typhoid bukhar ka ilaj

100% टाइफाइड का इलाज 20 घरेलु उपाय और नुस्खे हिंदी

typhoid ka ilaj in hindi, typhoid ka gharelu upay

टाइफाइड, मियादी, मोतीझराTyphoid बुखार का इलाज & उपाय – टाइफाइड जिसे हम हिंदी language में मियादी बुखार, मोतीझरा बुखार और ग्रामीण क्षेत्र में महाराज बुखार कहते हैं हम यहां इसके बारे में आपको पूरी information & guide देंगे. यह टाइफाइड फीवर ज्यादातर सामान्य बुखार आने पर उसकी देखभाल नहीं करने से होता हैं. इसके साथ ही इसके और भी बहुत से कारण होते हैं.

लेकिन ज्यादातर मोतीझरा, मियादी बुखार सामान्य बुखार आने पर उसकी ठीक से देखभाल नहीं करना, बुखार की दवाई के पुरे Course का सेवन नहीं करना, बुखार के समय देख रेख से नहीं रहना, ठंडा पानी पीना व नहाना, अगर आपको सामान्य बुखार है और आप इन छोटी-छोटी बातों को नज़रंदाज़ करेंगे तो स्वाभाविक रूप से टाइफाइड बुखार में बदल जाएगा.

प्राकृतिक असरकारी टाइफाइड बुखार का इलाज इन हिंदी में सरल घरेलु उपाय

Content

टाइफाइड फीवर आम सामान्य बुखार से कई गुना ज्यादा खतरनाक होता है. समय पर टाइफाइड बुखार का इलाज नहीं करवाने पर मरीज की मौत भी हो सकती हैं.

इसके साथ ही टाइफाइड बुखार Salmonellae typhi bacteria से होने वाले infection के कारण भी होता हैं. या यूं कहें की देख रेख न रखने से शरीर में यह बैक्टीरिया अपना प्रभाव जमा लेता हैं जिसकी वजह से बुखार टाइफाइड में बदल जाता हैं.

यह बैक्टीरिया इंसान के शरीर के intestines और bloodstream body parts में रहता हैं. यह बैक्टीरिया छुआछूद, बीमार व्यक्ति का झूठा पानी पिने आदि से भी दूसरे व्यक्ति के शरीर में पहुंच जाता हैं, और उसे भी बीमार कर देता हैं.

जानिये बुखार टाइफाइड के घरेलु नुस्खे & उपाय इन हिंदी में

  • Typhoid Ka Bacteria Virus

Salmonellae typhi bacteria सिर्फ इंसान के शरीर में ही पाया जाता हैं, और इसके infection भी सिर्फ मानव शरीर को ही हो सकते हैं बाकी किसी भी जानवर को टाइफाइड बुखार नहीं हो सकता हैं. इस मियादी, मोतीझरा टाइफाइड का इलाज समय पर न होने से हर साल 1-4 मरीज मारे जाते हैं

Salmonellae typhi bacteria इंसान के शरीर में मुंह के जरिये शरीर में प्रवेश करता हैं. यह 15-20 दिनों तक Intestine में रहता हैं. इस बिच यह अपने आपको प्रभावी बना लेता हैं और फिर intestinal wall और bloodstream पर आक्रमण करता हैं. ऐसी situation में मरीज (patients) को खून की जांच या पेशाब की जांच करवा लेना चाहिए. ऐसा करने पर रोगी समय रहते टाइफाइड का देसी, आयुर्वेदिक इलाज या होम्योपैथिक ट्रीटमेंट करवा सकता हैं. लेकिन इन सब से पहले उसे टाइफाइड की जांच जरूर करवा लेना चाहिए.

अब आपने टाइफाइड क्या होता है और क्यों होता है इस विषय में अच्छे से जान ही लिए अब हम आपको इसके लक्षण और कारण के बारे में बताएंगे

हमारे देश भारत में टाइफाइड की definition होती हैं – बुखार बिगड़ जाना. यानी सामान्य बुखार आने पर उसकी ठीक से देखभाल व इलाज न करवाने पर बुखार बिगड़ जाता है. इससे बैक्टीरिया और बढ़ जाते है और फिर रोगी को परास्त कर देते हैं.

