बहुत बुरी समस्या हैं, यह खुद को तो नुकसान पहुंचाती ही हैं साथ ही आपके पास में सोने वाले व्यक्ति की नींद भी खराब कर देती हैं आइये जाने कुछ घरेलु उपाय के बारे में जिनसे आप इस समस्या से निजात पा सकते है.

खर्राटे ख़राब लगते है वह तो अलग बात हैं पर यह हेल्थ के लिए बहुत खतरनाक होते हैं, अगर किसी व्यक्ति को ज्यादा खर्राटे आते हैं तो सोते-सोते उसकी सांस रुक सकती हैं और इससे मौत भी हो सकती हैं. और यह खर्राटे की समस्या बाद में snoring यानि sleep apnea में बदल जाती हैं, यह बहुत खरतनाक हैं. इसका जड़ से उपचार डॉक्टरों के पास भी नहीं हैं लेकिन कुछ व्यायाम व प्राणायाम व घरेलु नुस्खे होते हैं जिनके जरिये sleep apnea से छुटकारा पाया जा सकता है. आइये जाने इसी के बारे में learn how to avoid snoring during sleep in Hindi.

  • पोस्ट पुरे ध्यान से आखिरी, एन्ड तक पूरा पड़ें.

नींद में खर्राटे क्यों होता है

  • स्नोरिंग यानि खर्राटे लेना एक बहुत बड़ी प्रॉब्लम हैं. पूरी दुनिया में हर पांचवा एडल्ट खर्राटे लेने की बीमारी से ग्रसित हैं. आप सब के लिए यह जानना बहुत जरुरी हैं की खर्राटें हमारी नोज नाक के वजह से नहीं बल्कि गले में सांस की नली बंद हो जाने से होती हैं.
  • जब आप रात को सो जाते हैं तो आपका निचला जबड़ा पीछे की तरफ गिर जाता हैं और आपकी सांस की नली को ब्लॉक कर देता हैं.
  • इससे गले के पीछे सॉफ्ट टिश्यू vibrate होता हैं और हमे उसकी आवाज खर्राटों की तरह सुनाई देती हैं. इस प्रॉब्लम को sleep apnea के नाम से भी जाना जाता हैं.

kharate kyu hota hai, kharate ke karan

नींद में खर्राटे लेना के लक्षण में व्यक्ति के मुंह से सोते समय नाक से खराटे आते है, यानी खरखर घरघराहट की आवाज़ आती है.

खर्राटे के कारण

  • खर्राटे के कारण में सबसे बड़ी वजह हैं ज्यादा गोली दवाइयों का सेवन. अगर आप किसी बीमारी की गोली ज्यादा खा रहे हैं तो इससे भी खर्राटे आने लगते हैं.
  • इसके अलावा शराब का सेवन, गले के ऊतकों के भरी हो जाने से, मोटापे के वजह से, पेलेट का आकर बढ़ने से आई इन करने से खर्राटों की समस्या जन्म लेती हैं, तो यह रहा खर्राटे क्यों आते है ? प्रश्न का जवाब.

