f

पेट दर्द के कारण क्या हैं – 14 Stomach Pain Causes in Hindi

Ad Blocker Detected

Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by disabling your ad blocker.

Stomach pain causes यहां हम पेट दर्द के कारण क्या है पेट की समस्या क्यों होती हैं इसकी वजह के बारे में गहराई से जानने की कोशिश करेंगे. यह रोग सामान्यतः अनियमित खान-पान, दूषित भोजन, पेट की खराबी, दवाइयों के साइड इफेक्ट्स आदि से होता हैं. इस का प्रथम कारण हैं “पानी कम पीना” यानी शरीर में पानी की कमी होना. हम आपको फिर से यह बता देना चाहते हैं की पेट के सभी रोग पेट दर्द आदि पानी कम पिने से होते हैं.

हमारे कहने का यह मतलब नहीं हैं की सिर्फ पानी कम पिने से ही पेट दर्द होता हैं, बल्कि हम यह कहना चाहते हैं की अगर व्यक्ति रोजाना पूरी मात्रा में पानी पिता हैं तो उसको पेट के रोग होने की सम्भावना 90% तक कम हो जाती हैं. यानी पानी पेट के रोग को दूर रखता हैं. इसीलिए हमने पेट दर्द का कारण में सबसे पहले पानी कम पिने की आदत को ही आपके सामने पेश किया हैं.

इसके अलावा अनियमित खाना पान भी एक बड़ी वजह हैं (abdominal pain causes). आज के युग में करीबन 85% लोगों का जीवन बिलकुल ही अस्त व्यक्त हो चूका हैं. सुबह का भोजन दुपहर में किया जा रहा हैं और रात का भोजन आधी रात को किया जा रहा हैं. सब कुछ बिलकुल बदल गया हैं, जिसके वजह से ऐसे सभी व्यक्तियों का प्रकृति से तालमेल बिगड़ गया हैं.

पेट दर्द के कारण, पेट में दर्द के कारण, पेट के रोग कारण और उपचार

जानिये पेट दर्द का कारण क्या और क्यों होता है उपचार ? Stomach pain causes in Hindi

इसके वजह से सिर्फ पेट दर्द (stomach pain) ही नहीं बल्कि और भी कई तरह के दर्द शुरू हो जाते हैं, नई-नई बीमारियां व्यक्तियों को घेर लेती हैं. इसके बाद बारी आती हैं “दूषित भोजन” की. दूषित भोजन यानी बासी भोजन, ज्यादा समय का बनाया हुआ भोजन, बाजार का भोजन आदि.

बाजार के भोजन में नाश्ता समोसे, पोहे आदि खाते हैं और बाजार में उड़ रही धुल सीधी इन चीजों पर आकर गिरती हैं, इस धुल में कई तरह के बैक्टीरिया होते हैं, जो की किसी भी स्वस्थ व्यक्ति को बीमार कर सकती हैं. कई लोगों को इनका सेवन करने पर असर नहीं होता, इसके पीछे उनकी पाचन शक्ति होती हैं और कई व्यक्तियों को 1-2 बार दूषित भोजन करने पर ही पेट में दर्द आदि रोग हो जाते हैं.

इसलिए पेट दर्द से बचने के लिए सबसे पहले साफ़-सफाई का ध्यान रखना भी बेहद जरुरी हैं. साफ़ सफाई पर ध्यान नहीं देने से हम बेमतलब की बिमारियों को बुलावा दे बैठते हैं. इसलिए एक तो पानी ज्यादा पीना, साफ़ सफाई से भोजन करना, दूषित भोजन से बचन और पका हुआ भोजन करना आदि इन बातों पर खास ध्यान देना होगा.

Stomach pain causes – यह तो रहे पेट दर्द के सामान्य कारण अब हम आपको थोड़े और कारण बताएंगे जिनके वजह से पेट में दर्द उत्पन्न होता हैं. यह पेट के दाई तरड़, बाई तरफ, निचे निचले हिस्से में, ऊपर ऊपरी हिस्से में आदि कई जगहों पर होता हो in Hindi language.