टाइफाइड होने की वजह (कारण)

  1. यह बुखार गन्दा पानी पिने से भी होता है
  2. ख़राब बासी भोजन करने पर
  3. Expired foods का सेवन करने से
  4. किसी बीमार ब्यक्ति का झूठा पानी पिने से
  5. यात्रा करते समय पिए जाने वाली दूषित पानी से
  6. घर व Kitchen में साफ़ सफाई न रखने से
  7. सामान्य बुखार होने पर उसकी देखभाल न करने से
  8. सर्दी खांसी जुकाम को अनदेखा करने से
  9. सामान्य बुखार आने पर इलाज नहीं करवाने से
  10. आदि वह छोटी-छोटी आदतें जिनपर हम बीमार होने पर ध्यान नहीं देते हैं

इससे बचने के लिए क्या करे

कारण जान लेने के बाद हमे इन कारणों से कैसे बचे इसके बारे में भी जान लेना चाहिए. ताकि भविष्य में टाइफाइड मियादी, मोतीझरा बुखार से बचाउ किया जा सके.

  1. सर्दी जुकाम होने पर इनका समय पर इलाज करवाये. ज्यादातर बुखार की शुरुआत सर्दी खांसी की देखभाल नही करने से ही होती हैं.
  2. सामान्य बुखार आ जाने पर उसके पुरे Treatment के साथ Course लें. ऐसा न करे की थोड़ा सा आराम हो जाने पर आप दवाई लेना
  3. बंद कर दे. ज्यादातर बुखार ऐसे ही बिगड़ता हैं थोड़ा सा आराम हो जाने पर रोगी बजाय आराम करने के खुली हवा में घूमने फिरने लगता हैं. जिससे बुखार फिर पलट कर आता हैं और इस बार वह टाइफाइड के नाम से रोगी को घेर लेता हैं.
  4. कुछ भी खाने से पहले हाथ धोकर ही खाये
  5. किसी मरीज का झूठा भोजन व पानी कभी न पिए
  6. आदि इन चीजों को ध्यान में रखे

अब बारी आती हैं मोतीझरा टाइफाइड के लक्षणों के बारे में जानने की. इस विषय में हर एक व्यक्ति को जानना चाहिए ताकि जब भी उसे बुखार आये तो वह अपने लक्षणों को देख कर यह पहचान सके की कहीं उसे टाइफाइड बुखार तो नहीं हो गया हैं. ज्यादातर लोग इसी वजह से मारे जाते हैं वह समय पर इस बुखार के लक्षण को जान नहीं पाते और जब उन्हें इसका आभास होता है तब तक टाइफाइड बुखार के इलाज के लिए बड़ी देर हो जाती हैं (टाइफाइड फीवर ट्रीटमेंट).

लक्षण (Typhoid Signs)

Salmonellae typhi Bacteria के प्रभावी होने के 1-2 सप्ताह बाद से यह शरीर में लक्षण दिखाने लगता हैं. शारीरिक कमजोरी व धीमा बुखार आने लगता हैं आदि निचे पूरा पढ़िए.

  1. भूख खुलकर नहीं लगना, बहुत बार तो भूख का आभास ही नहीं होता
  2. सिर में दर्द होना
  3. शरीर के सभी हिस्से हाथ, पैर, कमर आदि दर्द करने लगते हैं
  4. पूरा शरीर थकान से भर जाता हैं. थोड़ा सा काम करने पर भी भारी थकान होने लगती हैं
  5. 104 degree का बुखार आना
  6. पुरे दिन भर हल्का धीमा बुखार बने रहना
  7. धीमा बुखार शरीर हल्का गर्म रहना टाइफाइड बुखार होने का सबसे बड़ा लक्षण होता हैं
  8. दस्त लगना
  9. धीरे-धीरे कुछ सप्ताह के बाद 24 घंटे बुखार बने रहना

आदि यह आम लक्षण होते हैं जिन्हें पहचान कर आप इस बुखार के होने का प्रमाण पा सकते हैं. अगर आपका शरीर ज्यादातर हल्का गर्म रहता हैं तो यह साफ़ संकेत देता है की आपको टाइफाइड बुखार हैं इसके लिए आप तुरंत डॉक्टर से मिले और check up करवाने के बाद इस बुखार का इलाज करे.