नींद में खर्राटे का इलाज और दवा घरेलु उपाय

Snoring Treatment Kharrate in Hindi

snoring treatment in hindi,

  • एक गिलास गर्म गुन-गुना पानी, शहद और हल्दी का पाउडर. इस तरह बनाये खर्राटों की दवा एक चम्मच हल्दी लें और एक गिलास गुन-गुने पानी में मिला दें और एक चम्मच शहद इसमें मिला दीजिये. तो हल्दी, शहद और गुन-गुने पानी की इस दवा को बनाकर रोजाना रात को सोने से पहले व सुबह उठने के बाद पिए. सिर्फ चार दिनों तक इस उपाय को करने से रोगी को 50% आराम मिल जायेगा, इसके साथ ही जब तक खर्राटे दूर न हो जाये तब तक इसका सेवन करे धीरे-धीरे खर्राटे जड़ से ठीक हो जायेंगे.
  • बाबा रामदेव – कपालभाति प्राणायाम और उज्जायी प्राणायाम यह दोनों प्राणायाम नियमित रूप से रोजाना करने से खर्राटे से 100% छुटकारा मिलता हैं. गले को टाइट करके सांस को लम्बा गहरा भरते हैं और सांस को भरने के बाद थोड़ी देर अपनी क्षमता अनुसार सांस को रोक कर के रखते हैं और दाए नाक को बंद कर के बाए नाक से सांस को बाहर छोड़ देते हैं इसीको उज्जायी प्राणायाम कहते हैं. इसको 10 से 15 बार तक किया जा सकता हैं. और किसी किसी को तो खर्राटों की तो इतनी ज्यादा समस्या होती हैं की परिवार में दूसरा कोई व्यक्ति यदि वो सोये तो सो ही नहीं सकते सब को जागना पड़ता हैं.
  • और खर्राटे लेना जब ज्यादा बढ़ जाता हैं तब यह हमारे जीवन को भी संकट में डाल सकता हैं. ऐसे में खर्राटे बंद करना हमारे लिए एक चुनौती हो जाती है. कपालभाति प्राणायाम नियमित रूप से करने से खर्राटे तो 100% अच्छे होते ही हैं थ्रोट इन्फेक्शन, थाइरोइड की प्रॉब्लम, टॉन्सिल की प्रॉब्लम, और भी कई कफ रोगों में बहुत लाभ होता हैं. वैसे करते की समस्या ज्यादातर मोठे लोगों को होती हैं, इनको कफ की वृत्ति ज्यादा होती हैं. तो उज्जायी प्राणायाम से आप कफ की समस्या से भी मुक्ति पा सकते हैं.
  • इसके साथ ही अगर आप अनुम विलोमा प्राणायाम भी करते हैं तो यह और भी अच्छा होगा तो खर्राटे बंद करने के उपचार बाबा रामदेव में आपको कपालभाति प्राणायाम, उज्जायी प्राणायाम और अनुम विलोमा प्राणायाम यह तीनो रोजाना नियमित रूप से करना हैं, इसके अलावा खर्राटे के घरेलु उपाय व नुस्खे हम निचे दे रहे हैं उनको भी आप आजमाकर स्नोरिंग का ट्रीटमेंट कर सकते हैं.
  • अपनी जीभ को मोड़कर पीछे तलुए की तरफ दबाये थोड़ी देर तक पीछे की और ही इसे दबा रहने दें फिर जीभ को आगे के दांत के पास घुमाये व फिर से इसे पीछे की और मोड़कर तालु के पास दबाये. इस क्रिया को रोजाना दिन व रात किसी भी समय, कितने ही बार करने से खर्राटे का उपचार होता हैं. यह 100% लाभ करती हैं. सिर्फ इस छोटी सी क्रिया से हजारों लोगों के खर्राटों को हमने दूर किया हैं, इसलिए खर्राटे से बचने के उपाय में आप इसका प्रयोग जरूर करियेगा.

kharate ki dawa, kharate ka ilaj, kharate ka ilaj in hindi

  • खर्राटों से छुटकारा पाने के लिए अपने सोने के तरीके में बदलाव करना बहुत मददगार होता हैं. इसके लिए कमर के बल सोने की आदत बनाये.
  • किसी भी तरह की गोली का प्रयोग बंद कर दें, ज्यादा गोली दवा खाने से खर्राटे की समस्या पैदा होती हैं, हो सके तो आप नींद में खर्राटे आने की दवा भी न लें व यहाँ बताये जा रहे उपाय को कर सकते है.
  • खर्राटों की समस्या नाक से प्रभावित होती हैं, इसके लिए आपको अपनी नाक की सफाई करते रहना चाहिए. आप शुरुआत में एक महीने तक रोजाना जलनीति करे. इससे नाक से जुडी सभी प्रॉब्लम ख़त्म हो जाएंगी व खरातो में भी लाभ होगा.
  • रात को सोने से पहले गर्म पानी पीकर सोने से खर्राटे नहीं आते हैं, गर्म पानी पिने से मुंह व जबड़े सांस की नली खुली रहती हैं इससे खर्राटे की समस्या नहीं होती.
  • रात को सोने से पहले एक गिलास गुन-गुने पानी में एक चम्मच नमक डालकर कुल्ले गरारे करके सोये, इससे भी सांस की मांसपेशी मुलायम होती हैं व मुंह का जबड़ा खुला रहता हैं.
  • रात को सोने से पहले 1 चम्मच शहद खाकर सोने से भी खर्राटों में आराम मिलता हैं. व दिन में भी रोगी को 2-3 बार शहद का सेवन करना चाहिए या खर्राटे की मेडिसिन के रूप में काम करती हैं.
  • लहसुन व सरसों को तेल को मिलाकर हलकार गर्म करके छाती और गले पर मसाज करे इससे सांस में आने वाली रुकावट ख़त्म होती है व खर्राटे आने बंद हो जाते हैं.
  • 2 लहसुन की कली के छोटे-छोटे टुकड़े कर ले व सरसो के तेल में डालकर गर्म करे जब लहसुन के टुकड़े लालसे हो जाए तो इस तेल से
  • रोजाना रात को सोने से पहले छाती व गले पर मसाज करे.
  • ठन्डे प्रकार के आहार से दूर रहे, आइस क्रीम, कोल्ड ड्रिंक्स, ठंडा पानी, फ्रिज में रखी हुई चीजों का सेवन बिलकुल भी न करे, इन सभी को खर्राटे में नहीं खाना चाहिए.
  • अधिकतर जिन लोगों की आदत मुंह खोलकर सोने की होती हैं उनको ज्यादा ही खर्राटे आते हैं इसलिए हमेशा मुंह बंद करके सोये इससे खर्राटे नहीं आएंगे, खर्राटे आने से कैसे रोके.