पेट में दर्द के कारण, पेट दर्द के कारण

संक्षिप्त में यह होते हैं पेट में दर्द होने के कारण Causes in Hindi

  • कब्ज पेट में कब्जियत होना
  • अजीर्ण होना
  • अपचन होना (भोजन ठीक से न पचना)
  • दवाइयों का साइड इफेक्ट्स होने पर
  • पेट में अल्सर की शिकायत
  • दूषित व जहरीला भोजन
  • पेट के किसी अंग में सूजन होने से
  • एसिडिटी में जलन होना
  • पानी कम पीना
  • कच्चा भोजन करना
  • ज्यादा चाय पीना
  • ज्यादा शराब पीना
  • शौच ठीक से नहीं करना (पेट पूरी तरह से साफ़ नहीं होना)
  • Fast Foods का ज्यादा सेवन करने से
  • पेट में गैस बनने से
  • पेट में कीड़े होने पर (बच्चों के लिए)
  • पाचन तंत्र की गड़बड़ी
  • पेट में मरोड़ होने से
  • मासिक धर्म
  • Parasites
  • पित्ताशय की पथरी
  • Pancreatitis (अग्नाशयशोथ)
  • डेरी प्रोडक्ट्स का ठीक से न पचना
  • पेट के किसी हिस्से में पथरी के होने से

कच्चा भोजन करना भी हैं कारण

कच्चा भोजन गंभीर पेट दर्द को जन्म देता हैं. कच्चा व अधपका भोजन ही पेट दर्द का कारण बनता है. सिर्फ भोजन ही नहीं बल्कि वह हर चीज जिसे आप खाते हो वह पूरी तरह से पकी हुई होनी चाहिए. अधपकी रोटियों पेट में जम जाती हैं, फिर धीरे-धीरे यह इकट्ठी होती जाती हैं. इसके कुछ दिनों बाद व्यक्ति को पेट में अचानक तेज दर्द महसूस होने लगता हैं जो की असहनीय होता हैं. और इसके इलाज के लिए तुरंत डॉक्टर को दिखाना पढता हैं.

यह शिकायत ज्यादातर students को देखना पढ़ती हैं. नई उम्र के लड़के घर से बाहर शहर में पढाई करने जाते हैं और वह उनके रूम पर ही भोजन बनाते हैं, इनमे से कई भोजन बनाने में सफल नहीं हो पाते. और रोटी सब्जियों को अधपकी बना लेते हैं फिर इसके सेवन से उन्हें पेट में दर्द होने लगता हैं. इसलिए अगर आप भी एक विद्यार्थी हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखें.

डेरी प्रोडक्ट्स भी पेट दर्द का कारण बनता है

ऐसा कई लोग सोचते हैं की उन्हें डेरी प्रोडक्ट्स खाने से कुछ नहीं होता लेकिन असल में डेरी प्रोडक्ट्स पचने में बहुत भारी होते हैं, और यह सिर्फ अच्छे पाचन शक्ति वाले व्यक्ति को ही पच पाते हैं. इसलिए अगर आप दूध, घी आदि डेरी की चीजों का सेवन करते हो तो उनका सेवन बहुत कम कर दें. (एक बार अपने पाचन तंत्र को ठीक से मजबूत बना लें फिर आप इनका सेवन कर सकते हैं).

Medicine Side Effects – दवाइयों का असर

पूरी दुनिया में ऐसी कोई सी मेडिकल दवाई नहीं होगी जो की नुकसान न पहुंचाती हो. हर एक दवाई नुकसान देती हैं लेकिन हमें वह नुकसान उस दवाई से होने वाले फायदे से छोटा लगता हैं इसलिए हम उसकी और ध्यान नहीं देते. और यह दवाइया सबसे ज्यादा पाचन तंत्र को बिगाड़ती हैं, इसीलिए जो व्यक्ति ज्यादा दवाइयों का सेवन करता हैं उसका शरीर कभी फ़ीट नहीं बन पाता, अच्छी सेहत नहीं बन पाती.