टाइफाइड के इलाज के लिए क्या करे Medical Treatment

typhoid bukhar ka ilaj

टाइफाइड बुखार के लिए Antibiotics होते हैं जिनके जरिये अब जल्द ही इस बुखार से छुटकारा पाया जा सकता हैं. पहले के समय में एंटीबायोटिक्स नही हुआ करते थे इसलिए ज्यादातर टाइफाइड के मरीज मर जाय करते थे.

जैसे ही आपको अपने शरीर में टाइफाइड के लक्षण दिखाई देने लगे तो तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर को दिखाए व खून पेशाब की जांच करवाये.

  • गर्मी आने पर पूरी तरह से पसीने को आने दें
  • जब तक आप पूरी तरह ठीक न हो जाओ तब तक न नाहये
  • समय पर दवाइयों का सेवन करे
  • इस बिच अगर बुखार में कोई सुधर न लगे तो फिर से खून की जांच करवाये

अब तक आपने मियादी, मोतीझरा बुखार (Typhoid) के होने की वजह और लक्षण के बारे में जाना अब हम आपको टाइफाइड बुखार का देसी व आयुर्वेदिक इलाज के बारे में बताएंगे. टाइफाइड के घरेलु उपाय व नुस्खे से आप टाइफाइड फीवर का ट्रीटमेंट तो नहीं कर सकते लेकिन यह इस टाइफाइड में आपको बहुत राहत दिलाएंगे. टाइफाइड के घरेलु नुस्खे के जरिये आप जल्दी से जल्दी ठीक हो सकते हैं यानी Recovery हासिल कर सकते हैं.

टाइफाइड में इन नुस्खे का उपयोग करे

इन नुस्खे व आयुर्वेदिक उपाय को अपनाने से बुखार के दौरान आपको कमजोरी महसूस नहीं होगी. मुंह भी ख़राब नहीं होगा. इसलिए आपको हम यह Advice देते हैं की मेडिकल ट्रीटमेंट के साथ इन आयुर्वेदिक नुस्खे को जरूर अपनाये.

टाइफाइड, मियादी, मोतीझरा

तुलसी का काढ़ा पिए

  • 20 तुसली के पत्ते
  • 5 ग्राम रस गिलोय वाली निम का
  • छोटी पीपर के 10 टुकड़े
  • सोंठ 10 ग्राम

इन सब को आपस में अच्छे से मिला लें, 1 ग्लास में इन सब चीजों को डालकर अच्छे से उबाल लें. यह काढ़ा सभी तरह के बुखार में बहुत असरकारी होता हैं. इसका सेवन करने के बाद पानी न पिए. न कुछ खाये.

टाइफाइड का इलाज बताये – 100% असरकारी काढ़ा

  1. 4-5 मुनक्का
  2. 8-10 अंजीर
  3. 1-2 ग्राम खूबकला

इन तीनो को बताई गई मात्रा में लेकर चटनी की पट्टी पर पीसले. इसको अच्छे से पीसने के बाद इसको खा ले. सिर्फ ५-६ दिनों तक इसका सेवन करने पर आपको टाइफाइड बुखार ख़त्म हो जायेगा. यह बाबा रामदेव द्वारा बताया गया हैं.

पतंजलि की घनवटी दवाई को पतंजलि स्टोर्स से खरीद लें और उनसे यह भी जान ले की इसे किस तरह से लेना हैं. यह टाइफाइड के लिए बिलकुल 100% असरकारी होता हैं. आप इसका उपयोग कर के देख सकते हैं.

लौंग का चमत्कारी उपाय

सर्दी खांसी जुकाम आदि को झट से ख़त्म करने वाला लौंग टाइफाइड बुखार में भी बहुत असरकारी होता हैं. इसमे बहुत से एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो की विषैले बैक्टीरिया को ख़त्म करने में बहुत मदद करते हैं. बुखार में इसका सेवन उलटी, घबराहट और दस्त में भी मदद करता हैं.