खर्राटे से बचने के घरेल उपाय ध्यान दें Snoring in Hindi

  1. तनाव से दूर रहे व मन को शांत रखे, इसके लिए रोजाना ध्यान लगाए
  2. पानी भरपूर मात्रा में पिए
  3. अपना वजन कम करे, मोटापे के वजह से ज्यादातर खर्राटे की समस्या होती हैं
  4. आपको जिस करवट में खर्राटे आते हो उसको बदल कर सोये
  5. सोने का एक समय पक्का करे व सिर्फ रात को ही सोये दिन में सोना छोड़े
  6. रोजाना व्यायाम करे
  7. नमक का सेवन कम से कम मात्रा में करे
  8. रात को सोते समय तकिये का प्रयोग करे, सर को ऊंचाई पर रख कर सोये

यह खाना चाहिए – मछली, सोयाबीन का दूध, अदरक व पुदीना की चाय, शहद का सेवन, हल्दी के गरारे, प्याज का सेवन व हरी सब्जियों का सेवन इस रोग में दवा के रूप में काम करते हैं व खर्राटों को एक हद तक कम करने में बहुत मदद करते हैं.

खर्राटे के नुकसान

  • खर्राटे बहुत ज्यादा आने से मौत भी हो सकती हैं
  • सांस लेने में रुकावट पैदा होती हैं
  • रात में अपने आप नींद खुल जाती है
  • बार-बार नींद खुलने लगती हैं
  • व्यक्ति हलकी नींद ले पाता है जिससे उसे तरोताज़ा महसूस नहीं होती.
  • हलकी नींद आने से कई नए रोग जन्म ले सकते हैं.
  • दिल के दौरे पड़ने का जोखिम बढ़ जाता हैं
  • ब्लड प्रेशर व दिल का आकर बढ़ता हैं
  • दिन में नींद ज्यादा आती है
  • रोगी का स्वाभाव गुस्सैल हो जाता है
  • एकाग्रता से काम नहीं कर पाते है

अगर आप बताये गए नुस्खों को अपनाते है तो आपको पूरा-पूरा आराम जरूर मिलेगा. यह बहुत ही लाभकारी है. इसलिए आप इन खर्राटों पर बताई गई जानकारी को ध्यान में जरूर रखे और जो उपाय दिए है उनको इस्तेमाल कर के देखें.

तो दोस्तों यहां जो नींद में खर्राटे की दवा और इलाज के उपाय snoring treatment remedies in Hindi हैं यह आपको और कहीं भी नहीं मिलेगा, यह आयुर्वेदिक नुस्खे 100% खर्राटों का देसी उपचार करेंगे. इनमे बाबा रामदेव के प्राणायाम अवश्य करे इनको करने से खर्राटे आने बंद हो जायेंगे.

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.

हमसे Facebook पर अभी जुड़िये, Group Join करे "Join Us On Facebook"