ऐसा आपने भी देखा होगा जो ज्यादा दवाइयों का सेवन करते हैं उनका शरीर फूल जाता हैं, मोटा हो जाता हैं. लेकिन असल में वह मोटापा स्वस्थ मोटापा नहीं कहा जा सकता हैं. वह केवल दवाइयों का साइड इफ़ेक्ट होता हैं. ठीक इसी तरह पेट दर्द के विषय में भी होता हैं. यह दवाइयों पाचन प्रणाली को अस्त व्यस्त कर देती हैं.

अब के समय में हम जरा सा बुखार, सर दर्द, सर्दी खांसी आदि कुछ भी थोड़ी सी सेहत बिगड़ जाने पर ही दवाई का सहारा ले लेते हैं. एक वह समय था जब व्यक्ति दवाइयों का सेवन सिर्फ गंभीर स्थिति में करता था और एक आज समय हैं. छोटी-छोटी बीमारी पर दवा लेना, ऐसा करने से हमारे शरीर की आदत बिलकुल बिगड़ गई हैं. इसको सुधारने के लिए अपनी संकल्प शक्ति शारीरिक क्षमता को बढ़ाये. यूं बार-आर दवाइयों का सेवन करना बिलकुल ठीक नहीं होता.

परजीवी कीटाणु के कारण भी होता है दर्द

आप यह सोच भी नहीं सकते की की पेट में दर्द परजीवी के वजह से भी हो सकता होगा. लेकिन यह सच हैं यह परजीवी पेट में पहुंचकर दर्द उतप्पन करते हैं. ऐसा सभी के साथ नहीं होता लेकिन कई लोगों को इसी वजह से दर्द होता हैं. जब हम कही नदी में नाह रहे होते हैं, स्विमिंग पूल में नाह रहे रहे हो और ऐसे में मुंह में पानी चला जाए तो parasites पेट के अंदर पहुंच जाते हैं.

साथ ही किसी जगह पर किसी कारण या मज़बूरी में पानी पिने के वजह से भी यह parasite शरीर में प्रवेश कर जाते हैं. क्योंकि इन जगहों पर पानी खुला व गन्दा भरा हुआ रहता हैं. कई दिनों तक इनकी सफाई नहीं की जाती हैं आदि इस वजह से इनमे परजीवी जन्म ले लेते हैं. (परजीवी से होने वाले पेट दर्द ज्यादा गंभीर नहीं होता लेकिन इसके लिए भी सही इलाज की जरूत होती हैं).

Appendicitis

Appendicitis जो की बच्चों में ज्यादातर पाया जाता हैं. इसके वजह से भी पेट के बीचो बिच दर्द होने लगता हैं. यह बड़ों को यानी ज्यादा उम्र के व्यक्तियों को भी हो सकता हैं. Appendicitis भी बैक्टीरिया आदि के वजह से ही होता हैं.

अल्सर भी पेट में दर्द होने का कारण होता

 

अल्सर के वजह से भी व्यक्ति को पेट के ऊपरी भाग में दर्द होता हैं, यह दर्द भोजन करने के बाद व रात को कभी भी हो सकता हैं. यह अल्सर छोटी आंत के पहले भाग में होती हैं. यह दर्द (H. pylori) बैक्टीरिया के वजह से होता हैं.

जहरीला भोजन (Food Poisoning)

इस बारे में हमने आपको ऊपर बताया हैं की किसी भी तरह का दूषित भोजन, बासी भोजन पेट में दर्द का कारण बनता हैं. इसलिए यहां हम आपको सिर्फ इतना ही कहना चाहेंगे की ताज़ा भोजन करे, साफ़ पानी पिए, साफ़ सफाई से भोजन बनाये, सब्जी को साफ़ पानी से धोकर बनाये. घर से बाहर का भोजन पूर्ण सावधानी से करे आदि.