इसका उपयोग करने का तरीका

  1. 5-7 लौंग लें और 8 Cup पानी में मिलाये
  2. अब इसे तब तक उबाले जब तक यह पानी आधा न रह जाए
  3. अच्छे से उबाल लेने के बाद जब यह ठंडा हो जाए तो इसका सेवन कर ले
  4. रोजाना इस घरेलु उपाय का सेवन करने से टाइफाइड बुखार के इलाज में बहुत फायदा होता हैं.

किशमिश का असरकारी उपाय

(इसे मुनक्का भी कहा जाता हैं) एक विदेशी वैज्ञानिक के मुताबिक किशमिश का सही ढंग से उपयोग करने मात्रा से टाइफाइड बुखार का इलाज किया जा सकता हैं. इसे वह सबसे असरकारी घरेलु उपाय मानते हैं. वैसे भी किशमिश का आयुर्वेद में ऐसे बहुत से उपयोग बताये हैं जिनसे यह साफ़ होता हैं की टाइफाइड के लिए यह उपाय श्रेष्ठ हैं.

बड़े किशमिश

इसका उपयोग भी बहुत ही आसान हैं सिर्फ आपको रात को सोते समय एक बड़े कप में ठंडा पानी भरकर उसमे किशमिश डालना होती हैं. फिर अगली सुबह उठकर इसका सेवन करना होता हैं. बस इतने से प्रयोग के जरिये आप टाइफाइड बुखार से छुटकारा पा सकते हैं.

अगर आपको इस नुस्खे को अपना ने में कोई संकोच हैं तो आप market में जाकर बड़े किशमिश लेकर आये और इनका दिन में कभी भी जितना चाहे उतना सेवन करे. इनके सेवन से आपको बुखार में बहुत लाभ होगा. यह सालों से अपनाये जा रहा टाइफाइड का उपाय हैं जो की बहुत ही असरकारी होता हैं.

शहद का उपयोग (Gharelu Upay ilaj)

शहद उन औषधियों में से एक हैं जो की ज्यादातर सभी रोगों का उपचार करने की क्षमता रखती हो. बीमारी चाहे कैसे भी हो शहद अपने गुणों से उसका इलाज करने में बड़ी अनूठी भूमिका निभाती हैं. यह बीमारी व्यक्ति की पाचन प्रणाली, किडनी और शरीर के तामपान को नियंत्रण में रखने बहुत लाभदायक होती हैं.

टाइफाइड में शहद का नुस्खा भी बहुत आसान हैं सिर्फ थोड़ी सी शहद को हलके गर्म पानी में मिलाकर सेवन करना होता हैं. इसका आप दिन में कभी भी प्रयोग कर सकते हैं. यह टाइफाइड बुखार के लिए बहुत असरकारी घरेलु उपाय व नुस्खा है, इसे जरूर अपनाये.

तुलसी के पत्ते (Tulsi Leaves)

आयुर्वेद में तुलसी का वैसे ही बड़ा स्थान हैं. क्योंकि इसमे अनूठे गुण होते हैं यह सर्दी जुकाम खांसी सभी में बहुत असरकारी होती हैं. विषैले पदार्थ, Toxins और अन्य Bacteria से बचाव करती हैं. इसके सेवन से रोगी का पाचन तंत्र भी स्वस्थ बना रहता हैं.

तुलसी की 20 पत्तियां लें, इसमे थोड़ा सा अदरक का रस मिलाये और थोड़ा सा पानी डालकर इसे अच्छे उबाले. जब यह उबलकर आधा रह जाए तो इसको पि ले (स्वाद के लिए इसमे आप थोड़ी सी शहद भी मिला सकते हैं). दिन में 3 बार इसका सेवन करने से टाइफाइड बुखार में बड़े असरकारी परिणाम होते हैं.

इसके अलावा आप इस प्रयोग को भी कर सकते हैं – 8-10 तुलसी के पत्तों को लेकर इनका रस निकाल लें. फिर इसमे थोड़ी से कालीमिर्च मिलाकर इसका सेवन करे. इसका सेवन भी दिन में 3 बार करना चाहिए

टाइफाइड भुखार के लिए बाबुल बार्क काढ़ा

बाबुल बार्क में बहुत से औषधीय गुण होते हैं. इन गुणों की मदद से बहुत से दर्द में राहत पाई जा सकती हैं. इसलिए इस औषधि का उपयोग gonorrhea, leucorrhoea, dysentery और diabetes जैसी बिमारियों में भी किया जाता हैं. इसके साथ ही यह diarrhea, Cancer, सर्दी जुकाम, नाक कान दर्द और बुखार से शरीर में होने वाली ऐठन को मिटाने के लिये सर्वोत्तम माना जाता हैं.

इन सब बिमारियों के इलाज के साथ यह टाइफाइड बुखार के इलाज के लिए अच्छा घरेलु उपाय माना जाता हैं. यह Salmonellae typhi Bacteria को ख़त्म करने मैं बड़ी मदद करता हैं. यह 100% प्राकृतिक रेमेडी हैं.

कैसे उपयोग करे

  • बाबुल छाल – 60 ग्राम
  • 2 ग्लास पानी
  • काली मिर्च का पाउडर – थोड़ा सा लें
  1. सबसे पहले बाबुल की छाल को पानी में अच्छे से मिलाकर घोल लें, इसके बाद इसे आग पर उबाले
  2. इसे तब तक उबाले जब तक की यह उबलकर 1 कप जितना न हो जाए
  3. जब यह 1 कप रह जाए तो इसमे काली मिर्च का पाउडर मिलाये
  4. अब इसे थोड़ा ठंडा होने दें. जब यह पिने योग्य हो जाए तो इसका सेवन कर लें.

आपको इस आयुर्वेदिक घरेलु उपाय का दिन में 3 बार 3 दिनों तक भोजन करने से पहले उपयोग करना होगा. यह आपको बहुत आराम देगा.

टाइफाइड का जौ से आयुर्वेदिक इलाज

जौ में अघुलनशील और घुलनशील फाइबर दोनों ही पाए जाते हैं. शरीर के Bowl system को स्वस्थ बनाये रखने में अघुलनशील फाइबर बहुत प्रभावी होता हैं. यह Diabetes, colon cancer, Blood cholesterol आदि में बहुत उपयोगी नुस्खा होता हैं. यह रोगी को बीमारी से होने वाली थकान व कमजोरी से Recovery करने में बहुत मदद करता हैं. यह इन सभी बिमारियों के साथ-साथ टाइफाइड का भी अच्छा घरेलु उपाय होता है जो की प्राकृतिक व आयुर्वेदिक होता हैं.

जौ गेहूं

कैसे करे इसका उपयोग

  • सुखी जौ – 1 बड़ा चमचा
  • सुखी बाजरा – 1 बड़ा चमचा
  • सूखे चने (Gram) – 1 बड़ा चमचा
  1. सबसे पहले सुखी जौ, सुखी बाजरा और सूखे चने को अच्छे से भून लें (Fry) कर लें
  2. इनको भूनकर पाउडर बनाओ
  3. अब चने, बाजरा और जौ को सामान मात्रा में लें
  4. इसके बाद इन्हें गुड़ के syrup या शहद के साथ मिला लें
  5. फिर रोजाना दिन में 3 बार 3 दिनों तक इसका सेवन करे

अमरुद के फूल (Ayurvedic Ilaj)

अमरुद में भी बहुत से औषधीय गुण होते हैं जौ की बहुत सी बिमारियों से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं. यह सर्दी, खांसी, गले की खराश, स्वांस तंत्र आदि से बड़ी आसानी से छुटकारा दिला सकता हैं. अमरुद में Vitamin C और Iron बड़ी भारी मात्रा में पाए जाते हैं जौ की सर्दी और तेज बुखार वाले मरीजों के लिए बहुत लाभदायक होते हैं. अब जानिये अमरुद के फूल के घरेलु उपाय से टाइफाइड बुखार का इलाज कैसे करे.

इसका उपयोग कैसे करे

  • 7 अमरुद के फूल
  • 1 कप बकरी का बिना उबला हुआ दूध
  1. आपको सबसे पहले अमरुद के फूलों को बारीक पिसना हैं
  2. इसको पीसने के बाद इसमे बकरी का दूध मिला देना हैं.
  3. अब इन दोनों को अच्छे से Mix कर लें
  4. Mix करने के तुरंत बाद ही इसका सेवन करले (बाद में यह गुणकारी नहीं होता)
  5. इसका सेवन हमेशा पेट खाली होने पर ही करे
  6. दिन में 3 बार 3 दिनों तक खाना खाने से पहले इस आयुर्वेदिक देसी नुस्खे का टाइफाइड के लिए उपयोग जरूर करे.