ठीक से पेट साफ़ न होना

यह पेट में दर्द होने का सबसे आम कारण हैं. अनियमित जीवनशैली के वजह से व्यक्ति सुबह के समय ठीक से पेट साफ़ नहीं कर पाता. यानी आधा मल पेट की आंतों ही रह जाता हैं. धीरे-धीरे यह आंतों में ही सड़ने लगता हैं जिससे बदबूदार गैस भी बनने लगती हैं व साथ ही भूख लगना कम हो जाती हैं. इसके साथ ही पेट में दर्द भी होने लगता हैं. इसके लिए जरुरी हैं की आप रोजाना नियम से पेट साफ़ करते रहे. पेट साफ़ करने के लिए आप यह जानकारी जरूर पड़ें – त्रिफला चूर्ण से पेट साफ़ कैसे करे.

कब्ज, अजीर्ण, अपचन, बदहजमी

 

यह चारों रोग आपस में काफी मिलते जुलते हैं. यह पेट के ही रोग हैं, जो की अनियमित जीवन शैली के वजह से उत्पन्न होते हैं. इनकी वजह से भी पेट में दर्द होता हैं. यानी जब यह रोग अपने चरम बिंदु पर आ जाते हैं तो पेट दर्द को भी जन्म दे देतें हैं. जैसे की बुखार की ठीक से देख-भाल नहीं करने से टाइफाइड हो जाता हैं ठीक वैसे ही इन रोगों की देखभाल नहीं करने से पेट दर्द होने लगता हैं. अगर आपको भी यह रोग हैं तो इनका उपचार भी करिये, उपचार करने के लिए जो रोग आपको हैं यहां उस पर क्लिक करे और उसके बारे में इलाज जाने >> कब्ज (कब्जियत), अजीर्ण, अपचन, बदहजमी,   अग्निमांध.

Pancreatitis Inflammation

अग्न्याशय की सूजन ऊपरी या मध्य पेट में दर्द का कारण बन सकती है. इससे बचने के लिए व्यक्ति को अल्कोहल छोड़ देना चाहिए. साथ ही कोल्ड ड्रिंक्स चाय वगेहरा का सेवन भी बहुत कम कर देना चाहिए.

एसिडिटी – Causes of Stomach Pain

एसिडिटी भी पेट दर्द के जैसी होती हैं, पेट में आग से मचा देती हैं. इसके वजह से भी पेट दर्द होने लगता हैं. हालांकि एसिडिटी से होने वाला दर्द ज्यादा खतरनाक नहीं होता लेकिन फिर भी यह आपके चैन छीन लेता हैं. अगर आपको भी पेट दर्द के समय पेट में जलन महसूस होती हैं या भोजन करने के बाद पेट में जलन होती हैं या भोजन के बाद सीने में जलन होती हैं तो आप यह जानकारी जरूर पढियेगा >>> एसिडिटी पेट में जलन और Heartburn सीने में जलन पेट के रोग.

कहीं आपका पेट दर्द पथरी तो नहीं

पथरी से पेट में दर्द होना – अभी के समय में कई लोगों को पथरी की शिकायत हो रही हैं, इसलिए इस बात से आपको भी सचेत रहना चाहिए. व अगर आपको कोई पेट दर्द की कोई घरेलु नुस्खे व दवाई असर न कर रही हो तो डॉक्टर से मिलकर इस बारे में जानकारी लें की कहीं आपके पेट में पथरी का रोग तो नहीं हैं. इस रोग को घर पर आसानी से मिटाने के लिए यह जानकारी जरूर पड़ें >> पथरी का घरेलु इलाज व उपचार  बाबा रामदेव & राजीव दीक्षित.

Stomach pain causes in Hindi – उम्मीद करते हैं आपको पेट दर्द के कारण के बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा हो, हमने पेट में दर्द होने के सभी कारण बताये हैं व यहां पर इससे बचने के लिए इलाज उपचार के बारे में भी जानकारी दी हैं, आपसे गुजारिश हैं की आप उन्हें भी एक बार जरूर पड़ें. टिप – पानी ज्यादा पिए, पेट साफ रखे, साफ़ सफाई से भोजन करे, भूख लगे पर ही खाना खाये. पेट रोगों से बचने के लिए रोजाना सुबह उष्ण पान भी करे और भोजन करते वक्त बार बार पानी न पिए.

loading...

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.