बेल के पत्तों से करे इलाज

अगर आपका पाचन तंत्र टाइफाइड बुखार के समय पर बिगड़ा हुआ हैं तो आपको इस आयुर्वेदिक घरेलु उपाय का उपयोग जरूर करना चाहिए. इसके साथ ही यह दस्त, कब्ज, पेट फूलना, और पेचिश के लिए बहुत अच्छा होता हैं. टाइफाइड बुखार में इसका सदियों से उपयोग किया जाता आ रहा हैं यह आज भी उतना ही असरकारी हैं जितना की पहले हुआ करता था.

बेल के पत्तों का उपयोग कैसे करे

  1. 8 बेल के पत्ते लें
  2. इन पत्तो को लेकर अच्छे से बारीक पीस लें, भून लें
  3. अब इन पत्तों में से निकलने वाले रस को अलग किसी ग्लास में भर लें
  4. आप इसमे थोड़ा पानी भी मिला सकते हैं
  5. अब मोतीझरा बुखार के लिए यह आयुर्वेदिक नुस्खा तैय्यार हो चूका हैं. रोजाना इसका दिन में 3 बार 4 दिनों तक 1 चम्मच रस लेकर
  6. सेवन करना हैं.
  • करेले के पेड़ की पत्तियां

करेले की पत्तियां सभी तरह के भुखार में बहुत उपयोगी होती हैं. इनके कड़वेपन में बुखार ख़त्म करने के अनूठे गुण पाए जाते हैं. इसके लिए करेले की पत्तियों के रस को दिन में 2 बार पिए. इसका सेवन आपको तब तक करना हैं जब तक आपकी तबियत पूरी ठीक न हो जाए.

नींबू से करे आयुर्वेदिक उपचार

इसमे बहुत मात्रा में Vitamin C होता हैं जौ की टाइफाइड बुखार के दौरान पाचन तंत्र में होने वाली गड़बड़ को ठीक करने में बहुत मदद करता हैं. नींबू का यह घरेलु उपाय करना भी बहुत आसान हैं. आप चाहे तो इसका रोजाना सुबह के समय भी उपयोग कर सकते हैं.

नींबू को निचोड़कर इसका रस निकाल लें और इसमे थोड़ी सी शहद मिलाये. अब एक ग्लास पानी में इन दोनो को मिलाकर अच्छे से Mix कर के इसका सेवन करे.

  • Dehydration से बचने के लिए Orange Juice

संतरे में तरह-तरह के Vitamins और Minerals होते हैं जो की शारीरिक कमजोरी को दूर करने के साथ-साथ पाचन तंत्र को स्वस्थ करता हैं. इसके साथ ही यह टाइफाइड बुखार में शांति देता हैं जिससे रोगी का मन लगा रहता हैं उसे उदासी नहीं घेरती.

इसका उपयोग भी बड़ा आसान हैं दिन में 3-4 बार संतरे का रस का सेवन करना होता हैं बस. यह आपको बुखार से होने वाली सभी तरह की परेशानियों से छुटकारा दिला सकता हैं.

अदरक और सेब

टाइफाइड बुखार में ज्यादातर Dehydration की समस्या का सामना करना पड़ता हैं. और Dehydration से छुटकारा दिलाने में अदरक और सेब दोनों बहुत उपयोगी होते हैं. इसके साथ ही यह दोनों शरीर के ख़राब पदार्थ (Toxins) को बहार निकालने में बहुत मदद करते हैं.

ऐसे करे उपयोग

  • 1 चम्मच अदरक का रस
  • 1 ग्लास सेब का रस
  1. सबसे पहले अदरक के रस को सेब के रस में मिलाये
  2. अब दोनों को अच्छे से mix कर लें
  3. Mix करने के तुरंत बाद ही इसका सेवन कर ले (बाद में यह असरकारी नहीं होगा इसलिए तुरंत पिले)
  4. जब भी आपको Dehydration से सम्बंधित परेशानी हो तो आपको इसका सेवन करते रहना चाहिए. जितना ज्यादा इसका सेवन
  5. करेंगे उतना ही Dehydration से बचे रहेंगे.
  • अनार का रस

Dehydration से बचने के लिए अनार के रस का भी सहारा लिया जा सकता हैं. यह भी अदरक व सेब के जितना ही प्रभावकारी होता हैं. इसको आप बड़ी आसानी से घर पर या बाजार से प्राप्त कर सकते हैं. इसमे सिर्फ आपको अनार के रस का सेवन करना होता हैं. यह Dehydration में लाभदायक व असरकारी टाइफाइड का घरेलु उपाय हैं. इसके बुरे परिणाम नही होते.

नारियल पानी (Coconut Water)

नारियल पानी में sodium, calcium, potassium, magnesium, fats, electrolyte, और carbohydrates बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते हैं. इसका सेवन Metabolism को भी बढ़ाता हैं. जैसा की हम सब जानते हैं बीमारी हालात में हमारा शरीर बहुत नाजुक व कमजोर हो जाता हैं तो ऐसी स्थिति में नारियल का घरेलु उपाय सबसे बेहतर होता हैं. यह तुरंत शरीर को नई ऊर्जा से भर देता हैं.

  • कब्ज से बचे

बीमार व्यक्ति को यह बात हमेशा ध्यान में रखना चाहिए की उसे किसी भी तरह का भारी भोजन नहीं करना चाहिए. ऐसा ध्यान न रखने पर वह अपनी तबियत और बिगाड़ सकता हैं. शायद आपको पता होगा ही की हर एक डॉक्टर बीमारी हालात में रोगी को हल्का आहार लेने की सलाह देता हैं. उसके पीछे यही वजह होती हैं. इसलिए आपको इस बात पर ध्यान देना चाहिए. आप टाइफाइड में फलों के रस, किशमिश, नारियल पानी, दूध आदि का सेवन कर सकते हैं यह भूख के साथ साथ आपमें ताजगी में लाएंगे.

सिर पर पट्टी रखना

सिर पर पट्टी रखने का यह उपाय कई सालों से अपनाया जाता आ रहा हैं. यह शरीर के तामपान को कम करता हैं व तेज बुखार से छुटकारा दिलाने में बहुत मदद करता हैं. सिर पर पट्टी रखने के इस घरेलु उपाय से टाइफाइड बुखार पर कोई बुरे असर नही पड़ते इसका आप बिना किसी परेशानी के प्रयोग कर के देख सकते हैं.

Sponge on Head

  1. एक हलके कपडे को लेकर ठन्डे पानी में भिगो लें
  2. आप इस कपडे में बर्फ के टुकड़ों को बारीक़ पीसकर भी रख सकते हैं
  3. इसके बाद इस पट्टी को सिर पर रख लें
  4. जब तक तेज बुखार उतर न जाए तब तक आप इस पट्टी को सिर पर रख कर रखे
  5. सिर के साथ-साथ आप इस ठन्डे पानी की पट्टी को हाथ व पैरों के पंजो पर भी रख सकते हैं.

ज्यादा पानी पिए

यह एक स्वाभाविक बात हैं की जब आपको तेज बुखार आएगा तो आपके शरीर में से पसीना निकलेगा और अगर ऐसी अवस्था में आपके शरीर में पानी की कमी होगी तो आप डिहाइड्रेशन के शिकार हो सकते हैं. दूसरी बात यह की बीमारी अवस्था में ज्यादा पानी पिने से शरीर में मौजूद खराब Toxins भी बाहर निकल जाते हैं. इसलिए आपको पानी का ज्यादा सेवन करना चाहिए. अगर आप पानी नहीं पीना चाहते तो इसकी जगह पर ऊपर बताये गए फलों के रस का सेवन कर सकते हैं.

  • Apple Cider Vinegar

टाइफाइड बुखार में सेब के सिरके का उपयोग भी बहुत असरकारी होता हैं. इसमे बड़ी मात्रा में acidic property होती हैं जो की इस तरह के बुखार में बहुत फायदेमंद रहती हैं.

Garlic लहसुन से करे आयुर्वेदिक उपचार

लहसुन टाइफाइड के इलाज के लिए सबसे असरकारी घरेलु उपाय में गिना जाता हैं. लहसुन में antimicrobial properties होती हैं जो की उस बैक्टीरिया को ख़त्म करती हैं जिससे टाइफाइड बुखार पैदा होता हैं. इसके साथ ही यह शरीर में मौजूद खराब Toxins को ख़त्म करने में भी मदद करता हैं.

Garlic

लहसुन के इस नुस्खे का उपयोग भी बहुत आसान हैं. रोजाना खाली पेट 2 लहसुन की कलियों का सेवन करना होता हैं. इसके रोजाना के सेवन से टाइफाइड के बैक्टीरिया का खात्मा होता हैं.

इसके साथ ही आप लहसुन को भूनकर, 1 कप दूध, व 1 कप पानी इनको आपस में मिलाकर अच्छे से उबाल लें जब तक यह 1/4 न रह जाए इसे उबालते रहे. इसका दिन में 3 बार सेवन करना होता हैं.

छोटे बच्चे और गर्भवती महिलाये लहसुन के इन घरेलु उपाय का प्रयोग ने करे..

केले खाये (Banana)

टाइफाइड बुखार में केले का सेवन भी बहुत लाभदायक होता हैं. टाइफाइड से होने वाली कमजोरी को दूर करने के लिए इसका उपयोग भी किया जा सकता हैं. आप एक ग्लास दूध में केले को Mix कर के भी सेवन कर सकते हैं.

Typhoid ilaj treament gharelu upay gharelu nuskhe upchar treatment

Typhoid Bukhar Ke Liye Tips

  • रोजाना दिन में दो बार नींबू और शहद को एक ग्लास गर्म पानी मिलाकर पिए
  • ताज़ा संतरे के रस का सेवन करे, यह आपको डिहाइड्रेशन से बचाएगा
  • ज्यादा मीठी चीजें खाने से बचे
  • हरी पत्तियों की सब्जियों का सेवन करे, उबली हुई सब्जी ज्यादा खाये
  • खाने पिने के मामले में खास सावधानी बरते
  • साफ़ पानी पिए, अगर आपके क्षेत्र में पानी ठीक नही मिलता तो पानी को उबालकर पिए
  • टाइफाइड बुखार के इलाज के दौरान drinking, cigrates आदि के सेवन बचे
  • डॉक्टर द्वारा दी गई सभी दवाइयों का पूरा-पूरा सेवन करे.
  • जब तक दवाइयों का कोर्स पूरा न हो जाए उसको लेते रहे
  • अगर आपको बुखार में आराम नजर न आये तो दुबारा खून व पेशाब की जांच करवाये
  • दूध और dairy products का सेवन कम से कम करे

उम्मीद है आपको टाइफाइड का इलाज इन हिंदी व घरेलु उपाय और घरेलु नुस्खे के बारे में पढ़कर बहुत अच्छा लगा हो. अगर आपको भी टाइफाइड ट्रीटमेंट के बारे में कुछ पता हो तो निचे Comment के जरिये हमारे साथ शेयर जरूर करें. इसके साथ ही Comment के जरिये हमें यह भी बताये की आपको यह जानकारी कैसी लगी क्या यह आपके लिए मददगार हुई.

loading...

39 Comments

  1. Education
    • पदम
  2. MUZAMMIL AHMED
    • hgupay.com
  3. Dhirenkumargamit
  4. Soniya
  5. Soniya
  6. Rahul yadav
  7. Rima
    • Editorial Team
  8. monu
    • Editorial Team
  9. monu
    • Editorial Team
  10. monu
  11. monu
    • Editorial Team
      • Ashok
        • Ask Your Question
  12. manish malhotra
    • Editorial Team
  13. Vikash gupta
    • Baba
  14. Vinod
    • BABA
  15. Mohmmad
  16. santosh
    • BABA
  17. Kajal
  18. RK Verma
  19. reena
  20. Dharmendra
  21. Dharmendra
    • BABA
  22. दिनेश
  23. vijay
  24. Vijay
  25. Dev choudhary
  26. Fhh

Leave a Reply

error: Please Don\'t Try To Copy & Paste. Just Click On Share Buttons To Share This.